पंत के सपनों को अब कौन लगायेगा पंख!

उत्तराखंड के वित्त मंत्री प्रकाश पंत की मौत के साथ ही उनकी ये दिली इच्छा भी अधूरी रह गई। प्रकाश पंत उत्तराखंड के जागेश्वर और बागेश्वर को एक ट्रैक रूट में जोड़कर पांचवां धाम बनाने की ख्वाहिश रखते थे। वित्त मंत्री प्रकाश पंत आखिरी बार 14 जनवरी को उत्तरायणी मेले का शुभारंभ करने के लिए बागेश्वर आए थे। यहां की जनता और जन प्रतिनिधियों ने पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए योजना बनाने की मांग की थी। इस पर उन्होंने आश्वासन दिया था कि अल्मोड़ा के प्रसिद्ध जागेश्वर और कुमाऊं की काशी के बागनाथ मंदिर तक सैलानियों की आमद बढ़ाने के लिए एक रूट बनाएंगे।

यह भी पढ़े …
ठीक होकर आने का वादा किया था, लेकिन साथ छोड़ दिया- मुख्यमंत्री

इसको नाम दिया जाएगा पांचवां धाम। उन्होंने कहा था कि उनकी ख्वाहिश भी है कि उत्तराखंड में चार धाम के साथ एक और पांचवां धाम बनाया जाए। पंत के आश्वासन के बाद बागनाथ नगरी में पर्यटन की उम्मीदें बढ़ीं थीं, लेकिन उनके निधन के साथ ही यह ख्वाहिश भी अधूरी रह गई है।नगर पालिका अध्यक्ष सुरेश खेतवाल ने वित्त मंत्री प्रकाश पंत के निधन पर शोक जताते हुए बताया कि, पर्यटन के लिहाज से पिछड़े जिलों में टूरिज्म को बढ़ाने का उनका लक्ष्य था। इस वजह से उन्होंने देश और दुनिया में मशहूर उत्तरायणी मेले के लिए बागेश्वर को पांचवां धाम बनाने का आश्वासन दिया था। पालिकाध्यक्ष सुरेश खेतवाल ने बताया कि जनता लंबे समय से उत्तरायणी मेले को राजकीय बनाने की मांग कर रही थी। इस पर पंत ने उत्तरायणी मेले को राजकीय मेला घोषित करने के लिए हर मदद का आश्वासन दिया था।

आशाओं की हुई मांग पूरी, वेतन में ₹1000 की वृद्धि

आशा कार्यकत्रियों के मानदेय में एक हजार रूपये की वृद्धि की जायेगी। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत बागेश्वर ने गरूड़ में अटल आयुष्मान उत्तराखण्ड योजना के शुभारम्भ के अवसर पर यह घोषणा की। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश की आशा कार्यकत्रियों को वर्ष 2012-13 से रूकी हुई वार्षिक प्रोत्साहन धनराशि हेतु 33 करोड़ रूपये जारी किये गये। वर्ष 2012 से आशा कार्यकत्रियों को 5 हजार रूपये प्रतिवर्ष प्रोत्साहन राशि देने की योजना शुरू की गयी थी, जिसका कभी भी नियमित रूप से भुगतान नहीं हो पाया। आशा कार्यकत्रियों द्वारा इसकी लगातार मांग की जा रही थी। आशा कार्यकत्रियों की मांग का संज्ञान लेते हुए लम्बित पूर्ण 33 करोड़ की धनराशि जारी की गयी। इससे प्रदेश की 12 हजार आशा कार्यकत्रियों को फायदा हुआ। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने बागेश्वर जनपद की लगभग 65 करोड़ से निर्मित विभिन्न 36 योजनाओं का शिलान्यास एवं लोकार्पण किया।
मुख्यमंत्री ने जनपद बागेश्वर में अटल आयुष्मान योजना का शुभारम्भ किया तथा लाभार्थियों को गोल्डन कार्ड वितरित किये। उन्होंने कहा कि सभी लोग जल्द से जल्द इस योजना के अन्र्तगत अपना कार्ड बनवायें। जिसके लिए जिला प्रशासन एवं संबंधित अधिकारियों को दृढ़ इच्छा शक्ति के साथ कार्य करना होगा। उन्होंने जनता से अपील की कि कुछ लोगों द्वारा इस महत्वकांक्षी योजना के बंद होने की अफवाह फैलाई जा रही है जो बिलकुल निराधार है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा प्रारम्भ की गयी आयुष्मान भारत योजना के अन्तर्गत बीपीएल एवं अन्त्योदय परिवारों को सम्मिलित किया गया था।

