मुनिकीरेती पुलिस ने आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोप में दो पर किया मुकदमा दर्ज


मुनिकीरेती पुलिस ने आत्महत्या के लिए उकसाने पर स्वामी प्रकाशानंद पुरी सहित दो व्यक्ति पर मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस ने मृतक के जीजा की तहरीर पर मुकदमा दर्ज किया है।

दरअसल, संदीप नेगी निवासी नैनीसैंण जिला चमोली ने मुनिकीरेती थाने में तहरीर दी। बताया कि उनका 24 वर्षीय साला अमित सिंह पुत्र देवेंद्र सिंह ने आत्महत्या पंखे से लटककर कर ली है। बताया कि अमित सिंह को कुछ समय से दो लोग पैसे के लेनदेन को लेकर दबाव बना रहे थे। जिस वजह से उसके साले ने आत्महत्या की है। मामले में सुसाइड नोट के आधार पर पुलिस ने शीशम झाड़ी निवासी दीपक रयाल व स्वामी प्रकाशानंद पुरी के खिलाफ आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोप सहित संबंधित धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया है।

कोविड की जांच रिपोर्ट को अनिवार्य न करने पर पुनर्विचार करें सरकार

कोविड19 से सरकार की गाइडलाइन अब पर्यटकों के साथ लीज पर होटल चलाने वाले संचालकों के लिए मुसीबत बन गई है। दरअसल कोविड की जांच रिपोर्ट को अनिवार्य कर दिए जाने के कारण पर्यटक या तो अपनी बुकिंग को निरस्त कर रहे है, या फिर उन्हें बाॅर्डर पर रोक दिया जा रहा है। ऐसे में लीज पर होटल चला रहे संचालकों के समक्ष रोजगार का संकट पैदा हो गया है। यह बात आज लीज पर होटल चला रहे संचालकों ने प्रेसवार्ता ने की।

प्रेसवार्ता कर मंयक शर्मा ने कहा कि कोविड-19 के बढ़ रहे कहर की वजह से सरकार लगातार उत्तराखंड में प्रवेश करने वाले पर्यटकों के लिए प्रतिबंध लगा रही है। जिसकी वजह से उत्तराखंड का पर्यटन व्यवसाय पूरी तरीके से चैपट होता नजर आ रहा है। ऐसे में बेरोजगारी की लंबी कतार में खड़े हो रहे होटल संचालकों ने सरकार से पर्यटकों के उत्तराखंड आगमन को लेकर लगाए गए प्रतिबंध और सरकारी सुविधाओं में फिक्स चार्ज हटाने की मांग की है।

होटल मालिकों से लीज में राहत देने की बात भी कही है। बता दें कि इस संबंध में लीज होटल ऑनर्स एवं होटल कर्मचारी एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने पत्रकार वार्ता की। जिसमें उन्होंने मांग पूरी नहीं होने पर सरकार को आंदोलन का रास्ता चुनने की चेतावनी भी दी है। होटल संचालकों का साफ कहना है कि या तो सरकार पूर्ण रूप से लॉकडाउन लगा दे या फिर सारे प्रतिबंध हटा दें।
प्रेसवार्ता के दौरान अंकित, विकास, विद्यादत्त, अनूप, उत्तम सिंह कुंवर, तपन भंडारी आदि उपस्थित रहे।

देवस्थानम बोर्ड पर पुनर्विचार किया जाएगाः सीएम

मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने सप्तसरोवर, हरिद्वार में विश्व हिंदू परिषद के केन्द्रीय मार्गदर्शक मंडल उपवेशन में प्रतिभाग किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि कुंभ की आस्था से कोई समझौता नहीं किया जायेगा। कुंभ क्षेत्र में शराब की दुकानें पूरी तरह बंद रहेंगी। संतों की मांग पर उन्होंने कहा कि मुनीकीरेती व ढ़ालवाला के शराब के ठेके बंद किये जायेंगे।

मुख्यमंत्री तीरथ ने कहा कि देवस्थानम बोर्ड में शामिल किए गए 51 मंदिरों पर पुनर्विचार किया जायेगा। जल्द ही तीर्थ पुरोहितों की बैठक बुलाई जायेगी। सबके हक-हकूकों का पूरा ध्यान रखा जायेगा। उन्होंने कहा कि चार धामों के बारे में शंकराचार्यों द्वारा प्राचीन काल से जो व्यवस्था की गई है उसका पूरी तरह पालन किया जाएगा, उसमें कोई छेड़छाड़ नहीं होगी।

मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने कहा कि हरिद्वार में होने वाले अगले कुंभ के लिए 2010 एवं 2021 कुंभ के अनुसार चिन्हित भूमि के अनुरूप अखाड़ों, शंकराचार्यों, महामंडलेश्वर और संत समाज के लिए अभी से भूमि चिन्हित की जाएगी। इसके लिए डिजिटल प्रक्रिया अपनाई जाएगी। उन्होंने कहा कि शपथ लेने के बाद मैंने सबसे पहले हरिद्वार कुंभ की बैठक ली। शिवरात्रि के स्नान पर्व पर हरिद्वार कुंभ में संतो का आशीर्वाद प्राप्त करने का सौभाग्य मिला।

घनसाली विधायक के पैतृक गांव में आयोजित श्रीराम कथा में पहुंचे सीएम तीरथ सिंह रावत

मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने विधानसभा क्षेत्रान्तर्गत विधायक घनसाली शक्ति लाल शाह के पैतृक गांव हुलानाखाल में आयोजित श्री राम कथा आनंद महोत्सव में प्रतिभाग किया। इस अवसर पर उन्होंने शक्तिलाल शाह के स्वर्गीय माता-पिता की आत्मा के लिए शांति की ईश्वर से कामना की।

मुख्यमंत्री ने स्थानीय विधायक द्वारा सौंपे गए 26 सूत्रीय मांग पत्र पर कहा कि जनहित से जुड़े मुद्दे जिनमें क्षेत्र में सिंचाई, नहरों के निर्माण को प्रमुखता से किये जाने के साथ ही सड़क, विद्युत व पेयजल की मांगे भी पूरी की जाएगी।

मुख्यमंत्री ने व्यास पीठ द्वारा संचालित श्री राम कथा आनंद महोत्सव में उपस्थित क्षेत्रीय जनता को संबोधित करते हुए हुए कहा कि विधानसभा क्षेत्र घनसाली आपदा की दृष्टि से संवेदनशील जरूर है लेकिन यह क्षेत्र प्राकृतिक सुंदरता को भी अपने अंदर समेटे हुए है। उन्होंने इस अवसर पर क्षेत्रीय जनता की कुशलता हेतु शुभकामनाएं दी।

इस अवसर पर पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत, कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल, विधायक धन सिंह नेगी, जिलाधिकारी इवा आशीष श्रीवास्तव, एसएसपी तृप्ति भट्ट आदि उपस्थित रहे।

सीएम के अनुरोध पर केंद्र सरकार द्वारा उपलब्ध कराए गए हेलीकाप्टरों ने बुझाई वनों में आग

मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने कहा कि प्रदेश में वनाग्नि के प्रकोप को कम करने के लिए राज्य सरकार पूरी गम्भीरता से प्रयास कर रही है। इसके लिए हर जरूरी और उपलब्ध संसाधन का उपयोग किया जा रहा है। भारत सरकार ने वायु सेना के हेलीकाप्टर उपलब्ध कराए हैं। आज एक एमआई-17 हेलीकाप्टर का उपयोग किया गया।

गढ़वाल में आज टिहरी जनपद अन्तर्गत नरेन्द्रनगर वन प्रभाग की नरेन्द्रनगर रेंज में वनाग्नि को बुझाने का कार्य किया गया। दूसरा हेलीकाप्टर हल्द्वानी पहुंच चुका है। उसका भी उपयोग किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने मांग किए जाने पर प्राथमिकता से तत्काल एमआई-17 हेलीकाप्टर उपलब्ध कराए जाने पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और भारत सरकार का आभार व्यक्त किया। गौरतलब है कि रविवार को मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से फोन पर बात कर उत्तराखण्ड के जंगलों में लगी आग को बुझाने के लिए हेलीकाप्टर दिए जाने का अनुरोध किया था।

वन मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत ने कहा कि वनाग्नि को रोकने के लिए वन विभाग तत्पर है। विभाग के अधिकारियों और कर्मचरियों की छुट्टियों पर रोक लगा दी गई है। स्थानीय लोगों का भी सहयोग लिया जा रहा है।

