पशु पालन को आर्थिकी का जरिया बनाने के निर्देश

कैबिनेट मंत्री सौरभ बहुगुणा ने मंगलवार को सचिवालय में मत्स्य, डेयरी विकास एवं पशुपालन विभाग की समीक्षा की। इस बैठक में सभी जनपदों के जिलाधिकारी, मुख्य विकास अधिकारी भी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से उपस्थित रहे।
कैबिनेट मंत्री सौरभ बहुगुणा ने प्रदेश में व्यावसायिक बकरी पालन हेतु बकरी घाटियां तैयार किये जाने के निर्देश दिये। उन्होंने बकरियों के उत्पादन, परिवहन व विपणन आदि में सुगमता हेतु वर्तमान में चल रही इससे सम्बन्धित सभी योजनाओं के लिये विशेष क्षेत्र चिह्नित कर उस क्षेत्र को बकरी घाटी कलस्टर के रूप में विकसित करने के भी निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि व्यावसायिक बकरी पालन के माध्यम से स्वरोजगार के अवसर सृजित होंगे, जिससे ग्रामीण आर्थिकी और मजबूत होगी।
कैबिनेट मंत्री ने डेयरी विकास विभाग के अंतर्गत आँचल के दूध एवं दुग्ध पदार्थों की बिक्री हेतु मिल्क बूथों की स्थापना में तेजी लाने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि प्रदेश में दुग्ध समितियों के दुग्ध उत्पादकों को तकनीकी निवेश सुविधाएं उपलब्ध कराये जाने के उद्देश्य से आंचल दुग्ध उत्पादक सेवा केन्द्रों की स्थापना की जाय। उन्होंने समस्त जिलाधिकारियों को जनपदों में आँचल मिल्क बूथ स्थापित किये जाने हेतु सरकारी कार्यालयों एवं शहरी स्थानों में भूमि का चयन करते हुए उपलब्ध कराने के निर्देश दिये। उन्होंने माह सितम्बर तक चारधाम यात्रा मार्गों में उक्त मिल्क बूथ एवं कैफे को स्थापित करने के भी निर्देश सम्बन्धित अधिकारियों को दिये।
कैबिनेट मंत्री सौरभ बहुगुणा ने मत्स्य पालन विकास विभाग के अंतर्गत प्रत्येक जनपद में अमृत सरोवरों के निर्माण संबंधी कार्यों में तेजी लाने के निर्देश दिये। उन्होंने प्रधानमंत्री मत्स्य सम्पदा योजना, जिला योजना एवं राज्य योजना के अन्तर्गत मात्स्यिकी विकास हेतु कन्वर्जन्स कर कार्यक्रमों का संचालन किये जाने के निर्देश दिये। उन्होंने रोजगार की अपार संभावनाओं के दृष्टिगत मात्स्यिकी क्षेत्र के विकास हेतु सभी जनपदों के अधिकारियों से व्यक्तिगत रूप से रूचि लेकर इस योजना को आगे बढ़ने पर बल दिया।
बैठक में सचिव डा वी0बी0आर0सी0 पुरुषोत्तम एवं संबंधित विभागीय अधिकारी उपस्थित रहे।

प्रथम कार्यकाल के दौरान 600 से अधिक जनकल्याणकारी निर्णय लिए-अग्रवाल

मुख्यमंत्री के रूप में एक वर्ष पूर्ण करने पर कैबिनेट मंत्री डॉ प्रेमचंद अग्रवाल ने मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को बधाई दी। इस दौरान मिठाई खिलाकर शुभकामनाएं दी।
मंगलवार को मुख्यमंत्री आवास में हुई मुलाकात में मंत्री डॉ अग्रवाल ने कहा कि राज्य के युवा मुख्यमंत्री के रूप में एक वर्ष का कार्यकाल सराहनीय रहा है। कहा कि सीएम के रूप में प्रथम कार्यकाल के दौरान 600 से अधिक जनकल्याणकारी निर्णय लिए गए। कहा कि ऐतिहासिक निर्णय के चलते ही जनता ने पुनः बहुमत देकर सत्ता में वापसी कराई है।
डॉ अग्रवाल ने कहा कि मुख्यमंत्री की विकासपरक सोच और युवा नेतृत्व के चलते प्रदेश में पहली बार सत्ता में आने का मिथक भी टूटा है। भारतीय जनता पार्टी की लगातार सत्ता में आई है।
डॉ अग्रवाल ने मुख्यमंत्री के 100 दिनों के कार्यकाल की सराहना भी की। इस अवसर पर डॉ अग्रवाल ने सीएम को भविष्य के लिए भी शुभकामनाएं दी। इस दौरान अन्य विषयों पर भी वार्ता हुई। मौके पर मिष्ठान खिलाकर मुँह मीठा भी कराया गया।

