49 करोड़ रुपये की विकास योजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने अल्मोड़ा पहुंचकर हवालबाग में 2 दिवसीय आजीविका महोत्सव का शुभारम्भ किया। उन्होंने हवालबाग में स्थित रूरल बिजनेस इन्क्यूबेटर सेन्टर का भी उद्घाटन किया। इस दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि रूरल बिजनेस इन्क्यूबेटर सेन्टर का उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों में स्वरोजगार को प्रोत्साहित करने एवं उद्यम स्थापना हेतु प्रारम्भ से अन्त तक उद्यमियों को सहयोग प्रदान करना है। इसके साथ-साथ युवाओं को रोजगार सृजन, व्यवसाय सहयोग, नये विचार व तकनीक को बढ़ावा देना आदि इसके उद्देश्य है। इसके उद्घाटन के अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में अल्मोड़ा व पौङी में रूरल बिजनेस इन्क्यूबेटर सेन्टर की स्थापना की गयी है। उन्होंने कहा कि इस सेन्टर से आम आदमी को जोड़ने का प्रयास किया जाय। उन्होंने कहा कि इससे पलायन रोकने में मदद मिलेगी। इस दौरान उन्होंने जनपद के भिन्न-भिन्न क्षेत्रों से आये उद्यमियों के साथ संवाद किया और उनके उत्पादों की जानकारी व परिचय प्राप्त किया।
आजीविका महोत्सव में प्रतिभाग करते हुए मुख्यमंत्री ने जिला प्रशासन द्वारा आयोजित किये गये महोत्सव के लिए प्रशासन को बधाई दी और कहा कि यह महोत्सव ग्रामीण युवाओं व महिलाओं के लिए लाभप्रद सिद्ध होगा जिससे पलायन रोकने में मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि सरकार का प्रयास है कि ग्रामीण क्षेत्रों में आजीविका की मजबूती हो और स्वरोजगार योजनाओं का सीधा फायदा आम जनता तक पहुॅचे। उन्होंने कहा कि प्रदेश के स्वरोजगार से जुड़े हर व्यक्ति को इसमें सहभागी बनाया जाय ताकि पलायन को रोका जा सके और रोजगार की समस्या को दूर किया जा सके। उन्होंने कहा कि गॉव के विकास से अर्थव्यवस्था मजबूत होगी। उन्होंने कहा कि होम-स्टे योजना आने वाले समय में पर्यटन व आर्थिकी का मुख्य आधार बनेगा। उन्होंने कहा कि होम-स्टे योजना के अन्तर्गत प्रदेश में 3600 होम-स्टे पंजीकृत है जिसमें 8 हजार लोगों को रोजगार मिला हुआ है। इस तरह को महोत्सव मात्र औपचारिकता न रहे इसका उद्देश्य तभी सफल है जब इसका लाभ व सुविधा सामान्य व्यक्ति को मिल सके। सभी अधिकारी व जनप्रतिनिधि उत्तराखण्ड की प्रगति के लिए मिलकर कार्य करें। सभी विभागीय अधिकारियों को 10 वर्ष तक का रोडमैप तैयार करने के निर्देश दिये गये है जिससे आने वाले उत्तराखण्ड के विकास की नींव रखी जा सके। उन्होंने कहा कि सभी शहरों को हैली सेवा से जोड़ने का प्रयास किया जा रहा है। इस दौरान उन्होंने अल्मोड़ा जनपद के महान विभूतियों को याद करते हुए उन्हें नमन किया।
मुख्यमंत्री ने कहा कि केन्द्र एवं राज्य सरकार द्वारा अनेक जनकल्याणकारी योजनायें चलायी जा रही है जिससे लोग लाभान्वित हो रहे है। इस दौरान उन्होंने कहा कि अल्मोड़ा में पार्किग स्थल के निर्माण के लिए 7.74 करोड़ की धनराशि स्वीकृत की है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कई घोषणायें की जिनमें चितई पंत तिराहे से हरिदत्त पेटशाली इण्टर कालेज पेटशाल तक लिंक मार्ग 3 कि0मी0, बसमांव-दरमाण मोटर मार्ग निर्माण 4 कि0मी0, कोसी दौलाघट मोटर मार्ग से धौलीगाड़-पंचगाव-स्यूरा लिंक मोटर मार्ग निर्माण 6 कि0मी0, अल्मोड़ा मे आयुष सुपर मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल (50 बेड) की स्थापना, प्रसार प्रशिक्षण केन्द्र में एक्सीक्यूटिव हॉस्टल का निर्माण, प्रसार व रूरल बिजनेस इक्यूबेटर (द्वितीय चरण) के विस्तारीकरण कार्य शामिल है।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कुल 49.19 करोड़़ रू0 की योजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया जिनमें 3.20 करोड़ रू0 लागत की विभिन्न योजनाओं का लोकार्पण किया इन योजनाओं में गैराड़ मंदिर में बारात घर का निर्माण लागत 40.00 लाख रू0, रूरल बिजनेस इन्वयूवेटर, राज्य पोषित हवालबाग लागत 117.11 लाख रू0, विकासखण्ड कार्यालय धौलादेवी का निर्माण कार्य लागत 163.87 लाख रू0 है। उन्होंने कुल 45.98 करोड़ रू0 की योजनाओं का शिलान्यास किया जिनमें राजकीय इण्टर कालेज पेटशाल में रसायन, फिजिक्स एवं जीव विज्ञान प्रयोगशाला का निर्माण लागत 61.5 लाख रू0, राजकीय इण्टर कालेज लोधिया में रसायन, फिजिक्स एवं जीव विज्ञान प्रयोगशाला का निर्माण लागत 61.5 लाख रू0, जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान अल्मोड़ा में प्रशिक्षण हॉल का निर्माण कार्य लागत 27.4 लाख रू0, जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान अल्मोड़ा में एपोच रोड एवं गैराज का निर्माण कार्य लागत 19.19 लाख रू0, विकास भवन परिसर में कैंटिन का निर्माण कार्य लागत 48.37 लाख रू0, जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान अल्मोड़ा में प्राचार्य आवास का निर्माण लागत 45.57 रू0, राजकीय कुक्कुट प्रक्षेत्र हवालबाग का सुदृढ़ीकरण कार्य लागत 494.68 लाख रू0, अल्मोड़ा के चितई तिराहे से हरिदत्त पेटशाली इण्टर कालेज पेटशाल तक लिंग मार्ग लागत 200.16 लाख रू0, विधानसभा क्षेत्र अल्मोड़ा के अन्तर्गत अल्मोड़ा के टैक्सी स्टैण्ड में बहुमंजिली पार्किंग का निर्माण लागत 770.32 लाख रू0, केन्द्रीय सड़़क अवसंरचना निधि के अन्तर्गत निर्माण खण्ड अल्मोड़ा के विभिन्न मोटर मार्गों में दुर्घटना सम्भावित संवेदनशील स्थानों पर सुरक्षात्मक कार्य लागत 257.15 लाख रू0, राजकीय इण्टर कालेज सत्यों में रसायन फिजिक्स एवं जीव विज्ञान प्रयोगशाला का निर्माण लागत 61.5 लाख रू0, राजकीय इण्टर कालेज कनरा में रसायन फिजिक्स एवं जीव विज्ञान प्रयोगशाला का निर्माण लागत 61.5 लाख रू0, राजकीय इण्टर कालेज बाराकूना में रसायन फिजिक्स एवं जीव विज्ञान प्रयोगशाला का निर्माण लागत 61.5 लाख रू0, राजकीय इण्टर कालेज भनोली में आर्ट, कम्प्यूटर कक्ष, पुस्तकालय एवं दो अतिरिक्त कक्षा-कक्षों का निर्माण कार्य लागत 96.2 लाख रू0, कपकोट ग्राम समूह (पम्पिंग) पेयजल योजना लागत 403.66 लाख रू0, भागादेवली ग्राम समूह (पम्पिंग) 1083.28 लाख रू0, गैराड़ ग्राम समूह (पम्पिंग) पेयजल योजना लागत 844.95 लाख रू0 है।
मुख्यमंत्री ने 27 स्वयं सहायता समूहों को विभिन्न योजनाओं के तहत चैक भी वितरित किये। आजीविका महोत्सव के दौरान उद्यान विभाग द्वारा यूरोपियन बेजिटेबल की खेती, पर्यटन विभाग द्वारा होम-स्टे योजना, पशुपालन विभाग द्वारा व्यवसायिक मुर्गी पालन, उद्योग विभाग द्वारा मार्केटिंक एवं पैकेजिंग, एनआरएलएम व आजीविका द्वारा वैल्यू चैन व कृषि विभाग द्वारा वृक्ष आयुर्वेद कृषि पर कार्यशालायें आयोजित की गयी। इसके साथ-साथ स्थानीय होटल एवं रेस्टोरेन्ट स्वामियों के द्वारा फूड फेस्टेबल का आयोजन हुआ। कार्यक्रम के दौरान कोसी संरक्षण की भी शपथ ली गयी। कार्यक्रम के दौरान माउन्टेन बाईक रैली को हरी झण्डी दिखाकर मुख्यमंत्री व अन्य अतिथियों द्वारा रवाना किया गया। इस रैली में कुल 30 प्रतिभागी शामिल थे जो रानीखेत तक की यात्रा करेंगे।
महोत्सव के दौरान कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे विधानसभा उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह चौहान ने अपने विचार रखें और मुख्यमंत्री सहित अन्य लोगों का आभार व्यक्त किया। जिलाधिकारी वन्दना सिंह ने आजीविका महोत्सव का संक्षिप्त परिचय देत हुए जानकारी दी कि महोत्सव का मुख्य उद्देश्य अल्मोड़ा जनपद के अन्तर्गत आजीविका के क्षेत्र में युवाओं, ग्रामीण महिलाओं, बेराजगारों, कृषकों को बेहतर अवसर प्रदान करने के साथ ही विभिन्न सरकारी योजनाओं व उद्योग स्थापित करने के सम्बन्ध में ऋण प्राप्त करने की जानकारी देना है।
उन्होंने कहा कि विषय विशेषज्ञों के माध्यम से कृषकों को प्रशिक्षण प्राप्त हो सके इसका भी प्रयास किया गया है। उन्होंने कहा कि चार मुख्य बैंकों के माध्यम से ऋण वितरण का कार्य किया गया जिसमें 286 आवेदकां को विभिन्न शासकीय योजनाओं के अन्तर्गत 6.18 करोड़ का ऋण स्वीकृत व वितरित किया गया। जिसमें से 3.48 करोड़ रू0 के बैंक ऋण स्वीकृत व 2.70 करोड़ रू0 के बैंक लोन वितरित किये गये। उन्होंने कहा कि लगभग 1500 से अधिक महिला समूहों से जुड़ी महिलाओं को विभिन्न शासकीय योजनाओं के अन्तर्गत प्रशिक्षण व अपने उत्पादों को प्रदर्शित करने का मौका दिया जा रहा हैं। उन्होंने कहा कि प्रशिक्षण कार्यक्रमों में क्रेता-विक्रेता सत्रों का आयोजन किया जा रहा है जिससे जो उत्पाद यहॉ बनते है उनको मार्केट उपलब्ध हो सके। उन्होंने सभी अतिथियों का आभार व्यक्त किया।
इस कार्यक्रम में भूटेखान पार्टी बाडमेर राजस्थान द्वारा राजस्थानी लोक नृत्य पेश किये। इस कार्यक्रम में उद्यान, कृषि, आजीविका, ग्राम्या विभाग, महेन्द्रा क्लब, मोक्सा रिटैट, सहकारिता, चाय विकास बोर्ड, राजकीय किशोरी गृह बख, आजीविका मिशन, नेशनल रूरल लाइवहुड मिशन के स्टॉल भी लगाये गये। इन स्टॉलों का भ्रमण मुख्यमंत्री व अन्य जनप्रतिनिधियों ने किया।
इस अवसर पर सांसद अजय टम्टा, महिला सशक्तिकरण बाल विकास मंत्री रेखा आर्या, महिला आयोग की उपाध्यक्ष ज्योति शाह मिश्रा, जिला सहकारी बैंक के अध्यक्ष ललित लटवाल, भाजपा जिलाध्यक्ष रवि रौतेला, भाजपा नगर अध्यक्ष कैलाश गुरूरानी, महामंत्री महेश नयाल, ग्राम्य विकास अपर सचिव बीना जोशी, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक पंकज भट्ट, मुख्य विकास अधिकारी नवनीत पाण्डे के अलावा अन्य जनप्रतिनिधि, अधिकारी व बड़ी संख्या में लोग उपस्थित रहे।