प्रभागीय वनाधिकारी कार्यालय, नरेन्द्रनगर वन प्रभाग, मुनिकीरेती द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार वायु सेना के एमआई-17 हेलीकाप्टर के माध्यम से जंगलों में आग को बुझाने की कवायद प्रारम्भ की गई। जिसके प्रारम्भिक चरण में गढ़वाल में आज टिहरी जनपद अन्तर्गत नरेन्द्रनगर वन प्रभाग की नरेन्द्रनगर रेंज में अदवाणी क0सं0-04 एवं तमियार (फकोट ब्लॉक, टिहरी) में वनाग्नि को बुझाने का कार्य किया गया। सुबह 08ः30 बजे हेलीकॉप्टर देहरादून एयरपोर्ट पर उतरा। प्रारम्भिक तैयारियों के पूर्ण होने के उपरान्त प्रातः 10ः00 बजे एयर ऑपरेशन प्रारम्भ किया गया, जिसमें प्रारम्भिंक रैकी कार्य प्रभावित क्षेत्रों के ऊपर दो बार किया गया। तद्पश्चात कोटी कॉलोनी, टिहरी झील से 5,000 लीटर की बकेट में पानी भरकर वनाग्नि से प्रभावित जंगलों में पानी का 04 सोर्टियों के माध्यम से दो बार 10,000 लीटर पानी का छिड़काव कर वनाग्नि को नियंत्रित किया गया। एयर ऑपरेशन दोपहर 12ः40 बजे तक जारी रहा तथा बाद में प्रतिकूल मौसम के कारण ऑपरेशन को रोकना पड़ा। कल दोबारा प्रातः काल में ही पुनः ऑपरेशन किया जायेगा। इस सम्पूर्ण ऑपरेशन में वायु सेना के साथ ही उत्तराखण्ड सरकार के विभिन्न महकमों यथा-वन विभाग, सिविल एविएशेन विभाग, जिला प्रशासन, एवं स्थानीय स्टाफों द्वारा सहयोग प्रदान किया गया।

ढालवाला में दो लाख रूपए की चरस के साथ दो अरेस्ट

एसओजी टीम टिहरी ने ढालवाला सुमन पार्क से दो लाख रूपये की चरस बरामद की है। एसओजी टीम ने दो लोगों को भी अरेस्ट किया है। चरस की मात्रा एसओजी टीम के अनुसार एक किलो 900 गा्रम बताई गई है।

एसएसपी टिहरी तृप्ति भट्ट के नेतृत्व में टिहरी गढ़वाल में नशे की प्रवृत्ति पर अंकुश लगाने को अभियान जारी है। इसी क्रम में एसओजी की टीम ने आज मुखबिर की सूचना पर थाना मुनिकीरेती क्षेत्रान्तर्गत स्थान सुमन पार्क ढालवाला से दो तस्करों को 1150 ग्राम व 750 ग्राम ( कुल 1900 ग्राम ) चरस के साथ गिरफ्तार किया है। दोनों के खिलाफ थाना मुनिकीरेती में एनडीपीएस एक्ट में मुकदमा दर्ज किया गया है।

एसओजी प्रभारी व ढालवाला चैकी इचार्ज आशीष कुमार ने आरोपियों की पहचान 34 वर्षीय नंदपाल बिष्ट निवासी ग्राम ठांडी, पट्टी गाजना, तहसील धोत्री उत्तरकाशी और 27 वर्षीय कृष्ण चंद्र निवासी उडरी, पोस्ट उडरी तहसील डुंडा, उत्तरकाशी के रूप में कराई है। वहीं, पुलिस टीम में हेड कांस्टेबल योगेन्द्र सिंह, कांस्टेबल राकेश कुमार, उबेदउल्ला, रामपाल तोमर मौजूद रहे।

सभासद विनोद सकलानी ने बोर्ड बैठक में रखी आवारा पशुओं की समस्या

नगर पालिका परिषद मुनीकीरेती-ढालवाला की आज बोर्ड बैठक संपन्न हुई। दिलचस्प बात यह है कि बोर्ड बैठक में सभासद विनोद सकलानी ने नगर निगम ऋषिकेश के आवारा पशुओं का मुद्दा उठाया।