चुनाव में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने पर जनप्रतिनिधियों को किया सम्मानित

कैबिनेट मंत्री व क्षेत्रीय विधायक डॉ प्रेमचंद अग्रवाल ने आज जनप्रतिनिधियों को सम्मानित किया। साथ ही विधानसभा चुनाव में अग्रणीय भूमिका निभाकर चौथी बार जीत दिलाने के लिए आभार व्यक्त किया।
मंगलवार को बैराज रोड स्थित कैम्प कार्यालय में कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम में डॉ अग्रवाल ने कहा कि इस बार के विधानसभा चुनाव में अलग-अलग प्रकार की भ्रांतियां फैलाई जा रही थी। भ्रष्ट और आपराधिक प्रवृत्ति के लोग नकारात्मक राजनीति कर लोगों को भृमित करना चाहते थे।
डॉ प्रेमचंद अग्रवाल ने जनप्रतिनिधियों को सम्मानित कर आभार जताते हुए कहा कि विपक्ष के नापाक इरादों को आप सभी ने ध्वस्त किया। कहा कि जनप्रतिनिधियों ने चुनाव में पार्टी की ढाल बनकर काम किया। सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं को घर-घर पहुंचाया।
डॉ अग्रवाल ने कहा कि भाजपा सरकार देश के साथ ही उत्तराखंड में भी मजबूती के साथ आगे बढ़ रही है। जनता ने भाजपा की सरकार पर भरोसा जताया है। हम भी जनता के भरोसे पर खरा उतरने में लगे हैं। पीएम मोदी के नेतृत्व में एक भारत-श्रेष्ठ भारत की परिकल्पना साकार हो रही है। उन्होंने लोकसभा चुनाव 2024 के लिए अभी से जुटने का आवाहन किया। कहा कि हमें जनता के बीच केन्द्र और राज्य सरकार की योजनाओं और उनके अभी तक किए गए स्वर्णिम कार्यों को लेकर घर-घर पहुंचना है।
इस मौके पर ब्लॉक प्रमुख डोईवाला भगवान सिंह पोखरियाल, जिला पंचायत सदस्य दिव्या बेलवाल, ग्राम प्रधान गुमानीवाला दीपिका व्यास, ग्राम प्रधान प्रतीतनगर अनिल कुमार, ग्राम प्रधान चक जोगीवाला भगवान सिंह मेहर, ग्राम प्रधान रायवाला सागर गिरी, ग्राम प्रधान जोगीवाला माफी सोहन सिंह कैंतूरा, जिला पंचायत सदस्य प्रतिनिधि चंद्रकांता बेलवाल, प्रधान प्रतिनिधि हरिपुर कला मनोज जखमोला, प्रधान प्रतिनिधि हरपाल राणा, शांति प्रसाद थपलियाल, बलविंदर सिंह आदि मौजूद रहे।

उत्तराखण्ड में आतिथ्य क्षेत्र में निवेश की संभावनाओं पर सीएम ने निवेशकों से की चर्चा