राज्य के सभी परिवारों को स्वास्थ्य सुविधाएं मिले इसके लिये प्रदेश में अटल आयुष्मान उत्तराखण्ड योजना शुरू की गयी। इस योजना के तहत प्रदेश के सभी 23 लाख परिवारों को लाभान्वित किया जा रहा है। एक माह में तीन हजार से अधिक लोगों ने इस योजना का लाभ लिया है। उन्होंने कहा उत्तराखण्ड सरकार की इस महत्वाकांक्षी योजना के लिए दिल्ली के प्रसिद्ध अस्पतालों द्वारा भी उत्तराखण्ड सरकार से एमओयू हेतु प्रस्ताव किये जा रहे है जिनमें वेदान्ता अस्पताल दिल्ली भी शामिल है।
बागेश्वर की प्रभारी मंत्री रेखा आर्या ने कहा कि प्रधानमंत्री द्वारा चलाई गयी आयुष्मान भारत योजना के वास्तविक लक्ष्यों को पाने हेतु राज्य में मुख्यमंत्री द्वारा अटल आयुष्मान उत्तराखण्ड योजना का शुभारम्भ किया गया है। जिससे प्रत्येक लाभार्थी चयनित अस्पतालों में अपना एवं अपने परिवार का निःशुल्क उपचार करा सकेंगे। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार का मुख्य लक्ष्य समाज के अन्तिम व्यक्ति को विकास की मुख्य धारा में जोड़ना है जिसके लिए सरकार प्रतिबद्ध है।
इस अवसर पर विधायक चन्दन राम दास, विधायक बलवंत सिंह भौर्याल, जिला पंचायत सदस्य शिव सिंह बिष्ट, जिलाधिकारी रंजना राजगुरू आदि उपस्थित थे।

अव्यवस्था देख नाराज हुई डीएम, ठेकेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने के आदेश

बागेश्वर में जिलाधिकारी रंजना ने राजकीय बद्रीदत्त पांडे स्नातकोत्तर महाविद्यालय का औचक निरीक्षण किया। उन्होंने बीएससी भवन को ठीक करने के निर्देश दिए। नौ साल पहले यह भवन अभी तक महाविद्यालय को हैंडओवर नहीं हुआ है। उन्होंने संबंधित ठेकेदार के खिलाफ विभाग को एफआईआर दर्ज कराने के निर्देश दिए।
डीएम रंजना ने शनिवार को पीजी कालेज का औचक निरीक्षण किया। उन्होंने नौ साल पहले बने बीएसएसी भवन की गुणवत्ता पर सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि प्लास्टर गिर रहा है। छत की ढाल ठीक नहीं है। अभी तक महाविद्यालय को भवन हैंडओवर भी नहीं हुआ है। उन्होंने कार्यदायी संस्था जल निगम को भवन की मरम्मत कराने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि यदि ठेकेदार मरम्मत नहीं करता है, तो उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई जाए। उन्होंने पुस्तकालय देखा तो कंप्यूटर कक्ष धूल से सना मिला। एक साल से कक्ष बंद था। उन्होंने बीएसएनएल को कालेज में वाईफाई सेवा जोड़ने के निर्देश दिए। ई-लर्निंग कक्षाओं का संचालन नहीं होने पर नाराजगी जताई। उन्होंने कहा कि छात्र-छात्राओं को ऑनलाइन की सुविधा नहीं मिल पा रही है। छात्रावास में गंदगी मिली। कूड़ा और खाली बोतल फेंक हुए मिले। उन्होंने स्वच्छता के प्रति कालेज प्रशासन को सावधान किया। डीएम ने कालेज में सीसीटीवी कैमरे लगाने के निर्देश भी दिए। उन्होंने लैब को अपडेट रखने को कहा। उन्होंने कहा कि कालेज को ग्रॉंड दिलाने के लिए शासन स्तर पर बात करने का भरोसा दिलाया। डीएम ने कहा कि कालेज स्तर की समस्याओं को स्वयं ठीक किया जा सकता है। जिला प्रशासन भी इसमें मदद करेगा। उन्होंने पानी टंकी आदि का भी निरीक्षण किया।

ताकुला मोटर मार्ग में केएमओयू की बस मलबे की चपेट आई

बागेश्वर जिले में बारिश से जनजीवन बुरी तरह अस्त-व्यस्त हो गया है। कांडा में एक छात्र गधेरे में बह गया है। एक चरवाहा भी नाले की चपेट में आने से बह गया है। वहीं बागेश्वर-अल्मोड़ा वाया ताकुला मोटर मार्ग में केएमओयू की बस मलबे की चपेट में आने से 50 मीटर खाई में गिर गई है। बारिश से 24 सड़कें आवागमन के लिए बंद हो गई हैं। सरयू व गोमती नदियों का जलस्तर भी बढ़ गया है।