उन्होंने सदन के समक्ष अपनी बात रखते हुए कहा कि ऋषिकेश नगर निगम में आवारा पशुओं की लड़ाई की भेंट एक 9 साल का मासूम चढ़ गया। इस घटना से नगरपालिका मुनी की रेती को भी सबक लेना चाहिए। बताया कि मुनी की रेती क्षेत्र में भी इन दिनों आवारा पशुओं की संख्या बढ़ रही है उन्होंने कहा कि नगर निगम क्षेत्र में घटी घटना से हमें सबक लेना होगा, जिससे पालिका क्षेत्र में ऐसी घटना ना घटे।

इसके अलावा सभासद ने ढालवाला क्षेत्र में खेल मैदान न होने का भी मुद्दा रखा। साथ ही सीवर ट्रीटमेंट प्लान से निकलने वाली दुर्गन्ध व ढालवाला में एक भी सार्वजनिक शौचालय न होने की बात कही। सभासद की बात को सदन में सभी ने उचित ठहराते हुए इस पर सकारात्मक विचार करने की बात कही।

मुनिकीरेती पालिका की संपन्न हुई बोर्ड बैठक, वर्ष 21-22 का बजट हुआ प्रस्तुत

नगर पालिका परिषद मुनिकीरेती-ढालवाला में रोशन रतूड़ी अध्यक्ष की अध्यक्षता में बोर्ड बैठक आयोजित की गयी। जिसमेें वित्तीय वर्ष 2021-22 का बजट प्रस्तुत किया गया। जिसमें रूपये 21,70,30,834 के अनुमानित आय एवं रूपये 20,71,10,000 का अनुमानित व्यय प्रस्तावित किया गया। इसके साथ ही 15वें वित आयोग के अंतर्गत प्राप्त अनुदानों का उपयोग शासन के आदेशों पर किये जाने की सहमति प्रदान की गयी। इस दौरान निकाय की संपत्तियों जिन पर पूर्व में त्रुटिपूर्ण कर निर्धारण किया गया है पर संसोधन करने हेतु सर्वसम्मति से प्रस्ताव पारित किया गया। इसके साथ वित्तीय वर्ष 2017-18 पार्किंग प्रथम, तृतीय, चतुर्थ व तहबाजारी की अवशेष पैनाल्टी की धनराशि को माफ न करने, पर सहमति बनी।

इसके अलावा बैठक में निकाय के अंतर्गत आने वाली दुकानों के नामांतरण शुल्क में वृद्धि करने पर सामूहिक सहमति बनी। जिसमें भूतल पर निर्मित दुकानों का नामांतरण शुल्क रूपये 1,00,000 तथा प्रथम तल पर निर्मित दुकान का नामांतरण शुल्क रूपये 70,000 निर्धारित करने का निर्णय लिया गया। कुट्टी माता पार्किंग के समीप निकाय द्वारा दुकानों का निर्माण करवाने पर सर्वसम्मति से सहमति प्रदान की गयी। जानकी सेतु पुल पर नगर पालिका मुनिकीरेती-ढालवाला की ओर से लाइटें लगाने का प्रस्ताव बैठक में सर्वसम्मति से पारित किया गया। दिलमणी सकलानी, निवासी ढालवाला की ओर से वार्ड 09 का नाम सकलानी विहार किये जाने हेतु प्रार्थना पत्र दिया गया था। बैठक में यह निर्णय लिया गया कि वार्ड 09 का नाम सकलानी विहार किया जाना संभव नहीं है।

भद्रकाली से चंद्रा पैलेस तक सड़क के दोनों ओर लाईटें लगाने एवं 31 मार्च 2021 तक भवनकर तक जमा न करने वाले भवनकर दाता यदि 30 जून 2021 तक भवनकर जमा करता है तो 01 जुलाई 2021 से भवनकर पर 10 प्रतिशत पैनाल्टी लगाकर वसूली किये जाने पर सभी ने अपनी सहमति प्रदान की। पालिका द्वारा आमंत्रित पार्किंग तहबाजारी आदि की निविदाओं पर चर्चा कर सहमति व्यक्त की गई। स्वामी नारायण आश्रम द्वारा लाइटिंग गेटों पर सदन पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए संबंधित आश्रम को सामूहिक रूप से साधूवाद दिया गया।