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने मंगलवार को राजपुर रोड स्थित होटल में उत्तराखण्ड में पर्यटन क्षेत्र के विकास और निवेशकों को बढ़ावा देने के उद्देश्य से उत्तराखण्ड पर्यटन विकास परिषद (यूटीडीबी) की ओर से उत्तराखण्ड में आतिथ्य क्षेत्र में निवेश की संभावना विषय पर चर्चा कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथ प्रतिभाग किया। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि राज्य में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए पर्यटन से संबंधित योजनाओं पर तेजी से क्रियान्वयन के लिए सचिव आर. मीनाक्षी सुंदरम की अध्यक्षता में एक कमेटी का गठन किया जायेगा। जिसमें वित्त, आवास, लोक निर्माण विभाग, पुलिस, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड एवं सबंधित विभागों के अधिकारी सदस्य होंगे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तराखण्ड निवेशकों को सुरक्षित निवेश की गारंटी देता हैं। निवेशकों को हर संभव मदद देने के लिए प्रदेश सरकार प्रयासरत है। प्रदेश सरकार का लक्ष्य आने वाले 5 साल में उत्तराखण्ड को पर्यटन क्षेत्र में सर्वाेपरि बनाने का है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में पर्यटन की संभावनाओं को बढ़ाने के लिए जो भी सुझाव प्राप्त हुए हैं। इन सुझावों को आगे की कार्ययोजना में शामिल किया जायेगा। जो भी समस्याएं पर्यटन क्षेत्र से जुड़े हितधारकों द्वारा रखी गई, उनकी निदान के हर संभव प्रयास किये जायेंगे। सरलीकरण, समाधान, निस्तारण एवं संतुष्टि के भाव से कार्य किये जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तराखण्ड में पर्यटन के क्षेत्र में अपार संभावनाएं हैं। राज्य में हवाई, सड़क एवं रेल कनेक्टिविटी का तेजी से विस्तार हो रहा है। राज्य में हवाई कनेक्टिविटी बढ़े इसके लिए ए.टी.एफ में 18 प्रतिशत की कमी की गई है। उत्तराखण्ड का नैसर्गिक सौन्दर्य पर्यटकों को उत्तराखण्ड आने के लिए आकर्षित करता है। पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए राज्य में पर्यटन नीति लागू की गई है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री के नेतृत्व में देश में नई कार्य संस्कृति आई है। सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास, सबका प्रयास के मूल मंत्र पर देश आगे बढ़ रहा है। प्रधानमंत्री ने कहा कि यह दशक उत्तराखण्ड का दशक होगा। 2025 तक उत्तराखण्ड को हर क्षेत्र में देश को अग्रणी राज्य बनाने के लिए राज्य सरकार प्रयासरत है। सभी विभागों को अगले 10 सालों का रोडमैप बनाने के लिए कहा गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि 3 माह बाद भी पर्यटन क्षेत्र से जुड़े लोगों से संवाद किया जायेगा।
सचिव आर. मीनाक्षी सुंदरम ने कहा कि निवेशकों के लिए सरकार की ओर से बनाई गई नीतियों का सरलीकरण किया जाएगा। जिससे निवेशकों को उत्तराखण्ड में पर्यटन के क्षेत्र में निवेश करने में आसानी हो सके। सचिव पर्यटन दिलीप जावलकर ने कहा कि पर्यटन से उत्तराखण्ड का जहां राजस्व बढ़ता हैै वहीं बड़ी संख्या में लोगों के रोजगार के साधन भी उपलब्ध होते हैं। पर्यटन को उद्योग का दर्जा मिलने के बाद पर्यटन में निवेश की असीम संभावनाएं हैं। कार्यक्रम में पर्यटन क्षेत्र से जुड़े कारोबारियों व निवेशकों ने पर्यटन और प्रदेश में निवेश को बढ़ावा देने के लिए अपने सुझाव भी दिए।
इस अवसर पर सचिव एस.एन. पाण्डेय, पर्यटन क्षेत्र से जुड़े हितधारक एवं विभिन्न राज्यों से आये पर्यटन व्यवसायी मौजूद रहे।

