मुख्यमंत्री ने किया छावनी परिषद अस्पताल का निरीक्षण, दिए निर्देश

मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने कैंट स्थित छावनी परिषद जनरल अस्पताल का निरीक्षण किया। उन्होंने अस्पताल परिसर का निरीक्षण कर व्यवस्थाओं का जायजा लिया। मुख्यमंत्री ने छावनी परिषद की सी.ई.ओ. सुश्री तनु जैन को अस्पताल में कोविड-19 के दृष्टिगत आवश्यक व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री ने जिलाधिकारी देहरादून डॉ आशीष श्रीवास्तव को भी इस संबंध में आवश्यक सहयोग प्रदान करने को कहा, मुख्यमंत्री ने अस्पताल परिसर में साफ-सफाई व शौचालय आदि की व्यवस्था करने के निर्देश दिए। निरीक्षण के दौरान मुख्यमंत्री के साथ कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी भी उपस्थित थे।

छावनी परिषद की सीईओ तनु जैन ने मुख्यमंत्री को आश्वस्त किया कि एक सप्ताह के अंदर इस अस्पताल परिसर में 130 बेड की व्यवस्था कोविड-19 के दृष्टिगत कर दी जाएगी। इससे यहां पर भी पीड़ितों को उपचार की सुविधा उपलब्ध कराई जा सकेगी।

कोविड केयर सेंटर में ठहरने वालों को निशुल्क दी जाए आवश्यक सामग्री की किटः तीरथ सिंह रावत

मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने अन्तरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम रायपुर, देहरादून में बनाये गये कोविड केयर सेंटर का औचक निरीक्षण किया। इस कोविड सेंटर में कोविड- 19 के मानकों के अनुसार सभी प्रकार की सुविधाएं उपलब्ध करायी जा रही हैं। अभी इसकी क्षमता 450 बेड है। मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार यहाँ 500 बेड तत्काल और बढाए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने साफ साफ निर्देश दिए कि कोविड केयर सेंटर में ठहरने वाले लोगों के लिए सुरक्षात्मक दृष्टि से फ्री में आवश्यक सामग्री की किट दी जायेगी और भोजन की व्यवस्था की जाये। कोविड केयर सेंटर में सैनिटाइजिंग, थर्मल स्क्रीनिंग, सीसीटीवी कैमरे एवं कोविड के मानकों के हिसाब से अन्य समस्त आवश्यक व्यवस्थाएं सुचारु रूप से संचालित की जाएँ।

मुख्यमंत्री ने आदेश दिया कि यहां आक्सीजन सपोर्ट बेड रखे जायें तथा गुणवत्ता युक्त भोजन की व्यवस्था की जाये। शौचालयों को पूर्ण सैनिटाइजिंग के साथ साफ सुथरे रखने के भी निर्देश दिए हैं। किसी कोरोना संक्रमित की स्थिति कुछ बिगङने पर तुरंत हायर सेंटर रैफर करते हुए वहां पहुंचाने की समुचित व्यवस्था करने के लिए कहा है। मुख्यमंत्री ने डीएम देहरादून को सख़्त निर्देश दिये कि कोरोना संक्रमितों के बेसलाइन असेसमेंट की व्यवस्था सुनिश्चित करें हो और आवश्यकता अनुसार उनके ईलाज की व्यवस्था करायें। निजी अस्पतालों से भी कोविड बेड की क्षमता बढाने में सहयोग लिया जाए।

मुख्यमंत्री ने दून अस्पताल और कोरोनेशन अस्पताल का भी जायजा लिया। मुख्यमंत्री ने कोरोनेशन अस्पताल को कोविड अस्पताल बनाने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार कि सरकार पूर्ण रूप से प्रतिबद्ध है कि आम जन को किसी भी प्रकार की परेशानी नहीं होने पाये। सभी जिलों के अस्पतालो में पर्याप्त आक्सीजन है। दवाईयों व अन्य जरूरी उपकरणों की भी पूरी उपलब्धता है।उन्होंने कहा कि संकट की इस घड़ी में सरकार अपने समस्त संसाधनों से पूर्ण निष्ठा से प्रतिबद्ध है कि अपने प्रदेश की जनता की हर सम्भव मदद और बेहतर चिकित्सा मुहैय्या कराए। उन्होंने विश्वास दिलाया कि सरकार जनता के लिए तथा जनता के साथ मजबूती से खड़ी है।