सल्ट विधानसभा को 63.33 करोड़ रुपये की विकास योजनाओं की सौगात

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी जनपद अल्मोड़ा के विधानसभा क्षेत्र सल्ट के देघाट पंहुचे। जहां पर उन्होने विधानसभा क्षेत्र सल्ट की 63.33 करोड़ रू0 की विकास योजनाओं का शिलान्यास व लोकापर्ण किया। जिनमें 1732.25 लाख रू0 की योजनाओं का शिलान्यास व 4601.67 लाख रू0 की योजनाओं का लोकापर्ण शामिल है। जिन विकास योजनाओं का शिलान्यास किया गया उनमें मुख्यमंत्री घोषणा के अन्तर्गत विधानसभा क्षेत्र सल्ट में कैहडगांव़ जगोई शिव मंदिर होते हुए कृषि विज्ञान केन्द्र तक मोटर मार्ग का निर्माण लागत 1129.73 लाख रू0, वित्तीय वर्ष 2021-22 में राज्य योजना के अन्तर्गत विधानसभा क्षेत्र सल्ट के सुमनलता भदौला मोटर मार्ग से सेरा कालोनी-भनेरिया तक मोटर मार्ग का नव निर्माण लागत 107.95 लाख रू0, वित्तीय वर्ष 2021-22 में मुख्यमंत्री की घोषणा के अन्तर्गत विधानसभा क्षेत्र सल्ट के शशिखाल से शहीद स्मारक मोटर मार्ग के रिवाखाल से किचार तक मोटर मार्ग का नव निर्माण लागत 63.77 लाख रू0, रा0इ0का0 भौनखाल में भौतिक विज्ञान प्रयोगशाला, रसायन विज्ञान प्रयोगशाला व जीव विज्ञान प्रयोगशाला का निर्माण कार्य लागत 45.64 लाख रू0, रा0इ0का0 नैकणापैसिया में 02 कक्षा-कक्ष, कला एवं शिल्प कक्ष, कम्प्यूटर कक्ष का निर्माण लागत 72.54 लाख रू0, रा0इ0का0 क्वैराला में प्रयोगशाला कक्ष, कला एवं शिक्ष कक्ष, भौतिक विज्ञान प्रयोगशाला, रसायन विज्ञान प्रयोगशाला का निर्माण कार्य लागत 76.46 लाख रू0, रा0इ0का0 सराईखेत में कला एवं शिल्प कक्ष का निर्माण कार्य लागत 18.06 लाख रू0, रा0इ0का0 स्याल्दे में प्रयोगशाला कक्ष, कला एवं शिल्प कक्ष, पुस्तकालय कक्ष, रसायन विज्ञान प्रयोगशाला व जीव विज्ञान प्रयोगशाला का निर्माण कार्य लागत 119.12 लाख रू0, विकासखण्ड सल्ट खुमाड़ के विकासखण्ड कार्यालय एवं आवासीय भवनों का सुदृढ़ीकरण कार्य लागत 98.98 लाख रू0 शामिल है।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री द्वारा जिन योजनाओं का लोकापर्ण किया गया उनमें राज्य योजनान्तर्गत विधानसभा क्षेत्र सल्ट के अन्तर्गत स्याल्दे देघाट में स्थित गोलना को तामूढौन-देघाट-खल्डुवा मोटर मार्ग तथा देघाट गनाई मोटर मार्ग से जौरासी मोटर मार्ग हेतु सेतु का निर्माण लागत 515.53 लाख रू0, मा0 मुख्यमंत्री की घोषणा के अन्तर्गत जनपद अल्मोड़ा के विधानसभा क्षेत्र सल्ट में पत्थरखोला महरगॉव मोटर मार्ग का नव निर्माण लागत 604.18 लाख रू0, विधानसभा क्षेत्र भिकियासैंण के अन्तर्गत देघाट-जौरासीं मोटर मार्ग का निर्माण लागत 579.69 लाख रू0, नाबार्ड योजनान्तर्गत विकासखण्ड सल्ट की शक्तिपीठ ग्राम समूह पेयजल योजना लागत 1322.63 लाख रू0, नाबार्ड योजनान्तर्गत विकासखण्ड सल्ट की बुंगीधार खाल्यों ग्राम समूह पेयजल योजना लागत 274.22 लाख रू0, नाबार्ड योजनान्तर्गत विकासखण्ड सल्ट की रतखाल सीमा रिस्टाना ग्राम समूह पेयजल योजना लागत 1219.2 लाख रू0, 100 एलपीएम ऑक्सीजन प्लान्ट की स्थापना लागत 56.8 लाख रू0, सल्ट के मुख्य बाजार में हाईटैक शौचालय का निर्माण लागत 29.42 लाख रू0 शामिल है।
देघाट में आयोजित विशाल जनसभा को सम्बोधित करते हुये मुख्यमंत्री ने अनेक घोषणायें की जिनमें देवी मंदिर देघाट का सौन्दर्यकरण करने, जाख से भगेतिया तक सम्पर्क मार्ग का निर्माण किया जायेगा, आर्य इण्टर कालेज देघाट के खेल के मैदान की चाहार दीवारी का निमार्ण व गेट का निर्माण, मानिला मुख्य मार्ग से बजों मोटर मार्ग का सुधारीकरण व डामरीकरण किया जायेगा, जगतुकखाल-नकतुरा बुंगीधार मोटर मार्ग सुधारीकरण किया जायेगा, ग्राम सभा जाख से भगेतिया मे स्वर्गा आश्रम का सौन्दर्यकरण किया जायेगा, राजकीय सा0 स्वास्थ्य केन्द्र देघाट व देवायल में होम्योपैथी डिस्पेंसरी का निर्माण किया जायेगा, ताबाडोन कैहड़गांव, परथौला सिंचाई लिफ्ट योजना का निमार्ण किया जायेगा, गुजरूकोट हरूहीत मंदिर का सौन्दर्यकरण किया जायेगा व स्याल्दे बाजार में कार पार्किंग का निमार्ण शामिल है।
मुख्यमंत्री ने विशाल जनसभा को सम्बोधित करते हुये उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में केन्द्र व राज्य सरकार विकास की ओर लगातार अग्रसर है। उनके नेतृत्व में प्रदेश 2025 तक देश का सर्वश्रेष्ठ राज्य बनने की ओर अग्रसर है। उन्हांने कहा कि सरकार द्वारा हर वर्ग के लोगों के हितों को ध्यान में रखकर विकास कार्य किया जा रहा है। सरकार द्वारा स्वास्थ्य के क्षेत्र में आयुष्मान योजना के अन्तर्गत 44 लाख लोगों के कार्ड व 3 लाख 40 हजार से अधिक मरीज उपचार करा चुके है। सरकार द्वारा आशा, आंगनबाड़ी व पंचायत प्रतिनिधियों का मानदेय बढाने का कार्य किया है। देश में खेल व खिलाड़ियों को प्रोत्साहित करने के लिये खेल नीति 2021 लागू की है। प्रदेश में कोविड से प्रभावित हर वर्ग को आर्थिक सहायता दी गयी है। सरकार द्वारा 24 हजार पदों को भरा जाना है जिसमें 10 हजार पदों पर विज्ञापन निकल चुके है और प्रक्रिया गतिमान है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार मजबूत इच्छाशक्ति वाली सरकार है हमने शहीद राज्य आन्दोलनकारियों के सपनों को पूरा करने के लिये जरूरी निर्णय लिये। इस दौरान उन्होंने प्रदेश सरकार द्वारा लिये गये अनेक फैसले व विभिन्न योजनाओं की जानकारी दी। इस दौरान मुख्यमंत्री ने विभिन्न योजनाओं के आर्थिक सहायता के चौक वितरित किये जिनमें वात्सल्य योजना के 3 चैक, विभिन्न महिला व युवक मंगल दल के 7 लाभार्थियों के चैक, 5 महालक्ष्मी किट व 6 स्वयं सहायता समूहों को शून्य प्रतिशत ब्याज पर आधारित चैकों का वितरण किया।
कार्यक्रम में सांसद अजय टम्टा ने कहा कि सल्ट क्षेत्र शहीदों की भूमि रही है। शहीदों के सपनों को साकार करने के लिये केन्द्र व राज्य सरकार द्वारा संचालित योजनाओं को जन-जन तक पहुंचाने कार्य करना होगा। उन्होंने कहा कि देश के विकास के निर्माण में उत्तराखण्ड की महत्वपूर्ण भूमिका है। स्थानीय विधायक महेश जीना ने उपस्थित जन समूह के समक्ष मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त करते हुये कहा कि क्षेत्र के विकास के लिये कोई कोर कसर नहीं छोड़ी जायेगी। उन्होने कहा कि स्व सुरेन्द्र सिंह जीना के अधूरे विकास कार्यों को पूरा करने व क्षेत्रीय जनता को सरकार की योजनाओं का लाभ दिलाना उनकी प्राथमिकता में है। इस दौरान विधायक ने सल्ट विधानसभा क्षेत्र में हुये अनेको विकास कार्यों की जानकारी दी।
कार्यर्क्रम में जिला महामंत्री प्रेम शर्मा, मण्डल अध्यक्ष विक्रम बिष्ट, पूरन रजवार, देवीदत्त शर्मा, हरीश कोटिया, मनवर सिंह, जिला पंचायत सदस्य हंसा नेगी, मीना शार्मा, व्यापार संघ अध्यक्ष अशोक तिवारी, नरेन्द्र भण्डारी, जिलाधिकारी वन्दना सिंह, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक पंकज भट्ट सहित अनेक जनप्रतिनिधि, जिला स्तरीय अधिकारी व क्षेत्रीय जनता उपस्थित रही।