बागेश्वर से हल्द्वानी को जा रही केएमओयू की बस रेखोली के पास भूस्खलन के चपेट में आ गई। मलबे ने बस को करीब 50 मीटर नीचे खाई में धकेल दिया। बस चीड़ के पेड़ पर अटक गई। ड्राइवर ने सूझबूझ का परिचय दिया। गाड़ी में बैठी 20 सवारियां पहले उतार दी। जिससे बड़ा हादसा टल गया। वहीं बीते दिन कांडा में प्राथमिक विद्यालय पंक्चौड़ा से लौट रहा पांचवीं का छात्र स्थानीय नाले में बह गया है। बनेगांव में मवेशियों को चूंगाने जंगल गया युवक भी गधेरे में बह गया है। जिसका शव पिथौरागढ़ जिले के सिमखेत में रेस्क्यू टीम को मिला। वहीं जिले में 24 सड़कों पर मलबा भर गया है। जिससे आवागमन पूरी तरह से बंद हो गया है। देवतोली में भारी भूस्खलन से गांव को खतरा पैदा हो गया है। बारिश से सरयू व गोमती नदियों का जलस्तर भी बढ़ गया है।

पीड़ित परिवार को सीएम ने दी आर्थिक सहायता

बागेश्वर।
मुख्यमंत्री हरीश रावत ने काण्डा तहसील के ग्राम भेंटा करड़िया में मृतक सोहन राम के घर पहुचकर मृतक के माता-पिता एवं उसकी पत्नी से मुलाकात कर मृतक सोहन लाल की मृत्यु पर गहरा शोक व्यक्त किया। उन्होंने शोक संतप्त परिवार केा इस दुःख की घडी में शक्ति प्रदान करने के लिए ईश्वर से प्रार्थना की। इस अवसर पर उन्होंने दुःखी परिवार के प्रति सान्त्वना व्यक्त कर उन्हें सरकार से हर सम्भव सहायता देने क आश्वासन दिया।
मुख्यमंत्री ने मृतक के परिवार को समाज कल्याण विभाग की ओर से अनुसूचित जाति उत्पीड़न योजना के तहत 5 लाख 62 हजार 500 का चैंक तथा राज्य सरकार की ओर से 5 लाख का चैंक मृतक परिवार को सौंपते हुए जिलाधिकारी को इसमें से ढाई लाख का चैक मृतक के माता-पिता का संयुक्त खाता खोलकर उनके खाते में जमा करने तथा ढाई लाख का चैंक मृतक के बच्चों के नाम के खाते में जमा करने के निर्देश दिये। उन्होंने गांव में मिनी ऑंगनबाडी केन्द्र खोलने तथा मृतक की पत्नी की तैनाती इस केन्द्र में करने की घोषणा की। उन्होंने उपस्थित जनसमुदाय का आह्वान करते हुए कहा कि यह परिवार सभी का है हम सभी को मिलकर इस परिवार के साथ खडा होना है।

106a

कहा कि इस बेटी के ऊपर दुःख का पहाड टूट कर आया है मैं मृतक के मॉ-बाप से क्षमा मांगने आया हू इस परिवार की सहायता करना हम सभी की जिम्मेदारी है। उन्होंने मृतक की पत्नी को हिम्मत दिलाते हुए कहा कि उनके बच्चों की शिक्षा-दीक्षा का भी पूरा-पूरा ध्यान रखा जायेगा। कहा कि उन्हें बेटा बनकर हिम्मत जुटानी है हम सब उनके साथ है उन्हें किसी प्रकार की परेषानी नहीं होने दी जायेगी। इस मौके पर विधायक कपकोट ललित फर्स्वाण, जिला पंचायत अध्यक्ष हरीश ऐठानी, राजेन्द्र सिंह टंगडिया, जिला पंचायत उपाध्यक्ष देवेन्द्र परिहार, पूर्व मंत्री रामप्रसाद टम्टा, जिलाधिकारी भूपाल सिंह मनराल, मुख्य विकास अधिकारी एसएसएस पांगती, उपजिलाधिकारी फिंचाराम चौहान, उपजिलाधिकारी गरूड रविन्द्र सिंह बिष्ट आदि लोग मौजूद रहे।