नाव घाट से सटा नारायण कैफे शाॅर्ट सर्किट का हुआ शिकार, 13 लाख का नुकसान

कंगाली में आटा गिला, एक तो कोरोना संक्रमण के चलते कामकाज प्रभावित हुआ है, ऊपर से लोगों को गंगा नदी का शानदार नजारे दिखाता और युवाओं में काफी लोकप्रिय नारायण कैफे शाॅर्ट सर्किट का शिकार हो गया। कैफे संचालक के अनुसार 13 लाख रूपए का नुकसान हुआ है। फायर कर्मियों ने आग पर तो काबू पाया। मगर, तब तक बहुत देर हो गई थी। वूडन से बना पूरा कैफे भस्म हो गया।

दरअसल, नावघाट के पास तरूण विश्वास की नारायण कैफे चलाते थे। आज सुबह तड़के 5.25 बजे यहां एकाएक आग लग गई। आग की लपटों ने भयानक रूप धारण कर लिया। आग की लपटों से उठने वाले धुएं को देख स्थानीय लोगों में अफरातफरी मच गई। सूचना पर कैफे मालिक मौके पर पहुंचे और फायर कर्मियों को सूचित किया। सूचना पाकर फायर कर्मी भी पहुंचे। करीब दो घंटे बाद भीषण आग पर काबू पाया गया। मगर, कैफे पूर तरह जलकर राख हो गया। वहीं, आग लगने की वजह शॉर्ट सर्किट बताई जा रही है। उधर, कैफे संचालक के मुताबिक 13 लाख रुपये का नुकसान हुआ है।

बीएससी, एमएससी सहित नेट की तैयारी कर रहे विद्यार्थी डा. खाती की पुस्तक ने भी कीजिए ज्ञान अर्जित

राजकीय महाविद्यालय ऋषिकेश (श्रीदेव सुमन विश्वविद्यालय कैंपस) के रसायन विभाग में कार्यरत प्रोफेसर डा. पूरन सिंह खाती की पुस्तक Pollutant Dynamics in some of the lakes of Nainital ऐसे युवाओं को समर्पित है, जो वर्तमान में नेट, सेट तथा पीएचडी की प्रवेश परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं। इसके अलावा ‘जल’ विषय पर जो पीएचडी करने की चाह रखते है, उनके लिए वह वरदान का कार्य करेगी। यही नहीं डा. खाती की इस पुस्तक से बीएससी तथा एमएससी के विद्यार्थियों को भी उचित लाभ मिलेगा।

डा. पूरन सिंह खाती ने इस पुस्तक को बहुत ही सरल और सहज भाषा में लिखा है इसमें उनके शोध कार्य सम्मिलित है। बतौर डा. खाती बताते हैं कि यह पुस्तक में जल से संबंधित सभी जानकारियां है, इसे विद्यार्थी गूगल पर भी सर्च कर पढ़ सकते है।

इस किताब में डॉक्टर खाती डॉक्टर खाती ने विशेष रुप से उन झीलों का वर्णन किया है। नैनीताल, भीमताल, नौकुचियाताल, खुरपा ताल तथा सात ताल इन पांच लेखों में डॉक्टर खाती ने अपना शोध कार्य किया है। आपको बता दें कि डॉक्टर खाती ने अपना शोध कार्य सुपरवाइजर प्रोफेसर एस पीएस मेहता डीएसबी केंपस नैनीताल कुमाऊं यूनिवर्सिटी नैनीताल के निर्देशन में किया है।
डॉक्टर खाती ने वाटर से संबंधित कार्य आईआईटी रुड़की, नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ हाइड्रोलॉजी, गोविंद बल्लभ पंत यूनिवर्सिटी पंतनगर तथा डब्ल्यूटीए नोएडा तथा डीएसबी परिसर नैनीताल मैं किया है।