अल्मोड़ा जिले के दुरस्थ गांवों में पहुंचे सीएम, प्रभावित परिवारों से मिलें

मुख्यमंत्री ने विगत दिनों हुई आपदा में मृतकों के परिजनों से मिलकर शोक संवेदना व्यक्त की। उन्होंने हीराडूंगरी निवासी रेखा देवी की पुत्री अरोमा सिंह के मलबे में दबने के कारण हुई मृत्यु पर उनकी माता से मिलकर गहरा दुःख व शोक संवेदना व्यक्त किया। मुख्यमंत्री ने ग्राम सिराड पहुॅचकर चन्दन सिंह की पत्नी लीला देवी के मलबे में दब जाने से मृत्यु होने पर उनके परिवारजनों से मिलकर गहरी शोक संवेदना व्यक्त की।
मुख्यमंत्री ने आपदा प्रभावितों से मुलाकात कर कहा कि अतिवृष्टि से हुए नुकसान की भरपाई के लिए प्रदेश सरकार हर सम्भव सहायता कर रही है। उन्होंने कहा कि आपदा के समय सरकार हर पीड़ित व्यक्ति के साथ खड़ी है और सभी लोग अपने-अपने स्तर से काम कर रहे है। उन्होंने आपदा प्रभावित स्थलों का मुआयना करते हुए जिलाधिकारी को निर्देश दिये कि आपदा मद से इन स्थलों पर सुरक्षा दीवार का निर्माण किया जाय।
इसके बाद मुख्यमंत्री ने पुलिस लाईन में समस्त जिला स्तरीय अधिकारियों के साथ बैठक की। इस दौरान उन्होंने कहा कि राहत एवं बचाव कार्यों में लापरवाही ना बरती जाए तथा बचाव व राहत कार्यों में तेजी से काम किया जाएं। उन्होंने निर्देश दिए कि शीघ्र अति शीघ्र आपदा प्रभावित इलाकों में राशन व्यवस्था समेत मूलभूत आवश्यकताओं की व्यवस्था की जाए। जिन परिवारों को विस्थापित किया जाना है उनके लिए स्थान का जल्द से जल्द चयन कर उन्हें विस्थापित की जाने की कार्रवाई की जाए। संचार, सड़क, बिजली तथा पानी जैसी मूलभूत आवश्यकताओं समेत सभी व्यवस्थाओं को जल्द से जल्द दुरुस्त किया जाए। जिससे लोगों को मुसीबत का सामना ना करना पड़े। मुख्यमंत्री ने लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि 07 नवम्बर तक सड़कों को गडढ़ा मुक्त किया जाय।
जिलाधिकारी वन्दना सिंह ने बताया कि राष्ट्रीय मार्ग व राज्य मार्ग यातायात हेतु खोल दिए गये है। उन्होंने बताया कि ग्रामीण क्षेत्र की बन्द सड़कों को 26 अक्टूबर तक पूर्णरूप से खोल दिया जायेगा। उन्होंने बताया कि आपदा से हुई क्षति में सभी को मुआवजा वितरित कर दिया गया है। जनपद में आपदा राहत कार्य युद्ध स्तर पर किया जा रहा है। साथ ही सड़क, पैदल मार्ग, पेयजल लाईन, संचार एवं विद्युत आपूर्ति का कार्य तेजी के साथ किया जा रहा है और सभी परिसम्पत्तियों को हुए नुकसान का आकलन किया जा रहा है।
इस दौरान आपदा प्रबंधन मंत्री डॉ धन सिंह रावत, विधानसभा उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह चौहान, सांसद अजय टम्टा, नगरपालिका अध्यक्ष प्रकाश चन्द्र जोशी सहित स्थानीय जनप्रतिनिधि व अधिकारी उपस्थित थे।