पुराने रेलवे स्टेशन के पास क्षतिग्रस्त सड़क की मरम्मत की मांग

पुराने रेलवे स्टेशन के पास क्षतिग्रस्त सड़क को लेकर कांग्रेसियों ने नाराजगी जताई है। उन्होंने डीआरएम को ज्ञापन भेजकर सड़क बनवाने की मांग की। सड़क बनने तक वैकल्पिक मार्ग खोले जाने की मांग भी की।
मंगलवार को कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने ऋषिकेश रेलवे स्टेशन मास्टर के माध्यम से डीआरएम को ज्ञापन भेजा। एआईसीसी सदस्य जयेंद्र रमोला ने कहा कि गौरा देवी चौक से पुराने रेलवे स्टेशन को जोड़ने वाली सड़क क्षतिग्रस्त है। इससे यहां आए दिन सड़क दुर्घटनाएं हो रही हैं। पार्षद राकेश सिंह ने कहा कि इस खस्ताहाल सड़क के कारण प्रगतिविहार, इंदिरानगर, आशुतोषनगर आदि जगहों के लोगों को परेशानी हो रही है। यहां न ही रेलवे विभाग और न पीडब्ल्यूडी इस सड़क को बनवा रहा है। कहा कि अगर जल्द ही इस सड़क का निर्माण नहीं किया गया तो क्षेत्रवासी आंदोलन करेंगे। वरिष्ठ नागरिक देवेश्वर प्रसाद रतूड़ी ने कहा कि वरिष्ठ नागरिकों को सबसे अधिक परेशानी का सामना करना पड़ता है। कहा कि जब तक सड़क बन नहीं जाती, तब तक यहां वैकल्पिक मार्ग को खोला जाए।
ज्ञापन देने वालों में पार्षद भगवान सिंह पंवार, पार्षद जगत सिंह नेगी, मनीष मिश्रा, शेर सिंह रावत, नरेंद्र सिंह नेगी, गंभीर भंडारी, आदित्य झा, दिग्विजय कैन्तुरा आदि शामिल रहे।

चक जोगीवाला और साहब नगर के नदी किनारे बाढ़ ग्रस्त क्षेत्रों का भौतिक निरीक्षण

कैबिनेट मंत्री व क्षेत्रीय विधायक डा. प्रेमचंद अग्रवाल ने चक जोगीवाला, साहब नगर के नदी किनारे बाढ़ ग्रस्त क्षेत्रों का भौतिक निरीक्षण किया। इस मौके पर मानसून से पूर्व सौंग और जाखन नदी के जल को गांव की उपजाऊ भूमि तक आने से रोकने के लिए चैनललाइजेशन के साथ जीआई वायरक्रेट लगाने के निर्देश दिए गए। साथ ही मौके पर निदेशक राजाजी नेशनल पार्क से दूरभाष पर वार्ता भी की।
सोमवार को मंत्री डा. प्रेमचंद अग्रवाल चक जोगीवाला और साहबनगर के बाढ़ ग्रस्त क्षेत्रों में पहुंचे। डा. अग्रवाल ने कहा कि ग्राम चक जोगीवाला और साहबनगर आबादी क्षेत्र में फैला हुआ है। वर्षाकाल के दौरान सौंग और जाखन नदी की बाढ़ से यहां की आबादी प्रभावित होती है।
बताया कि वर्ष 2013 की आपदा के बाद से नदी का बहाव किसानों की उपजाऊ भूमि की ओर हो गया। जिसके चलते गांव में निवासरत लोगों को खेती बाड़ी का खतरा पैदा हो जाता है।
डा. अग्रवाल ने बताया कि इस क्षेत्र में 450 मीटर लंबी सुरक्षा दीवार का निर्माण होना है, जो बाढ़ सुरक्षा का कार्य करेगी और उपजाऊ क्षेत्र में नदी का बहाव को आने से रोकेगी। बताया कि यह कार्य मानसून के बाद प्रारंभ किया जाएगा।
बताया कि वर्तमान में मानसून से पूर्व इस वर्ष बाढ़ से निपटने को चैनललाइजेशन के साथ जीआई वायरक्रेट लगाई जा रही है, जो नदी से बायें तट की सुरक्षा करेगी। उन्होंने अधिकारियों को जल्द पूर्ण करने के निर्देश दिए। साथ ही मौके पर निदेशक राजाजी नेशनल पार्क से दूरभाष पर वार्ता भी की।
डा. अग्रवाल ने बताया कि नदी के बहाव को किनारे से दूसरी दिशा में परिवर्तित करने के लिए सीसी पर स्पर बनाये जाएंगे। बताया कि यह कार्य 493.37 लाख की लागत से नाबार्ड के द्वारा किया जायेगा।
इस मौके पर सिंचाई विभाग के अधिशासी अभियंता डीसी उनियाल, सहायक अभियंता अनुभव नौटियाल, कनिष्ठ अभियंता दिनेश कुमार, ब्लॉक प्रमुख भगवान सिंह पोखरियाल, पूर्व जिला पंचायत सदस्य देवेंद्र नेगी, प्रधान साहबनगर सोबन सिंह कैंतुरा, क्षेत्र पंचायत सदस्य अमर खत्री, अम्बर गुरुंग, माया राम पैन्यूली, शैलेन्द्र रांगड़, धनेश नेगी, धर्म सिंह चौहान सहित ग्रामीण आदि उपस्थित रहे।