स्पीकर प्रेमचंद ने विधायक निधि से 10 लाख रूपए खदरी ग्राम पंचायत को देने की घोषणा


ऋषिकेश विधानसभा का जो ग्रामीण क्षेत्र नगर निगम में सम्मिलित नहीं होना चाहता है उन्हें सम्मिलित नहीं किया जाएगा। यह बात स्पीकर प्रेमचंद अग्रवाल ने खदरी ग्राम पंचायत के चोपड़ा फार्म में आयोजित जनता मिलन कार्यक्रम में कही। इस मौके पर उन्होंने ग्राम पंचायत के अंतर्गत निर्माणाधीन आंतरिक मोटर मार्गो के लिए एवं स्ट्रीट लाइट लगाने के लिए 10 लाख रूपए की विधायक निधि देने की घोषणा की। कहा कि विकास के लिए धन की कमी आड़े नहीं आने दी जाएगी।

मौके पर स्पीकर ने अनेक लोगों की समस्याएं भी सुनी और मौके पर ही उन समस्याओं का समाधान भी किया। कहा कि उन्होंने हमेशा जन भावनाओं के अनुरूप कार्य किया और जनता का हित ही सर्वोपरि है। कहा कि ऋषिकेश विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत मोटर मार्गों का जाल बिछा हुआ है, शुद्ध पेयजल आपूर्ति के लिए करोड़ों के कार्य धरातल पर हो रहे हैं, विद्युत आपूर्ति, बंचिंग केबल, पुराने विद्युत पोलों को बदलना यह सब कार्य निरंतर चल रहे हैं।

अपने संबोधन में बताया कि खदरी ग्राम पंचायत के अंतर्गत आज हर चैराहे पर स्ट्रीट लाइट चमकती है, हर सड़क का डामरीकरण हुआ है, हर घर में शुद्ध पेयजल आपूर्ति का कार्य प्रगति पर है। ग्रामीण क्षेत्रों में शीघ्र ही सीवरेज का कार्य भी प्रारंभ होगा ताकि स्थानीय नागरिकों को किसी भी प्रकार की परेशानी न हो।

इस दौरान स्पीकर ने लोगों को कोरोना संक्रमण के बचाव की अपील भी की और कहा है कि सामाजिक दूरी का पालन करना एवं नियमित मास्क लगाना और सैनिटाइजर का उपयोग अत्यंत आवश्यक है।

इस अवसर पर क्षेत्र पंचायत सदस्य बीना चैहान, वीर सिंह बड़ोला, सुंदरलाल जख्मोला, रघुवीर सिंह रावत, मोहन सिंह रावत, गोविंद सिंह रावत, सूरजपाल, शमशेर सिंह भंडारी, दीपा नेगी, कमला नेगी, विमला नैथानी आदि सहित अनेक लोग उपस्थित थे। कार्यक्रम का आयोजन गौतम राणा एवं संचालन रवि शर्मा ने किया।

स्पीकर ने सुनी कृष्णानगर काॅलोनी में जनसमस्याएं, सड़कों के लिए दिए 10 लाख

कृष्णानगर काॅलोनी ऋषिकेश की आंतरिक सड़कें अब 10 लाख रूपए की विधायक निधि से बनेंगी। स्पीकर उत्तराखंड प्रेमचंद अग्रवाल ने इसकी घोषणा की है। स्पीकर ने आज कृष्णानगर काॅलोनी में जन समस्याएं सुनी। साथ ही उन्हें कर कीमत पर बसाने का आश्वासन भी दिया।

स्पीकर प्रेमचंद अग्रवाल ने कहा कि कृष्णानगर कॉलोनी को नगर निगम में शामिल करने अथवा नयी ग्राम सभा के निर्माण के लिए मुख्यमंत्री को दिए गए 21 सूत्रीय मांग पत्र में प्रमुख रूप से आग्रह किया है। कहा कि कृष्णानगर कॉलोनी को किसी भी हालत में उजड़ने नहीं दिया जाएगा। जिसके लिए वह हर पल कृष्णानगर वासियों के संग खड़े है। उन्होंने बताया कि क्षेत्र में सीवर लाइन बिछाए जाने के निर्देश भी दिए गए है।