अल्मोड़ा में करोड़ों रुपये की योजनाओं की सीएम ने की घोषणा

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सोमवार को अपने एक दिवसीय भ्रमण कार्यक्रम के तहत अल्मोड़ा पहुॅचकर रैमजे इण्टर कालेज में आयोजित कार्यक्रम में प्रतिभाग किया। रघुनाथ सिटी माल से शिखर तिराहे तक कार द्वारा व उसके बाद शिखर तिराहे से रैमजे इण्टर कालेज तक पैदल चलकर स्थानीय लोगों का अभिवादन स्वीकार किया।
रैमजे इण्टर कालेज में जनसभा को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि अल्मोड़ा आगमन पर उन्हें अपार जनसमूह देखकर बेहद प्रसन्नता हो रही है। प्रदेश में बड़ी तेजी से विकास हो रहा है। जनता की सुनवाई के लिए तहसील दिवस व अधिकारियों को 10 से 12 बजे तक कार्यालय में बैठककर समस्यायें सुनने के निर्देश दिये है। प्रदेश सरकार युवाओं के लिए 22 से 24 हजार पदो पर भर्ती निकाली है जिसे समय से पूरा करना लक्ष्य है। कोरोना काल के चलते सरकारी सेवा में अधिकतम आयु पार करने वाले युवकों हेतु एक साल बढाया गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के ऐसे युवा जो संघ लोक सेवा आयोग की परीक्षा में प्री परीक्षा पास करते है उन्हें सरकार की ओर से 50 हजार रू0 की सहायता दी जायेगी। कोरोना के कारण आर्थिक नुकसान झेल रहे पर्यटन व्यवसाय व अन्य व्यवसाय से जुड़े लोगों के लिए 200 करोड़ की धनराशि बतौर राहत पैकेज के रूप में जारी की गयी है। आजीविका क्षेत्र से जुड़े स्वयं सहायता समूहों, महिला मंगल दलों समेत कलस्टर के आधार पर आजीविका चलाने वालो के लिए 119 करोड़ का राहत पैकेज दिया गया है। कोविड से अपने माता-पिता खोने वाले बच्चों के भरण-पोषण वात्सल्य योजना के अन्तर्गत किया जायेगा। उन्होंने कहा कि खेलों में राष्ट्रीय एवं अन्तराष्ट्रीय स्तर पर पदक जीतने वाले खिलाड़ियों को प्रोत्साहित करने के लिए खेल नीति बनायी गयी है। इस दौरान मा0 मुख्यमंत्री ने कहा कि गोल्डन कार्डों में आ रही दिक्कतों के लिए मुख्य सचिव की अध्यक्षता में एक समिति का गठन किया जायेगा।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री द्वारा अल्मोड़ा जनपद हेतु कई महत्वपूर्ण घोषणायें भी की गई। इन घोषणाओं में पाण्डेखोला स्थित जजी, विकासभवन तथा निर्माणाधीन कलेक्ट्रेट भवन को जाने वाली सड़क का चौड़ीकरण किया जाना, बेस-बेतालेश्वर मोटर मार्ग से विकास भवन तक मोटर मार्ग का निर्माण किया जायेगा, निर्माणाधीन कलेक्ट्रेट परिसर में दस्तावेज लेखकों हेतु शैड, अधिवक्ताओं के बैठने हेतु चौम्बर, कैन्टीन आदि जन सुविधाओं का विकास किया जायेगा, अल्मोड़ा गैस गोदाम के पास अपर माल रोड एवं लोअर माल रोड को जोड़ने वाले मार्ग का निर्माण किया जायेगा, अल्मोड़ा बाजार में विद्युत, टेलीफोन एवं अन्य समस्त झूलते तारों को भूमिगत किया जायेगा, धौलछीना में मिनी स्टेडियम का निर्माण किया जायेगा, कोसी से हवालबाग में एग्रो प्रोसेसिंग ग्रोथ सेन्टर को जोड़ने वाली सड़क, कैफे निर्माण एवं अन्य अवस्थापना सुविधाओं का विकास किया जायेगा, कसारदेवी क्षेत्र स्थित डीनापानी में आपदा प्रबन्धन विभाग के स्वामित्व की भूमि पर आपदा प्रबन्धन सम्बन्धी प्रशिक्षणों हेतु उच्च स्तरीय रीजनल ट्रेनिंग सेन्टर बनाया जायेगा, स्यालीधार/पाण्डेखोला में राजस्व विभाग की आवासीय कालोनी का निर्माण, उन्होंने कहा कि अल्मोड़ा शहर में सीवर लाईन का निर्माण किया जायेगा, किया जायेगा।
ताकुला मण्डल में पॉलीटैक्नीक में सिविल और फार्मेसी ट्रेड खोला जायेगा, ताकुला मण्डल में सुअररोधक ताड़बाड़ का कार्य किया जायेगा, ग्राम सुनोली में स्व0 सोबन सिंह जीना के जन्मोत्सव पर होने वाले मेले को राजकीय मेला घोषित किया गया, सोमेश्वर आईटीआई को स्व0 प्रयाग दत्त जोशी के नाम पर किया जायेगा, सोमेश्वर विधानसभा में 10 हैण्डपम्प लगाये जायेंगे, त्रिवेणी घाट का सौन्दर्यीकरण किया जायेगा, लकड़ी टाल का स्थानान्तरण सोमेश्वर बाजार से घाट में किया जायेगा, सोमेश्वर सोमनाथ मन्दिर का सौन्दर्यीकरण किया जायेगा, बयालाखलसा बद्रीनाथ मन्दिर के कार्य हेतु धनराशि स्वीकृत की जायेगी, चनौदा शहीद दिवस को राजकीय मेला घोषित किया जायेगा, हुकुम सिंह बोरा राजकीय महाविद्यालय में भवन का निर्माण किया जायेगा, राजकीय इण्टर कालेज भगतोला में कक्षा कक्ष का निर्माण किया जायेगा, स्वतन्तत्रा संग्राम सेनानी नारायण सिंह नयाल की मूर्ति स्थापना एवं स्मारक का निर्माण किया जायेगा, जवाहर सिहं बिष्ट की मूर्ति एवं स्मारक का निर्माण किया जायेगा, ग्राम कयाला में शहीद कैलाश सिंह रौतेला मार्ग का चौड़ीकरण व विस्तारीकरण किया जायेगा, मण्डल स्याहीदेवी में हैण्डपम्प लगाये जायेंगे, शीतलाखेत इण्टर कालेज के कक्षा कक्षों की मरम्मत कार्य किया जायेगा, अल्मोड़ा-ग्वालदम-कर्णप्रयाग मोटर मार्ग में ग्वालाकोट से चुडलेख तक मोटर मार्ग का निर्माण किया जायेगा, राम मन्दिर से ग्राम पंचायत गुड़काण्डे तक मोटर मार्ग का निर्माण किया जायेगा, राजकीय इण्टर कालेज सिरखेत का नाम विकास पुरूष नित्यानन्द काण्डपाल के नाम किया जायेगा, मलियाल गॉव में कुमोड़ी मोटर मार्ग का निर्माण किया जायेगा, राजकीय इण्टर कालेज श्रीखेत में खेल मैदान का निर्माण किया जायेगा, सुनियालीकोट-मटिला मोटर मार्ग गड़स्यारी तक जीप मोटर मार्ग का निर्माण किया जायेगा, मोटर मार्ग से नौगॉव जूनियर हाईस्कूल तक जीप लिंग मार्ग का निर्माण किया जायेगा, डूंगा से राजकीय इण्टर कालेज भधौरी तक तक सीसी कंक्रीट मार्ग बनाया जायेगा, चौबटिया-कुनेलाखेत मोटर मार्ग का निर्माण किया जायेगा, मण्डल ताकुला में हैण्डपम्प लगाये जायेंगे।
प्राथमिक विद्यालय दुमड़नाथ में चाहरदीवारी का निर्माण किया जायेगा, दुग्ध प्रोत्साहन धनराशि यहॉ पर अवमुक्त की जायेगी, राजकीय इण्टर कालेज सलत का नाम शहीद कैप्टन बहादुर सिंह कैड़ा के नाम पर किया जायेगा, अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र सोमेश्वर का सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के रूप में उच्चीकृत किया जायेगा।
जागेश्वर धाम में मोक्षदा हरित शवदाह प्रणाली तथा एस0टी0पी0 व सिवरेज लाईन का निर्माण किया जायेगा, जागेश्वर में आरतोला से फुलई जागेश्वर, मन्तोला, गोठ्यूड़ा, भगरतोला, चमुवा, नैनी आदि ग्रामों हेतु बाईपास का निर्माण किया जायेगा, जागेश्वर धाम में मुख्य प्रवेश द्वार आरतोला का सौन्दर्यीकरण किया जायेगा तथा आरतोला से जागेश्वर मोटर मार्ग में स्थित पौराणिक मन्दिरों, गुफाओं, ब्रहमकुण्ड एवं रैनबसेरे का सौन्दर्यीकरण किया जायेगा, महतगॉव से हवालबाग को जोड़ने हेतु पुल का निर्माण किया जायेगा, लखुडियार चित्रित शैलाश्रय ग्राम दिंगोली अल्मोड़ा का सौन्दर्यीकरण का कार्य किया जायेगा, पातालदेवी मंदिर, ग्राम शैल का जीर्णाेद्धार किया जायेगा, त्रिनेत्रेश्वर एकादश रूद्र महादेव मन्दिर एवं नौदेवल मंदिर समूह ग्राम बमनस्वाल का जीर्णाेद्धार कार्य किया जायेगा, पातालदेवी मंदिर ग्राम शैल का जीर्णाेद्धार कार्य किया जायेगा, तहसील जैंती अन्तर्गत ग्राम पंचायत कुमाल्सों के तोक खड़ियानौली में लिफ्ट सिंचाई योजना का निर्माण किया जायेगा, चायखान-थुवासिमल मोटर मार्ग के किमी0 10 से निरई ग्राम पंचायत तक 2 किमी0 सड़क का डामरीकरण एवं अन्य कार्य किया जायेगा, चलमोड़ी गाड़ा से नया सिरकोट तक 5 किमी0 मोटर मार्ग का निर्माण किया जायेगा।
मरचूला में एडवेंचर र्स्पाेटस सेन्टर एवं गैस्ट हाउस का निर्माण, शीतलाखेत एवं इसके आस-पास के क्षेत्र को सेब उत्पादक पट्टी के रूप में विकसित किया जायेगा तथा यहॉ उद्यान विभाग की भूमि पर अवस्थापना विकास सम्बन्धी कार्य कराये जायेंगे, विकासखण्ड चौखुटिया में भगवान भैरवनाथ मन्दिर लावागढ़ी भैरव मंदिर पाण्डुवाखाल को धार्मिक पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जायेगा, चौखुटिया में मॉ नन्दादेवी मन्दिर जाबर, कोट्यूड़ाताल को धार्मिक पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जायेगा, द्वाराहाट में स्याल्दे बिखोती मेले को राजकीय मेला घोषित किया जायेगा, द्वाराहाट इण्टर कालेज द्वाराहाट में भवनों की मरम्मत एवं मुख्य भवन का जीर्णाेद्धार का कार्य किया जायेगा, आदर्श इण्टर कालेज सुरईखेत में भवनों का जीर्णाेद्धार किया जायेगा, नौलाकोट से बगड़गॉव की ओर गगास नदी पर पैदल झूला पुल का निर्माण, नौबाड़ नैथना देवी मन्दिर को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जायेगा, द्वाराहाट पेयजल योजना फेज-2 का निर्माण कार्य किया जायेगा, बिन्ता भतौरा उदेपुर तक 10 किमी0 लिंक मोटर मार्ग का सेतु सहित निर्माण किया जायेगा, वि0ख0 चौखुटिया में कुथलाड नदी पर बाढ़ सुरक्षात्मक कार्य किया जायेगा, भूमिया मन्दिर मासी को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जायेगा, वि0ख0 चौखुटिया में खेल मैदान का निर्माण किया जायेगा, दूरागिरी मन्दिर के समीप अत्याधुनिक सर्वाजनिक सुलभ शौचालय एवं सामुदायिक भवन का निर्माण किया जायेगा, विधानसभा द्वाराहाट के अन्तर्गत दुर्गम क्षेत्रों (जालली, तड़ागताल, दूनागिरी, जौरासी) में उत्तम श्रेणी के मोबाईल टावरों की स्थापना की जायेगी, चौखुटिया में मासी में राम पादुका पर रामगंगा नदी में बाढ़ सुरक्षात्मक कार्यों का निर्माण किया जायेगा विधानसभा द्वाराहाट के अन्तर्गत गजार के बजोरगाड़ में स्टेडियम का निर्माण किया जायेगा, बग्वालीपोखर में रामलीला मैदान का विस्तारीकरण, चाहरदीवारी व मंच का निर्माण किया जायेगा, विकासखण्ड हवालबाग के साई मंदिर से धार की तूनी तक मोटर मार्ग का डामरीकरण एवं सुधारीकरण कार्य किया जायेगा, अल्मोड़ा में एक बड़ी पार्किंक के लिए स्वीकृति आदेश जल्दी ही जारी कर दिया जायेगा, विधानसभा क्षेत्र जागेश्वर धौलछीना में एक मिनी स्टेडियम का निर्माण किया जायेगा, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र मानिला का सुदृढ़ीकरण किय जायेगा, उप तहसील मछोड़ को पूर्ण तहसील का दर्जा दिया जायेगा, सल्ट के इनोला से न्यूमा तक मोटर मार्ग का निर्माण किया जायेगा, मौलेखाल बाजार में पार्किंग का निर्माण किया जायेगा, मठखाली, कालिका मन्दिर तक मोटर मार्ग का निर्माण किया जायेगा, राजकीय इण्टर कालेज मछोड़ में खेल मैदान का निर्माण किया जायेगा, खुसियाथल में खैल मैदान का निर्माण किया जायेगा। द्वाराहाट इण्टर कालेज में भवनों का जीर्णाेद्धार व मुख्य द्वार का निर्माण किया जायेगा, आदर्श इण्टर कालेज सुरईखेत में भवनों का निर्माण किया जायेगा, चलमोड़ी-सीराकोट मोटर मार्ग का निर्माण किया जायेगा। इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने कहा कि निकट भविष्य में अल्मोड़ा को भी रेल लाइन से जोड़ा जाएगा जिसके लिए प्रस्ताव भारत सरकार को प्रेषित किया जाएगा।
कार्यक्रम में उपस्थित केन्द्रीय रक्षा एवं पर्यटन राज्यमंत्री अजय भटट ने कहा कि प्रधानमंत्री के नेतृत्व में केन्द्र एवं राज्य सरकार बेहतर कार्य कर रही है। बीआरओ द्वारा हमारी सीमाओं तक बेहतर सड़क सुविधा दी गयी है। इसके अलावा हमारे सैनिक सीमाओं में बेहतर चौकसी कर रहे है। प्रदेश में पर्यटन की अपार सम्भावनाओं को देखते हुए भविष्य में यहॉ पर कई कार्य किये जाने है।
इस कार्यक्रम में उपस्थित बाल विकास राज्य मंत्री रेखा आर्या ने कहा कि मुख्यमंत्री के मार्ग निर्देशन में कई योजनायें चल रही है साथ ही विभाग द्वारा भी प्रदेश के हित में महत्वपूर्ण योजनाओं का क्रियान्वयन चल रहा है।
कार्यक्रम में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने कहा कि प्रदेश सरकार बेहतर कार्य कर रही है व जो कार्य वर्ष 2017 से पूर्व रूक गये थे उन्हें वर्तमान सरकार पूर्ण कर रही है। उन्होंने कहा कि आज विकास की सारी सम्भावनायें धरातल पर उतर रही है जिससे लोग आशान्वित है।
इस अवसर पर विधानसभा उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह चौहान, जनपद प्रभारी मंत्री बिशन सिंह चुफाल, विधायक द्वाराहाट महेश नेगी, विधायक सल्ट महेश जीना, डीआईजी नीलेश आनन्द भरणे, जिलाधिकारी वन्दना सिंह, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक पंकज भट्ट के अलावा अपार जन समूह उपस्थित रहा।