ग्रामीणों ने ट्रंचिंग ग्राउंड के विरोध में नगर निगम कार्यालय में किया प्रदर्शन

गुमानीवाला की लालपानी बीट में आबादी के बीच बनने वाले ट्रंचिंग ग्राउंड के विरोध में एकजुट हुए ग्रामीणों ने सोमवार को नगर निगम कार्यालय में हुंकार भरी। विरोध प्रदर्शन के बीच लोगों ने ट्रंचिंग ग्राउंड को आबादी से करीब 5 किलोमीटर दूर शिफ्ट करने और शहर से कूड़ा लेकर आने वाली गाड़ियों का रास्ता देहरादून रोड स्थित सौ फुटी से खोलने की मांग की। चेताया कि जल्द सकारात्मक कार्रवाई नहीं हुई तो उग्र आंदोलन के लिए बाध्य होंगे।
सोमवार को गुमानीवाला की प्रधान दीपिका व्यास, भट्टोवाला प्रधान दीपा राणा, पार्षद वीरेंद्र रमोला, पंचायत सदस्य संदीप कुड़ियाल, मानवेंद्र कंडारी के नेतृत्व में एकत्रित गुलरानी, रुषाफार्म, अमित ग्राम, गुर्जर बस्ती, माया मार्केट के ग्रामीण जुलूस की शक्ल में नगर निगम के खिलाफ नारेबाजी करते हुए निगम कार्यालय पहुंचे।
आक्रोशित ग्रामीणों ने नगर निगम ऋषिकश के गुमानीवाला क्षेत्र में ट्रंचिंग ग्राउंड बनाने की योजना का पुरजोर विरोध किया। विरोध प्रदर्शन कर रहे ग्रामीणों ने कहा कि जिस जगह ट्रंचिंग ग्राउंड बनेगा वह आबादी के बीचोंबीच है। आबादी के बीच कूड़ा डंप होने से ग्रामीणों का रहना मुहाल हो जाएगा। एक स्वर में ट्रंचिंग ग्राउंड के लिए आबादी से दूर भूमि उपलब्ध कराए जाने की मांग की। चेताया कि आबादी के बीच कूड़ा निस्तारण का पुरजोर विरोध होगा।
विरोध प्रदर्शन में पार्षद विजेन्द्र मोघा, पार्षद विपिन पंत, रूकमा व्यास, दीपक मेहर, जुगल क्षेत्री, खेम सिंह, सुमति रावत, आरती भट्ट, बबीता डोभाल, रीना रांगड़, पूजा थापा, संगीता सकलानी, कविता, हरपाल राणा, विक्रम जीना, तेज सिंह क्षेत्री, मनवीर भंडारी, नत्थी लाल सेमवाल, विष्णु थापा, अजीत गुरूंग, बलजीत सिंह, सतपाल राणा, जगनमोहन रावत, विजय सकलानी, मलकीत सिंह, बसीर, रमजान, संजय कंडारी, अनीता नैथानी, राजमती रावत, लता देवी, मोहनी देवी, राधा देवी, पार्वती, दिला देवी, रजनी देवी, विमला देवी, रूपा देवी, आरती देवी, कुसुम देवी, छूनकी देवी, गुड्डी देवी आदि मौजूद रहे।