कार्यक्रम के दौरान विधानसभा अध्यक्ष ने उपस्थित कन्याओ को नवरात्रा के पावन अवसर पर फूल माला पहनायी एवं देवी स्वरूप कन्याओं के पैर छूकर आशीर्वाद भी प्राप्त किया। साथ ही 3.66 करोड से पेयजल समस्या के निदान जैसे सड़क, बिजली, पानी सहित क्षेत्र में किए जा रहे विकास कार्यों को लेकर फूल मालाओं से आभार व्यक्त किया। विधानसभा अध्यक्ष ने क्षेत्र की विभिन्न समस्याओं को भी सुना एवं कई समस्याओं का संबंधित विभाग के अधिकारियों के संग वार्ता कर समाधान भी निकाला।

विधानसभा अध्यक्ष ने कोरोना के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए संक्रमण से बचने के लिए लोगों को जागरूक भी किया। उन्होंने कहा कि कोरोना से बचना है तो “दवाई के साथ कढ़ाई “ का मंत्र अपनाना होगा। उन्होंने सभी से सामाजिक दूरी एवं अनिवार्य रूप से मास्क एवं सैनिटाइजर का प्रयोग करने की अपील की एवं अनावश्यक घर से बाहर ना निकलने की सलाह दी।

कार्यक्रम की अध्यक्षता वीरभद्र मंडल के मंडल अध्यक्ष अरविंद चैधरी एवं संचालन नगर निगम पार्षद सुंदरी कंडवाल ने किया। इस दौरान पार्टी के वरिष्ठ नेता रमेश चंद शर्मा, सदानंद यादव, आरती दुबे, मनोरमा देवी, पुरुषोत्तम, निर्मला उनियाल, करण सिंह, तिलक चैहान, जोगेंद्र सैनी, सुनील यादव, राजकुमार भारती, चंद्रदेव पांडे आदि उपस्थित रहे।

सांस लेने में तकलीफ व फेफड़ों में संक्रमण की शिकायत पर एम्स भर्ती हुए बच्ची सिंह रावत

भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय राज्यमंत्री बच्ची सिंह रावत की तबियत बिगड़ने पर उन्हें उपचार हेतु एम्स ऋषिकेश में भर्ती किया गया है।

शनिवार अपराह्न में पूर्व मंत्री बच्ची सिंह रावत जी को हेली एम्बुलेंस के माध्यम से हल्द्वानी से एम्स ऋषिकेश लाया गया। उन्हें इमरजेंसी में भर्ती किया गया है जहां विशेषज्ञ चिकित्सक उनकी देखभाल कर रहे हैं। एम्स के जनसंपर्क अधिकारी हरीश मोहन थपलियाल जी ने बताया कि चिकित्सकों द्वारा की गई शुरुआती जांच में पाया गया कि पूर्व केंद्रीय राज्य मंत्री बच्ची सिंह रावत जी को सांस लेने में तकलीफ और उनके फेफड़ों में संक्रमण की शिकायत है। उन्होंने बताया कि विभिन्न परीक्षण पूर्ण होने के बाद उन्हें उचित उपचार हेतु शीघ्र ही आईपीडी में शिफ्ट कर दिया जाएगा।

कुंभ में बेहतरीन कार्य करने पर कांस्टेबल हरीश गुंसाई हुए सम्मानित

महाकुंभ में शाही स्नान के दौरान उत्कृष्ट कार्य करने पर पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार ने ऋषिकेश में तैनात जल पुलिस के सिपाही हरीश गुंसाई को सम्मानित किया है। यह सम्मान उन्हें हरिद्वार में नगद पुरस्कार देकर दिया गया।

बता दें कि जल पुलिस का यह सिपाही हरीश गुंसाई गंगा नदी में शाही स्नान के दौरान आठ लोगों को मौत के मुंह से बाहर निकालकर लाया। कांस्टेबल हरीश गुसाईं के इस साहस भरे कार्य के लिए उन्हें डीजीपी अशोक कुमार ने नगद पुरुस्कार से सम्मानित किया है। साथ ही आगे भविष्य में भी अपने कर्तव्यों का ऐसी प्रकार निर्वाहन करने की शुभकामनाएं दी है।