मुख्यमंत्री की अल्मोड़ा को सौगात, 29895 लाख रुपये की योजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने अपने अल्मोड़ा जनपद भ्रमण के दौरान आज पाण्डेखोला स्थित नये कलेक्ट्रेट भवन का लोकार्पण किया। पाण्डेखोला स्थित नवीन कलेक्ट्रेट में कोषागार, जिला शासकीय अधिवक्ता कार्यालय, अभियोजन कार्यालय, आबकारी कार्यालय व अन्य पटलों ने कार्य करना शुरू कर दिया है। धीरे-धीरे सभी पटल यहॉ शिफ्ट हो जायेंगे। इस दौरान हुए सूक्ष्म कार्यक्रम में मुख्यमंत्री द्वारा कई लाभार्थियों को प्रशस्ति पत्र व सहायता राशि के चैक वितरित किये। जिनमें पीएमइजीपी योजना के अन्तर्गत 2 लाभार्थी व मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना के अन्तर्गत 3 लाभार्थियों को प्रशस्ति पत्र वितरित किये गये। समाज कल्याण विभाग द्वारा दिये जाने वाले 5 दिव्यांग जन लाभार्थियों को सहायक उपकरण वितरित किये गये। इसके अलावा 5 लाभार्थी महिलाओं को मुख्यमंत्री महालक्ष्मी किट व 5 लाभार्थियों को पर्यटन विभाग द्वारा कोविड के कारण हुए आर्थिक नुकसान हेतु दिये जाने वाली सहायता राशि दो हजार रू0 की प्रथम किश्त के रूप में प्रदान की गई। इस अवसर पर उन्होंने कुल 29894.89 लाख रू0 की योजनओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया जिसमें 18097.83 लाख रू0 की योजनाओं का लोकार्पण एवं 11797.06 लाख रू0 की योजनाओं का शिलान्यास किया।
मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर जिन विकास योजनाओं का लोकार्पण किया उसमें देवलीखान ग्राम समूह (पम्पिंग) पेयजल योजना लागत 2012.53 लाख रू0, नन्दादेवी मंदिर के गीता भवन का पुर्ननिर्माण संरक्षण/रखरखाव लागत 69.11 लाख रू0, डाल लिफ्ट सिंचाई योजना का निर्माण (जिला योजना) लागत 97.96 लाख रू0, सुपईखान से बमनतिलाड़ी मोटर मार्ग का निर्माण कार्य लागत 464.67, सुपईखान से बमनतिलाड़ी के कि0मी0 06 पर 24 मी0 स्पान स्टील गार्डर ब्रिज का निर्माण लागत 99.24 लाख रू0, दलबैंड से नैनी मोटर मार्ग का निर्माण कार्य स्टेज-2 लागत 258.63 लाख रू0 है। भिकियासैंण में जल संर्वद्धन/जल संरक्षण मद में सौगड़ गधेरे पर वियर-निर्माण की योजना लागत 206.88 लाख रू0, तहसील स्याल्दे सड़क मार्ग के डामरीकरण का कार्य (चचरोटी-स्याल्दे-भाकुड़ा) लागत 360.38 लाख रू0, राजकीय इण्टर कालेज भण्डारखोला में पुस्ताकालय कक्ष, विज्ञान, प्रयोगशाला कक्ष, एवं अतिरिक्त कक्षा कक्ष निर्माण कार्य लागत 84.150 लाख रू0, रा0इ0का0 मानिला का जीर्णाेद्धार लागत 99.690 लाख रू0, इन्हलू भटूली लिफ्ट सिंचाई योजना का निर्माण लागत 173.02 लाख रू0 है।
तोली से मैचून तक लिंक मार्ग का निर्माण लागत 92.66 लाख रू0, राजकीय आयुर्वेदिक चिकित्सालय धारखोल लमगड़ा का निर्माण कार्य लागत 52.17 लाख रू0, रा0उ0मा0वि0 छतोला बलमा का निर्माण लागत 38.35 लाख रू0, जागेश्वर के अन्तर्गत खोला मोटर मार्ग से बर्ताेली मोटर मार्ग का निर्माण 227.93 लाख रू0, जैंती पीपली से सेल्टाचापड़ मोटर मार्ग लागत 432.64 लाख रू0, तलेड़ बैंड से बिरखोला भैसारी मल्ली मोटर मार्ग का निर्माण लागत 520.68 लाख रू0, मोरनौला-जैंती मोटर मार्ग किमी0 21 से चौकुना मोटर मार्ग का निर्माण लागत 783.81 लाख रू0, पशु चिकित्सालय में अनावसीय भवन का निर्माण लागत 20.47 लाख रू0 नाबार्ड मद के अन्तर्गत काकड़ीघाट से सिरौता नदी तक बाढ़ सुरक्षा योजना लागत 245.33 लाख रू0, ताकुला में 33/11 के0वी0 उप संस्थान का निर्माण लागत 472.06 लाख रू0, रानीखेत प्राथमिक विद्यालय टानारैली में कक्षा-कक्षा का निर्माण लागत 35.22 लाख रू0, रा0उ0मा0वि0 सौनी में दो कक्षा-कक्षों का निर्माण लागत 30.30 लाख रू0, रा0उ0मा0वि0 सिरमोली में दो कक्षा-कक्षों का निर्माण लागत 30.30 लाख रू0, ग्राम खत्याड़ी में ग्राम सिंगोली से रीठा महादेव तक मोटर मार्ग के नव निर्माण कार्य लागत 281.00 लाख रू0, रा0उ0मा0वि0 सोनी में कक्षा-कक्षा एवं शौचालय खण्ड के निर्माण कार्य लागत 21.660 लाख रू0, चमड़खान ग्राम समूह पम्पिंग पेयजल योजना लागत 1758.20 लाख रू0, चिनियानौला ग्राम समूह पम्पिंग पेयजल योजना लागत 2040.11 लाख रू0, सीएचसी द्वाराहाट में चिकित्साधिकारियों के लिए ट्रान्जिट होस्टल का निर्माण लागत 242.270 लाख रू0, सीएचसी चौखुटिया में चिकित्साधिकारियों के लिए ट्रान्जिट होस्टल का निर्माण लागत 242.110 लाख रू0,
चौखुटिया में ग्राम गंगा बायी नगर का पुनरोद्धार की योजना लागत 296.27 लाख रू0, मनसादेवी मन्दिर का सौन्दर्यकरण लागत 49.540 लाख रू0, रामपुर भनोटिया ग्राम समूह पपिम्ग योजना लागत 762.05 लाख रू0, धौलछीना से कांचुला मोटर मार्ग स्टेज-2 लम्बाई 5.650 किमी0 लागत 33.90 लाख रू0, नये कलेक्ट्रेट भवन का निर्माण लागत 3623.32 लाख रू0, रा0इ0का0 मानिला का जीर्णाेद्धार लागत 99.690 लाख रू0, भागादेवली से विनायक मेरगॉव मोटर मार्ग स्टेज-2 लम्बाई 6.900 लाख रू0, देवलीखान ग्राम समूह पेयजल योजना लागत 2012.53 लाख रू0, चौबटिया कुनलाखेत बमस्यू मोटर मार्ग का पुनः निर्माण कार्य लागत 233.36 लाख रू0, जाल से लखनारी मोटर मार्ग स्टेज 2 लागत 255.52 लाख रू0, भिकियासैंण में जल संर्वद्धन/ जल संरक्षण मद में सौगड़ गधेरे पर वियर निर्माण की योजना लागत 206.88 लाख रू0, अल्मोड़ा मेडिकल कालेज पेयजल योजना लागत 1090.62 लाख रू0, अल्मोड़ा जलोत्सारण योजना लागत 2515.56 लाख रू0, राजकीय पशु चिकित्सालय कफड़खान में चारा बैंक निर्माण लागत 13.430 लाख रू0, केन्द्रीय विद्यालय अल्मोड़ा में 02 कक्षा कक्षों का निर्माण लागत 39.220 लाख रू0, सराईखेत में मिनी स्टेडियम का निर्माण लागत 99.23 लाख रू0, अल्मोड़ा पनार मोटर मार्ग के किमी0 38 सेघुरकुना मोटर मार्ग लागत 401.79 लाख रू0, अल्मोड़ा-शहरफाटक-चायखान-रणाऊ मोटर मार्ग लागत 508.74 लाख रू0,