उक्त बैठक में सभासद मीनू, सुभाष चैहान, धर्म सिंह, गजेन्द्र सिंह सजवाण, वीरेन्द्र सिंह चैहान, सुषमा नेगी, बबीता रमोला, मनोज विष्ट, विनोद सकलानी, वन्दना थलवाल सभासद व नामित सभासद किशोर राणा व सोविता भंडारी उपस्थित थे। बैठक का संचालन बद्री प्रसाद भट्ट अधिषासी अधिकारी द्वारा किया गया।

नाबालिग से बलात्कार करने वाले आरोपी को पुलिस ने किया अरेस्ट


तपोवन निवासी एक महिला ने मुनिकीरेती थाने में लिखित तहरीर दी। बताया कि उनकी 16 वर्षीय बेटी का 18 वर्षीय युवक ने शारीरिक शोषण किया है, उनकी बेटी की आपत्तिजनक वीडियो और फोटो भी अपने मोबाइल से बना लिए हैं।

तहरीर के आधार पर मुनिकीरेती पुलिस ने आरोपी के खिलाफ आईपीसी की धारा 376 सहित अन्य में मुकदमा दर्ज कर अरेस्ट किया है। थाना प्रभारी आरके सकलानी ने आरोपी की पहचान शिवा पुत्र राकेश निवासी खारास्रोत मुनिकीरेती जनपद टिहरी गढ़वाल के रूप में कराई है। बताया कि आरोपी को न्यायालय के समक्ष पेश किया गया। जहां से न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया है। बताया कि वहीं, मामले की विवेचना महिला उप निरीक्षक रीना नेगी एवं चैकी प्रभारी तपोवन उपनिरीक्षक सुनील पंत को सौंपी गई है।

कुंभ मेला क्षेत्र में व्यवस्थाओं को दो दिन में पूरा करें अधिकारीः मुख्य सचिव

आस्था का महापर्व कुंभ मेला शुरू होने में केवल चार दिन शेष रह गए हैं। बावजूद इसके अभी तक ऋषिकेश और आसपास के क्षेत्र में श्रद्धालुओं के लिए जुटाई जाने वाली व्यवस्थाएं अधूरी हैं। मुख्य सचिव ओमप्रकाश ने निरीक्षण के बाद यह तमाम बातों को उजागर किया।

दरअसल आज मुख्य सचिव ओमप्रकाश ने ऋषिकेश के त्रिवेणी घाट, सरकारी अस्पताल मुनीकीरेती और स्वर्गाश्रम क्षेत्र में तमाम व्यवस्थाओं का बारीकी से निरीक्षण किया। इस दौरान काफी सारी कमियां मुख्य सचिव को दिखाई दी। जिस पर उन्होंने अधिकारियों को फटकार भी लगाई। मौके पर 2 दिन में व्यवस्थाओं को दुरुस्त करने के निर्देश भी दिए। इस दौरान कुंभ मेला अधिकारी दीपक रावत भी साथ में उपस्थित रहे। कुंभ मेला अधिकारी ने निरीक्षण से पहले गढ़वाल मंडल विकास निगम के रिसोर्ट में तमाम विभागों के अधिकारियों के साथ बैठक भी की। जिसमें कुंभ मेले की व्यवस्थाओं में दिखाई दे रही कमियों को लेकर सवाल जवाब किए गए। इस मामले में सबसे बड़ा सवाल यह उठता है कि कुंभ की व्यवस्थाओं को लगातार बैठक दर बैठक हो रही है, फिर भी कमियां दुरुस्त होने का नाम नहीं ले रही हैं। ऐसे में मुख्य सचिव के द्वारा 2 दिन में कमियों को पूरा करने के दिए गए निर्देश कितने कारगर साबित होंगे। वही नगर की महापौर अनीता ममगाई ने मुख्य सचिव को एक ज्ञापन देकर गंगा की जलधारा त्रिवेणी घाट तक लाने के लिए तटबंध बनाने की मांग की है।

निरीक्षण में मेलाधिकारी कुम्भ दीपक रावत, जिलाधिकारी गढ़वाल डाॅ0 विजय कुमार जोगदण्डे, जिलाधिकारी देहरादून डॉ आशीष कुमार श्रीवास्तव, जिलाधिकारी ईवा आशीष श्रीवास्तव आदि अधिकारी मौजूद थे।