नगर निगम प्रशासन पर स्थानीय लोगों की उपेक्षा का आरोप

उत्तराखंड जन विकास मंच ने लाल पानी बीट स्थित गुलरानी क्षेत्र में प्रस्तावित ट्रंचिंग ग्राउंड का विरोध किया है। मंच सदस्यों ने नगर निगम प्रशासन पर स्थानीय लोगों की उपेक्षा का आरोप लगाया। उन्होंने उत्तराखंड राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के चेयरमैन को ज्ञापन भेजकर प्रस्तावित ट्रंचिंग ग्राउंड से होने वाली मुश्किलों को उठाया है।
सोमवार को उत्तराखंड जन विकास मंच के बैनर तले कई लोग ऋषिकेश तहसील में एकत्रित हुए। उन्होंने एसडीएम के माध्यम से उत्तराखंड राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के चेयरमैन आरके सुधांशु को ज्ञापन प्रेषित किया। मंच के अध्यक्ष आशुतोष शर्मा ने कहा कि लाल पानी बीट स्थित गुलरानी क्षेत्र में नगर निगम ऋषिकेश की ओर से ट्रंचिंग ग्राउंड बनाया जाना प्रस्तावित है। यह प्रस्तावित ट्रंचिंग ग्राउंड आबादी क्षेत्र से मात्र 10 मीटर की दूरी पर स्थित है। नगर निगम प्रशासन ने स्थानीय आबादी की उपेक्षा करते हुए केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के मानकों के विपरीत एकपक्षीय फैसला लिया है। इसके चलते भविष्य में हवा, मिट्टी और पानी प्रदूषित होने की संभावना बनी हुई है।
समिति संयोजक सत्य कपरूवान ने कहा कि किसी भी दशा में प्रस्तावित ट्रंचिंग ग्राउंड आबादी क्षेत्र में नहीं बनना चाहिए। सह संयोजक मनोज गुसाईं ने कहा कि पूर्व में भी इस ट्रंचिंग ग्राउंड को लेकर उन्होंने और सभी जनप्रतिनिधियों ने जन सुनवाई के दौरान अपना विरोध प्रकट किया था, लेकिन अचानक नगर निगम द्वारा प्रस्तावित ट्रंचिंग ग्राउंड के लिए निविदाएं आमंत्रित करना ग्रामीण व शहरी क्षेत्र के लोगों के साथ एक छलावा है। इसका हम सभी विरोध करते हैं। ज्ञापन देने वालों में जनार्दन नवानी, कोषाध्यक्ष विनोद पोखरियाल, धर्मेंद्र सिंह, लालमणि रतूड़ी, पूर्व बीडीसी सदस्य वीर सिंह नेगी, फतेह सिंह, राकेश थपलियाल, अजय कुमार वर्मा, यतेंद्र थपलियाल, भूपेंद्र भट्ट, कुंवर सिंह आदि उपस्थित रहे।

चिह्नित अतिक्रमण पर कार्रवाई नही करने का आरोप, टीम को बैरंग लौटाया

नगर के अंदर कोयलघाटी तिराहे से चंद्रभागा पुल तिराहे तक हरिद्वार-ऋषिकेश राष्ट्रीय राजमार्ग के चौड़ीकरण कार्य में बाधा बन रहे अतिक्रमण को हटाने पहुंची विभागीय टीम को विरोध के चलते वापस लौटना पड़ा। विरोध करने वालों ने टीम पर एकतरफा कार्रवाई करने का आरोप लगाया है।
सोमवार दोपहर राष्ट्रीय राजमार्ग खंड डोईवाला के सहायक अभियंता शिव सिंह रावत और तहसीलदार डा. अमृता शर्मा के नेतृत्व में टीम हाईवे पर एसबीएम कॉप्लेक्स के पास पहुंची। यहां एसबीएम इंटर कॉलेज के मेन गेट को अतिक्रमण के रूप में चिह्नित करने के बाद जेसीबी से उसे ध्वस्त करने की कार्रवाई शुरू की गई।
विभागीय कार्रवाई की भनक लगते ही कॉलेज के प्रधानाचार्य कुछ लोगों के साथ मौके पर पहुंचे और कार्रवाई का विरोध करने लगे। कांग्रेस नेता जयेंद्र रमोला ने अतिक्रमण की कार्रवाई पर सवाल उठाते हुए कहा कि पिछले दो-तीन साल से हाईवे प्रशासन ने कोयलघाटी तिराहा से चंद्रभागा पुल तक दर्जनों अतिक्रमण चिह्नित किए हैं। नियमानुसार चिह्नित सभी अवैध कब्जों पर कार्रवाई होनी चाहिए, लेकिन विभाग मनमर्जी से एक-दो अतिक्रमण हटाकर खानापूर्ति कर रहा है।
इंटर कॉलेज के मेन गेट को ध्वस्त करने की कार्रवाई के बाद टीम ने आसपास के अतिक्रमण को छोड़ दिया। विरोध करने वालों ने अतिक्रमण की कार्रवाई को बीच में ही रुकवा दिया। लिहाजा विभागीय टीम को कार्रवाई बीच में ही छोड़कर वापस लौटना पड़ा।