पिण्डारी, कफनी व सुंदरढुंगा ट्रैक रूट की वर्तमान स्थिति खराब

बागेश्वर।
राज्यसभा सांसद प्रदीप टम्टा ने विकासखण्ड कपकोट के सुदूरवर्ती क्षेत्रों का भ्रमण करने के पष्चात विकास भवन सभागार में आयोजित अधिकारियों की बैठक में उक्त स्थानों में पायी गयी विभिन्न कमियों के बारे में अधिकारियों को जानकारी दी तथा इन कमियों को शीघ्र दूर करने के निर्देष दिये।
सांसद ने बताया कि पिण्डारी, कफनी व सुंदरढुंगा ट्रैक रूट की वर्तमान स्थिति काफी खराब है लिहाजा उसे शीघ्रातिषीघ्र दु्रुस्त किया जाय ताकि उस रूट में चलने वाले लोगों को किसी भी प्रकार की परेषानी का सामना न करना पड़े। उन्होंने बताया कि वर्ष 2016-17 में ट्रैक रूट में आये ट्रैकरों की संख्या लगभग 1467 है। उन्होंने कहा कि पर्यटन की दृष्टि से भी इन मार्गों की मरम्मत किया जाना नितांत आवष्यक है क्योंकि ये पर्यटक क्षेत्र होने के कारण यहॉं की अर्थव्यवस्था से सीधे तौर से जुड़े हुए हैं। उन्होंने पर्यटकों के रात्रि विश्राम हेतु बनाये गये फाइबर हट्स, गैस्ट हाउसों, डाक बंगलों और शौचालयों की स्थिति पर भी चर्चा की तथा सम्बन्धित अधिकारियों से मार्गों सहित इन सब का निरीक्षण करने के पष्चात् कमियों को दूर करते हुए उन्हें अधिक से अधिक लाभकारी व सुविधाजनक बनाने के निर्देष दिये।

114

उन्होंने इस वर्ष वर्षाकाल में क्षतिग्रस्त सार्वजनिक मार्गों, भवनों, विद्यालयों, पेयजल, सिंचाई, विद्युत, आदि योजनाओं एवं परिसम्पत्तियों का ब्यौरा तैयार रखने के निर्देष अधिकारियों को दिये ताकि भ्रमण व जॉंच हेतु आ रहे केन्द्र सरकार के दल को वास्तविक वस्तुस्थिति से अवगत कराने में आसानी हो सके।
बैठक में जिला पंचायत अध्यक्ष हरीष ऐठानी, विधायक कपकोट ललित फर्स्वाण, सीडीओ एस.एस.एस. पॉंगती, उप जिलाधिकारी कपकोट कैलाष टोलिया, डीडीओ केएन तिवारी, डीएफओ एमबी सिंह, सीएमओ डा. संजय साह, पर्यटन अधिकारी लता बिष्ट, मुख्य पषुचिकित्साधिकारी डा0 उदय शंकर, कु0मं0 वि0नि0 के सहायक अभियन्ता दीपचन्द्र लोहनी सहित सभी विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।

काण्डा में बीपीएल महिला को मिले गैस कनेक्शन

बागेश्वर।
केन्द्रीय कपडा राज्य मंत्री अजय टम्टा ने काण्डा में प्रधानमंत्री उज्जवला योजना का शुभारम्भ करते हुए कहा कि केन्द्र सरकार द्वारा गरीबों के उत्थान के लिए अनेक योजनाऐं संचालित की गई है। प्रधानमंत्री की मंषा के अनुसार हर योजना का लाभ पात्र व्यक्ति तक पहुॅचना चाहिए। उन्होंने कहा कि उन्ही योजनाओं में से प्रधानमंत्री उज्जवला योजना एक महत्वपूर्ण योजना है। जिसका मुख्य उद्देष्य महिलाओं को सम्मान देना तथा गरीब तबके के वीपीएल कार्ड धारक महिलाओं को इस योजना का लाभ देना। उन्होंने महिलाओं का आह्वान करते हुए कहा कि इसके अलावा जनधन बीमा योजना, अटल पेंषन योजना आदि अनेक योजनाऐं संचालित की गई है जिनका लाभ लेकर गरीब महिलाओं को अपना भविष्य उज्जवल बनाना चाहिए।

113

कालीका मन्दिर परिसर में आयोजित प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के तहत टम्टा ने 26 वीपीएल कार्ड धारक महिलाओं को गैस कनैक्षन वितरित किये जिसमें चूल्हा, रेगुलेटर, गैस सिलैण्डर तथा गैस के कागजात शामिल हैं। गैस प्रबन्धक काण्डा प्रमोद पाण्डे ने बताया कि काण्डा गैस डिपों के अन्तर्गत कुल 1300 प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के गैस कनैक्षन का लक्ष्य प्राप्त हुआ है जिनकी औपचारिकताऐं पूर्ण होने के उपरान्त उन्हंे ऑनलाईन कर वितरित किया जायेगा। इस मौके पर पूर्व कबिना मंत्री बलबन्त सिंह भौर्याल, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष विक्रम सिंह साही, जिला अध्यक्ष भाजपा उमा बिष्ट, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्षा दीपा आर्या, ब्लाक प्रमुख कपकोट मनोहर राम सहित अनेक गणमान्य एवं प्रतिष्ठित व्यक्ति मौजूद थें।