रा0उ0प्रा0वि0 बधाण का निर्माण लागत 28.15 लाख रू0, ताकुला के अयारपानी में हैल्थ वेलनैस सेन्टर का निर्माण लागत 10.00 लाख रू0। ताकुला के गणनाथ में हैल्थ वेलनेस सेन्टर का निर्माण लागत 10.00 लाख रू0, कोट्यूड़ा में हैल्थ वैलनेस सेन्टर का निर्माण लागत 10.00 लाख रू0, सुनोली में हैल्थ वेलनेस का निर्माण लागत 10.00 लाख रू0 लोद में हैल्थ वेलनेस का निर्माण लागत 10.00 लाख रू0, जल जीवन मिशन के अन्तर्गत सोमेश्वर में 6 पेयजल योजनाओं का शिलान्यास लागत 177.90 लाख रू0, रमेला, डूगरी और उतरौड़ा में गूल, सिंचाई टैंक का निर्माण लागत 35.37 लाख रू0, दौलाघट में मिनी स्टेडियम का निर्माण लागत 62.92 लाख रू0, कठपुड़िया-बंगसर मोटर मार्ग का निर्माण लागत 105.00 लाख रू0, चिलियानौला के कार्यालय भवन का निर्माण लागत 197.92 लाख रू0, रानीखेत में तहसील के क्षतिग्रस्त आवास एवं कान्फ्रेस हॉल निर्माण है लागत 414.08 लाख रू0, जी0जी0आई0सी0 द्वाराहाट में मल्टी परपस हॉल का निर्माण लागत 120.76 लाख रू0, नगर पंचायत द्वाराहाट में टैक्सी स्टैण्ड का निर्माण लागत 104.74 लाख रू0, रा0इ0का0 चौखुटिया में प्रयोगशाला निर्माण लागत 55.00 लाख रू0 है।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने जिन योजनाओं का शिलान्यास किया उनमें दामूधारा से सरसों तक लिंक मोटर मार्ग का नव निर्माण लागत 50.01 लाख रू0, कठपुड़िया-बंगसर मोटर मार्ग लागत 105.00 लाख रू0, द्वारसों-काकड़ीघाट मोटर मार्ग से टूरकोटा ग्राम तक मार्ग का निर्माण लागत 105.00 लाख रू0, ज्योली-बसर-खूॅट मोटर मार्ग में निर्माणाधीन कार्यों से बसगॉव-दड़माड़ मोटर मार्ग का निर्माण लागत 69.93 लाख रू0, ज्योली-बसर-खूॅट मोटर मार्ग के किमी0 2 में 18 किमी0 स्पान सिंगल लेन सेतु का निर्माण लागत 166.26 लाख रू0, पशुपालकों को चारा उपलब्ध कराना लागत 17.00 लाख रू0, अल्मोड़ा में पर्यटकों के सूचनार्थ/मार्गदर्शन हेतु साईनेजों का निर्माण लागत 15.00 लाख रू0, लघुउडियार संरक्षण कार्य लागत 40.00 लाख रू0, अल्मोड़ा के विभिन्न स्थानों पर म्यूरल्सों का निर्माण लागत 15.00 लाख रू0, रानी महल का संरक्षण एवं जीर्णाेद्धार लागत 17.50 लाख रू0, कोसी बैराज में सहासिक गतिविधियों/साईनेज डेवलेप्मेंट लागत 20.00 लाख रू0, स्याहीदेवी मन्दिर में व्यू पाइंट व मचान का निर्माण लागत 15.00 लाख रू0, जसुलीदेवी धर्मशाला कटारमल का जीर्णाेद्वार लागत 10.00 लाख रू0, प्रा0 स्वास्थ्य केन्द्र टाईप ए कनारीछीना का भवन निर्माण कार्य लागत 196.58 लाख रू0, सीएमओ कार्यालय परिसर में दवा गोदाम का भवन निर्माण लागत 240.89 लाख रू0, रा0इ0का0 कमलेश्वर में दो कक्षा-कक्षों का निर्माण लागत 40.91 लाख रू0,
राष्ट्रीय कृषि विकास योजना के अन्तर्गत राजकीय कुक्कुट प्रक्षेत्र हवालबाग का निर्माण कार्य लागत 8.50 लाख रू0, होटल मैनेजमेंट संस्थान का सुदृढ़ीकरण एवं आधुनिकरण लागत 62.05 लाख रू0, राजकीय प्राथमिक विद्यालय गधोली में भवन निर्माण कार्य लागत 27.55 लाख रू0, राजकीय प्राथमिक विद्यालय कफलकोट में भवन निर्माण कार्य लागत 24.84 लाख रू0, शासकीय कार्यालयों/भवनां में 05-05 किलो क्षमता के ऑफ ग्रिड सोलर पावर प्लान्टों की स्थापना लागत 72.60 लाख रू0, जल जीवन मिशन के अन्तर्गत विधानसभा अल्मोड़ा की 14 पेयजल योजनाओं का शिलान्यास लागत 972.04 लाख रू0, बिरोड़ा लिफ्ट सिंचाई योजना का निर्माण लागत 86.10 लाख रू0, महतगॉव लिफ्ट सिंचाई योजना का पुनरोद्धार लागत 50.59 लाख रू0, पशुपालकों को चारा उपलब्ध कराना लागत 17.00 लाख रू0, जैनल से डोटियाल मुख्य मार्ग से कुन्हील तक मोटर मार्ग का डामरीकरण लागत 227.27 लाख रू0, पौराणिक कालिका मन्दिर मठखानी के सौन्दर्यकरण लागत 82.62 लाख रू0, जूनियागढ़ी मंदिर के सौन्दर्यकरण लागत 46.60 लाख रू0, पशुपालकों को चारा उपलब्ध कराना लागत 17.00 लाख रू0,
रा0इ0का0 जालली में इण्टर प्रयोगशाला निर्माण लागत 55.00 लाख रू0, रा0इ0का0 सराईखेत में इण्टर कालेज प्रयोगशाला का निर्माण लागत 55.00 लाख रू0, रा0इ0का0 क्वैराला/सल्ट में इण्टर कालेज प्रयोगशाला का निर्माण लागत 55.00 लाख रू0, स्याहीदेवी मण्डल ग्राम पपोली में मिनी स्टेडियम का निर्माण लागत 99.68 लाख रू0, राजकीय महाविद्यालय सल्ट के भवन निर्माण का कार्य लागत 299.750 लाख रू0, रा0इ0का0 लमगड़ा में अनुरक्षण कार्य लागत 20.00 लाख रू0, रा0इ0का कनरा में इण्टर कालेज प्रयोगशाला का निर्माण लागत 55.00 लाख रू0, झॉकरसैम में स्थल विकास एवं सौन्दर्यकरण लागत 10.00 लाख रू0, जल जीवन मिशन के अन्तर्गत विधानसभ जागेश्वर की 11 पेयजल योजनाओं का शिलान्यास 257.24 लाख रू0, सोमेश्वर के बड्यूड़ा से थपनिया तक मोटर मार्ग का नवनिर्माण 240.76 लाख रू0, निरई मोटर मार्ग से ओलिया गॉव लउदमपुर व सूपाकोट तक मोटर मार्ग का नव निर्माण लागत 42.20 लाख रू0, रा0इ0का0 सोमेश्वर में वृहद् मरम्मत कार्य लागत 30.00 लाख रू0
पिनाकेश्वर महादेव मन्दिर ट्रेकिंग मार्ग में रैन शैल्टर बैंच छतरी का निर्माण लागत 10.00 लाख रू0, रा0का0जू0हा0 जैनोली में भवन निर्माण लागत 10.00 लाख रू0, रा0इ0का0 ताड़ीखेत में इण्टर कालेज प्रयोगशाला का निर्माण लागत 10.00 लाख रू0, रा0इ0का0 चौमूधार में 02 कक्षा-कक्षों का निर्माण लागत 10.00 लाख रू0, रानीखेत में चमड़खान कनोली, सैलापानी मोटर मार्ग का निर्माण लागत 240.76 लाख रू0, रा0इ0का0जू0हा0 जैनोली में भवन निर्माण लागत 56.18 लाख रू0, रा0इ0का0 ताड़ीखेत में प्रयोगशाला का निर्माण लागत 55.00 लाख रू0, रा0इ0का0 चौमूधार में 02 कक्षा-कक्षों का निर्माण लागत 40.91 लाख रू0, द्वाराहाट में छब्बीसी-बग्वालीपोखर मोटर मार्ग का सुधारीकरण एवं डामरीकरण लागत 401.00 लाख रू0, द्वाराहाट में कफड़ा-बडे़त-तिपौला मोटर मार्ग सुधारीकरण एवं डामरीकरण लागत 286.69 लाख रू0, द्वाराहाट में सिमलगॉव-सुरईखेत मोटर मार्ग के सुधारीकरण एवं डामरीकरण का कार्य लागत 227.02 लाख रू0 है।
इस अवसर पर विधानसभा उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह चौहान, जनपद प्रभारी मंत्री बिशन सिंह चुफाल, विधायक द्वाराहाट महेश नेगी, विधायक सल्ट महेश जीना, डीआईजी नीलेश आनन्द भरणे, जिलाधिकारी वन्दना सिंह, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक पंकज भट्ट, मुख्य विकास अधिकारी नवनीत पाण्डे सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