गुरुवार को सख्ती से हटेगा अतिक्रमण
राष्ट्रीय राजमार्ग खंड डोईवाला के अपर सहायक अभियंता छत्रपाल सिंह ने बताया कि कोयलघाटी तिराहे से चंद्रभागा पुल तिराहे तक हाईवे चौड़ीकरण का कार्य जल्द पूरा करना है। लिहाजा चौड़ीकरण में बाधक बन रहे अतिक्रमण को गुरुवार से सख्ती से हटाया जाएगा। भारी संख्या में पुलिस बल मौके पर रहेगा। पहले चरण में कोयलघाटी तिराहे से मुखर्जी मार्ग पर निर्मल आश्रम के गेट तक और दूसरे चरण में निर्मल आश्रम गेट से चंद्रभागा पुल तिराहे तक अतिक्रमण पर कार्रवाई होगी। इसके लिए पूरी तैयारी कर ली है।

सड़क और पेयजल लाइन के लिए मंत्री का आभार जताया

कैबिनेट मंत्री व क्षेत्रीय विधायक डा. प्रेमचंद अग्रवाल से शिवाजी नगर के नागरिकों ने पार्षद जयेंश राणा के नेतृत्व में मुलाकात की। इस मौके पर समस्या से सम्बंधित ज्ञापन भी सौपा। इस मौके पर पार्षद ने शिवाजी नगर में सड़क व पेयजल लाइन के लिए मंत्री का आभार भी जताया।
रविवार को बैराज रोड स्थित कैंप कार्यालय में हुई मुलाकात में पार्षद जयेश राणा ने बताया कि आईडीपीएल से आने वाली नहर जो कि शिवाजी नगर से होते हुए गंगा नदी में जाती थी। कई वर्षाे से इस नहर में आईडीपीएल से कोई पानी नहीं आ रहा है। बताया कि वर्षाकाल तथा लोगो के घरों का पानी इस नहर में जमा हो रहा है। जिससे यहां निवासरत नागरिकों को बहुत परेशानी का सामना करना पड़ता है।
पार्षद जयेश राणा ने बताया कि नहर से उठने वाले दुर्गंध के चलते स्थानीय लोगो को जीना दुश्वार हो गया है। बताया कि नगर में आए दिन जानवर व इंसान गिरकर चोटिल हो रहे हैं। साथ ही वर्षाकाल में पानी ओवरफ्लो होकर लोगों के घरों में घुस रहा है।
पार्षद ने मंत्री डा. प्रेमचंद अग्रवाल को ज्ञापन देकर नहर में जमे पानी की निकासी करने तथा नहर की चौड़ाई को कम करवाने की मांग की। कैबिनेट मंत्री व क्षेत्रीय विधायक डा. प्रेमचंद अग्रवाल जी ने सकारात्मक कार्यवाही का आश्वासन दिया।
ज्ञापन देने वालों में पार्षद जयेश राणा, मुन्नी राजपूत, कृष्णा सिंह नेगी, आशीष राय, संजू, नैन सिंह रावत (सेना मेडल), रोशन सजवान, जितेंद्र सिंह रावत, अरविंद रावत, जलम सिंह रावत, धर्म सिंह रावत, डबल सिंह पंवार, संतोष पाण्डेय, सिद्धार्थ त्रिपाठी, सौरव धीमान, लक्ष्मी चौहान, ममता रतूड़ी आदि लोग मौजूद थे।