देवभूमि में प्राचीन समय से ही योगाभ्यास किए जाते रहे हैंः तीरथ सिंह रावत


मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने शनिवार को अपने भागीरथीपुरम स्थित आवास से सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय, अल्मोड़ा के योग विज्ञान विभाग द्वारा आयोजित अंतरराष्ट्रीय वेबिनार को शुभारम्भ किया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय द्वारा वेबिनार के माध्यम से योग को आम जन तक ले जाने का सराहनीय प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि देवभूमि उत्तराखण्ड में ऋषि, मुनियों एवं योग साधकों द्वारा प्राचीन समय से ही योगाभ्यास किये जाते रहे हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने योग को अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाने का कार्य किया। 2015 से प्रत्येक 21 जून को अन्तरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि योग मनुष्य को शारीरिक एवं मानसिक रूप से स्वस्थ रखता है। योग को अपनी नियमित दिनचर्या में लाना जरूरी है। योग की वजह से भारत की विश्व स्तर पर अलग पहचान है।
इस अवसर पर वर्चुअल माध्यम से मुख्य वक्ता डॉ. एच.आर. नागेन्द्र, कुलपति सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय प्रो. एन.एस. भण्डारी, डॉ. नवीन भट्ट, सुश्री मोनिका बंसल आदि उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री ने की जनपद बागेश्वर व अल्मोड़ा जनपदो के लिये की गई घोषणाओं की समीक्षा


मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से जनपद बागेश्वर एवं अल्मोड़ा जनपदों के लिये मुख्यमंत्री द्वारा की गई घोषणाओं के क्रियान्वयन की समीक्षा की।

मुख्यमंत्री ने कहा कि घोषणा के तहत अपूर्ण योजनाओं से सम्बन्धित डीपीआर 15 जुलाई तक तैयार कर दी जाय। इसके लिये सचिव एवं विभागाध्यक्ष आपसी समन्वय से योजनाओं के क्रियान्वयन की समीक्षा करे योजनायें समयबद्धता एवं गुणवत्ता के साथ पूर्ण हो यह विभागीय प्रमुखों की जिम्मेदारी है।

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये कि योजनाओं के क्रियान्वयन में अनावश्यक बहाने बाजी नही होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि घोषित योजनायें जब धरातल पर दिखाई दे तभी वह पूर्ण मानी जाय इसमें कार्यवाही गतिमान जैसे शब्दो का उल्लेख किये जाने के बजाय वास्तविक स्थिति का उल्लेख होना चाहिए।

मुख्यमंत्री तीरथ सिंह ने कहा कि सड़को, पुलो, पेयजल सिंचाई की योजनाओं, स्कूल व अन्य भवनों के निर्माण, खेल मैदानों पार्किंग स्थलांे के विकास आदि से सम्बन्धित योजनाओं के लम्बित प्रस्तावों की डीपीआर 15 जुलाई तक हर हालात में तैयार की जाय ताकि उनके लिये धनराशि की स्वीकृति के साथ टेण्डर प्रक्रिया भी अविलम्ब प्रारम्भ की जा सके। मुख्यमंत्री ने कहा कि योजनाओं के क्रियान्वयन में धनराशि की कमी नही होने दी जायेगा।

उन्होंने सल्ट विधानसभा क्षेत्र की पंपिंग पेयजल योजना तथा अल्मोड़ा की खत्याड़ी ग्राम सभा समूह पेयजल योजना के प्रस्ताव अविलम्ब जल जीवन मिशन के तहत प्रेषित करने के निर्देश दिये हैं। मुख्यमंत्री ने विकासखण्ड ताकुला जाने वाले मार्ग के निर्माण के लिये वन विभाग एवं लोक निर्माण विभाग से आपसी विचार विमर्श के बाद इस सम्बन्ध में दो सप्ताह में निर्णय लेने को कहा ताकि सड़क का निर्माण शीघ्र हो सके।

मुख्यमंत्री ने पर्वतीय क्षेत्रों में निर्मित होने वाली सड़को व पुलो के निर्माण में तेजी लाने के भी निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि जिन कार्यों के अभी टेण्डर नही हुए हैं उनके शीघ्र टेण्डर कर लिये जाये ताकि बरसात के तुरन्त बाद उनपर कार्य आरम्भ किया जा सके।

बैठक में बताया गया है कि विधानसभा क्षेत्र कपकोट के लिये कुल 37 घोषणाये की गई हैं जिनमें से 20 पूर्ण हो चुकी है शेष पर कार्यवाही गतिमान है। इसी प्रकार बागेश्वर के लिये 29 घोषणाओं में 19 पूर्ण हो चुकी है। अल्मोड़ा अन्तर्गत 32 घोषणाओं में 16, सल्ट के लिये की गई 76 घोषणाओं में से 49, द्वारहाट की 16 में से 15 तथा सोमेश्वर की 74 में 37 घोषणाये पूर्ण हो चुकी है तथा शेष में कार्यवाही गतिमान है।

बैठक में मुख्यमंत्री के मुख्य सलाहकार शत्रुघन सिंह, अपर मुख्य सचिव मनीषा पंवार, आनन्द वर्धन, प्रमुख सचिव आरके सुधांशु, सचिव अमित नेगी, शैलेश बगोली, आर मीनाक्षी सुन्दरम, एस.ए.मुरूगेशन, डाॅ. रणजीत सिन्हा आदि उपस्थित थे।

समीक्षा बैठक में वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती रेखा आर्य, विधानसभा उपाध्यक्ष श्री रघुनाथ सिंह चैहान, विधायक श्री चन्दन रामदास, श्री महेश जीना आदि के साथ ही जिलाधिकारी अल्मोड़ा व बागेश्वर उपस्थित रहे।

रानीखेत में संयुक्त सिविल मिलिट्री कोविड केयर अस्पताल का वर्चुअल उद्धाटन सीएम ने किया

मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने देहरादून कैंप कार्यालय से अल्मोड़ा जिले के रानीखेत स्थित संयुक्त सिविल मिलिट्री कोविड केयर अस्पताल का वर्चुअल उद्घाटन किया। महिला बाल विकास मंत्री रेखा आर्य, अल्मोड़ा सांसद अजय टम्टा, विधानसभा उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह चैहान, रानीखेत विधायक करण माहरा, सचिव अमित नेगी व जिला प्रशासन के अधिकारी मौजूद रहे।

रानीखेत में 50 बेड क्षमता वाले संयुक्त अस्पताल में 10 बेड ऑक्सीजन युक्त बनाए गए हैं। यह अस्पताल कुमाऊँ रेजीमेंट सेंटर एवं जिला प्रशासन अल्मोड़ा के संयुक्त प्रयास से शुरू किया गया है। अस्पताल के वर्चुअल उद्घाटन के दौरान मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने कहा कि सेना एवं जिला प्रशासन के संयुक्त प्रयास से शुरू किए गए इस अस्पताल का लाभ रानीखेत व आसपास के इलाकों के लोगों को मिल सकेगा। मुख्यमंत्री ने जिला प्रशासन अल्मोड़ा को निर्देश दिए कि इस अस्पताल में ऑक्सीजन बैड की संख्या बढ़ाने के लिए प्रयास किए जाएं। ’मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की प्रेरणा से लगातार कोरोना संक्रमण को रोकने के प्रयास किये जा रहे है। मुख्यमंत्री ने कहा कि डीआरडीओ के सहयोग से अगले कुछ दिन में हल्द्वानी और ऋषिकेश में बनाए जा रहे अस्थाई कोविड अस्पताल भी तैयार हो जाएंगे जिससे प्रदेशवासियों को उपचार में लाभ मिल सकेगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आने वाले समय के लिए हमें अभी से तैयार होना होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना की तीसरी लहर की शुरुआत से पहले ही हमें सीएचसी, पीएचसी स्तर के अस्पतालों को मजबूत करना होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि जनता को जागरूक करना बेहद जरूरी है। दवाई के साथ- साथ कड़ाई भी करनी होगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में टेस्टिंग को और बढ़ाया जाए और अधिक से अधिक लोगों को टेस्टिंग के लिए प्रेरित किया जाए। आशा, आंगनवाड़ी और ग्राम समिति के माध्यम से डोर टू डोर कोविड किट, होम आइसोलेशन में उपचार करवा रहे संक्रमितों तक समय से पहुंचा दी जाए।

महिला बाल विकास मंत्री रेखा आर्य ने मुख्यमंत्री का धन्यवाद करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री के निर्देशों पर विधायक निधि का इस्तेमाल जनप्रतिनिधि अपने विवेक अनुसार कोविड के लिए कर रहे हैं जिसका फायदा प्रदेश के सभी विधानसभा क्षेत्र को मिल रहा है। इस दौरान सांसद अजय टम्टा ने कहा कि मुख्यमंत्री का प्रयास सराहनीय है मुख्यमंत्री द्वारा बेस अस्पताल अल्मोड़ा और मेडिकल कॉलेज को जोड़कर कोविड अस्पताल बनाने से बड़ा लाभ आम जनता को हो रहा है। विधानसभा उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह चैहान ने कहा कि सरकार का सार्थक प्रयास धरातल पर नजर आ रहा है। कार्यक्रम में रानीखेत विधायक श्री करण माहरा ने मुख्यमंत्री का धन्यवाद देते हुए कहा कि मुख्यमंत्री के सहयोग के बिना यह अस्पताल संभव नहीं था। इस दौरान जिला अधिकारी अल्मोडा नितिन भदौरिया, कुमायूँ रेजिमेंट सेंटर के ब्रिगेडियर आइएस सौमयाल एव जिला प्रशासन के अधिकारी मौजूद रहे।

अल्मोड़ा पहुंचे सीएम, कोविड कंट्रोल रूम का किया निरीक्षण

मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत जनपद अल्मोड़ा के मुख्यालय पहुॅचे। जहॉ उन्होंने बेस चिकित्सालय-मेडिकल कालेज का निरीक्षण किया। उन्होंने बेस चिकित्सालय में चल रही व्यवस्थाओं का जायजा लेते हुए अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिये। मुख्यमंत्री ने सर्वप्रथम चिकित्सालय में कोरोना मरीजों की जानकारी के लिए स्थापित हैल्प डैस्क का निरीक्षण कर जानकारी प्राप्त की। इसके बाद उन्होंने चिकित्सालय में डिजीटल डिस्प्ले सिस्टम जिसके माध्यम से लोग प्रतिदिन बेस में हो रहे आरटीपीसीआर सैम्पल की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं, का भी निरीक्षण किया।
वहीं कोविड कन्ट्रोल रूम का भी उन्होंने निरीक्षण किया। मुख्यमंत्री ने सीएनडीएस द्वारा बनाये जा रहे 12 बैड के आईसीयू कक्षों का निरीक्षण भी किया। प्राचार्य मेडिकल कालेज द्वारा इसके बारे में जानकारी प्रदान की गयी। उन्होंने आईसीयू कक्ष को जल्द से जल्द संचालित करने के निर्देश अधिकारियों को दिये।

निरीक्षण के दौरान उन्होंने कोविड वार्ड व उसमें भर्ती मरीजों की जानकारी अधिकारियों से प्राप्त की और कहा कि मरीजों के ईलाज में किसी भी प्रकार की कमी न होने दी जाय और उन्हें बेहतर ईलाज मुहैया कराया जाय। इस दौरान एचएलएल संस्था द्वारा बेस में निर्माणाधीन आक्सीजन जनरेशन प्लान्ट का निरीक्षण करते हुए उन्होंने अधिकारियों को 25 मई तक प्लान्ट निर्माण करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि एचएलएल के उच्चाधिकारियों से उनके द्वारा वार्ता कर कार्यों में तेजी लाने के निर्देश दिये जायेंगे। उन्होंने कहा कि मेडिकल कालेज के अवशेष निर्माण कार्य किन्ही कारणों से रूके थे जो अब प्रारम्भ हो चुके है और उन्हें जल्द से जल्द पूर्ण करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि कोविड संक्रमण की रोकथाम के लिए आवश्यक संसाधनों की कमी आडे़ नहीं आने दी जायेगी। अल्मोड़ा को एक दो दिन में 35 आक्सीजन कन्सन्ट्रेटर्स उपलब्ध कराए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि मेडिकल कालेजों में अन्तिम वर्ष के छात्रों व पूर्व सैनिकों की सेवायें लेकर कोविड में मैनपावर की कमी को दूर किया जायेगा।

इसके बाद मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत द्वारा राजकीय होटल मैनेजमेंट में चल रहे वैक्सीनेशन सेन्टर का निरीक्षण भी किया उन्होंने टीका लगा रहे लोगों से जानकारी प्राप्त की और कहा कि हमें अधिक से अधिक लोगां का टीकाकरण करते हुए इस महामारी को रोकने के प्रयास करने होंगे। उन्होंने कहा कि आज से प्रदेश में 18 से 44 वर्ष आयु वर्ग के नागरिकों के लिए मुफ्त टीकाकरण प्रारम्भ किया गया है जिसमें 400 करोड़ से अधिक धनराशि का व्यय होगी जिसका वहन राज्य सरकार द्वारा किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार जनता के साथ खड़ी है सभी को बेहतर स्वास्थ्य सुविधायें उपलब्ध कराने के हर सम्भव प्रयास किये जा रहे है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 में मीडिया कर्मियों द्वारा बेहतर कार्य किया गया है इस दौरान मीडिया के महत्व को देखते हुए उन्हें फ्रर्न्ट लाईन वर्कर के रूप में प्राथमिकता के आधार पर वैक्सीन लगायी जा रही है।

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को कोरोना संक्रमण रोकथाम के लिए बेहतर प्रबन्ध करने, दवाईयों व आवश्यक उपकरणों की कालाबाजारी करने वाले पर सख्ती और जनपद की सीमाओं में कड़ी निगरानी रखते हुए प्रत्येक आने वाले व्यक्ति की गहन जॉच करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में विशेष ध्यान देने की जरूरत है, आशा सर्विलांस बढ़ाया जाय। पॉजिटिव आ रहे लोगां को होम आईसोलेशन किट तत्काल उपलब्ध कराये और उनके स्वास्थ्य की जानकारी लेते रहें। उन्होंने कहा कि लोगों को इस बात के लिए प्रेरित किया जाय कि हल्के लक्षण होने पर भी अपनी जॉच अवश्य करायें व डाक्टर का परामर्श अवश्य लें।

जिलाधिकारी नितिन सिंह भदौरिया ने जनपद में करोना संक्रमण की रोकथाम एवं आवश्यक तैयारियों की पॉवर पाइंट प्रजेंटशन के माध्यम से मुख्यमंत्री के सम्मुख रखी। इस दौरान प्राचार्य मेडिकल कालेज आर.जी. नौटियाल ने भी मेडिकल कालेज के कार्यों की प्रगति व समस्याओं के बारे में मुख्यमंत्री को अवगत कराया जिस पर उन्होंने शीघ्र समाधान करने का आश्वासन दिया। इस दौरान मा0 विधानसभा उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह चैहान, सांसद अजय टम्टा, विधायक महेश नेगी, विधायक महेश जीना ने कई समस्यायें सम्बन्धित क्षेत्र से मुख्यमंत्री के सम्मुख रखी जिस पर उन्होंने उचित कार्यवाही का आश्वासन दिया।

कार्यक्रम के दौरान कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल, बाल विकास राज्य मंत्री रेखा आर्या, सांसद नैनीताल अजय भट्ट, भाजपा जिलाध्यक्ष रवि रौतेला, जिलाधिकारी नितिन सिंह भदौरिया, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक पंकज भट्ट, मुख्य विकास अधिकारी नवनीत पाण्डे, अपर जिलाधिकारी बीएल फिरमाल, मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. सविता हंयाकी, एसीएमओ डॉ. योगेश पुरोहित, डॉ. दीपांकर डेनियल, उपजिलाधिकारी सीमा विश्वकर्मा, मोनिका, तहसीलदार संजय कुमार, पीएमएस एचसी गढ़कोटी, अनिल आर्या, पूर्व जिलाध्यक्ष भाजपा गोविन्द सिंह पिलख्वाल, रमेश बहुगुणा, कैलाश गुरूरानी, पुलिस उपाधीक्षक वीर सिंह, आपदा प्रबन्धन अधिकारी राकेश जोशी आदि उपस्थित थे।

उत्तराखंड सरकार भी भारत सरकार के साथ डिजिटल क्रांति के क्षेत्र में बढ़ रही आगे


मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने पूर्णागिरी धाम में जियो द्वारा संचालित की जा रही 4जी सेवाओं का वर्चुअल शुभारम्भ किया। उन्होंने पूर्णागिरी धाम में 4जी सेवाओं का शुभारम्भ के लिए मुकेश अम्बानी और जियो परिवार का धन्यवाद किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस कोरोना महामारी के वक्त मोबाइल और डेटा कनेक्टिविटी अति महत्वपूर्ण है। छात्रों की पढ़ाई, मध्यम व लघु उद्योग, उत्तराखण्ड में आने वाले पर्यटकों व स्थानीय नागरिकों के लिए डेटा कनेक्टिविटी बेहद जरूरी है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में डिजिटल इंडिया की परिकल्पना साकार हो रही है। पंचायतों को ऑप्टिकल फाईबर के माध्यम से नेटवर्किंग से जोड़ा गया है। उत्तराखण्ड सरकार भी भारत सरकार के साथ डिजिटल क्रांति के क्षेत्र में आगे बढ़ रही है। हमारी सरकार और जियो कम्पनी ने मिलकर उत्तराखण्ड के दूरस्थ क्षेत्रों तक 4जी मोबाइल कन्क्टिविटी पहुचाने का कार्य किया है।

मुख्यमंत्री तीरथ ने कहा कि उत्तराखण्ड देवभूमि है, यहाँ अनेक धार्मिक स्थल हैं। जियो अधिकतर स्थानों में अपनी 4जी सेवाएं दे रहा है। महत्वपूर्ण मंदिरों और तीर्थक्षेत्रों को अपने 4जी नेटवर्क से जोड़ चुका है। जियो ने उत्तराखण्ड बॉर्डर एरिया में भी 14 साईटस् प्रारंभ कर दी है जिससे उत्तराखण्ड के बार्डर एरिया में रहने वाले लोग भी अब 4जी डिजिटल कनेक्टिविटी से जुड़ चुके हैं। इसी कड़ी के अंतर्गत अब जियो, मॉ पूर्णागिरी धाम को भी अपने 4जी नेटवर्क से जोड़ने जा रहा है। माँ पूर्णागिरी धाम 108 सिद्धपीठों में से एक है और बङी संख्या में श्रद्धालु यहाँ हर वर्ष दर्शनार्थ आते है।

इस अवसर पर वर्चुअल माध्यम से जियो के उत्तराखण्ड स्टेट हेड विशाल अग्रवाल, पूर्णागिरी मंदिर के चैयरमेन भुवन चन्द्र पाण्डे, गिरीश चन्द्र पाण्डे आदि उपस्थित थे।