देवडोलियों के कुंभ स्नान का टीवी पर होगा लाइव प्रसारणः सतपाल महाराज

संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने देवडोलियों के संदर्भ में आहूत एक बैठक में कहा कि 24 व 25 अप्रैल को ऋषिकेश व हरिद्वार में होने जा रही देवडोलियों की शोभायात्रा पुलिस बैंड के साथ निकलेगी। इसके अलावा देवडोलियों के पावन महाकुंभ स्नान को जन-जन तक पहुंचने के लिये टीवी पर लाइव प्रसारण किया जायेगा। साथ ही संस्कृति विभाग द्वारा पशवा, पुजारी व ढोल वादकों को मानपत्र व स्मृति चिह्न प्रदान कर सम्मनित किया जायेंगे।

इस अवसर पर श्री देवभूमि लोकसंस्कृति विरासतीय शोभायात्रा समिति के परमाध्यक्ष पूर्व कैबिनेट मंत्री मोहन सिंह रावत गांववासी ने कहा कि विश्व में भारत की गरिमामयी यशस्वी वसुधैव कुटुंबकम की मानवतावादी सनातनी संस्कृति है। नागाधिराज हिमालय उत्तराखंड की दैवत्व व लोककल्याणकारी मानवता से परिपूर्ण जीवन के सच्चिदानंदमय लोकसंस्कृति विरासत का संरक्षण व संवर्धन से भक्ति, आस्था, विश्वास के साथ साथ पर्यटन व पर्यावरण को भी प्रोत्साहित मिलेगा।

समिति के केन्द्रीय प्रवक्ता डॉ. धीरेंद्र रांगड़ ने कहा कि 24 अप्रैल तक बाहरी प्रान्तों के श्रद्धालुओं की भीड़ भी कम होने की उम्मीद है, फिर भी श्रद्धालुगण कोरोना के नियमों का पालन करते हुए देवी-देवताओं का आशीष प्राप्त करेंगे। उन्होंने बताया कि श्रद्धालुओं के लिए मास्क, सैनीटाइजर के साथ ही हरिद्वार में काढ़े की व्यवस्था भी की जायेगी।

इस अवसर पर समिति के केन्द्रीय प्रवक्ता डॉ. धीरेंद्र रांगड़, देहरादून प्रतिनिधि पं.भास्कर डिमरी, संजीव रौथाण, नितेन्द्र बोरा, हरिद्वार प्रभारी मुकेश जोशी, अनिल गिरी, आशाराम व्यास, विशालमणि पैन्यूली आदि उपस्थित थे।

स्पीकर की पेयजल निगम अफसरों के साथ हुई बैठक, जल्द सीवर लाइन बिछाने पर हुई वार्ता

जर्मन सरकार के क्लाइमेट प्रूफिग प्रोजेक्ट (केएफडब्ल्यू) के अंतर्गत ऋषिकेश में पहले चरण में 459.14 करोड़ रुपए की लागत से 180 किलोमीटर सीवर लाइन बिछाये जाने के साथ ही पंपिग स्टेशन एवं एसटीपी प्लांट निर्माण का कार्य जल्द शुरू किया जाएगा।उक्त जानकारी आज उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने पेयजल निगम के अधिकारियों के संग बैठक के उपरांत कही।
बैराज मार्ग स्थित कैंप कार्यालय में स्पीकर प्रेमचंद अग्रवाल ने पेयजल निगम के उच्चाधिकारियों के साथ बैठक की। बैठक में केएफडब्ल्यू के अंतर्गत ऋषिकेश में पहले चरण में लगभग 459 करोड़ रुपए की लागत से होने वाले सीवरेज निर्माण कार्यों के संबंध में अधिकारियों ने विधानसभा अध्यक्ष को विस्तार से जानकारी दी। इस दौरान विधानसभाध्यक्ष ने नमामि गंगे के कार्यक्रम निदेशक उदयराज से दूरभाष पर वार्ता कर योजना के निर्माण कार्यों को शीघ्र ही प्रारम्भ करने के निर्देश दिए।

विधानसभा अध्यक्ष ने बताया कि वित् पोषित कार्यक्रम केएफडब्ल्यू के द्वारा योजना को स्वीकृति प्राप्त हो चुकी है। जिसमें जर्मन सरकार की केएफडब्ल्यू संस्था एवं भारत सरकार के बीच लोन एग्रीमेंट भी हस्ताक्षरित हो चुके हैं। इस योजना के बनने के बाद सीवर की समस्या का पूर्ण निदान हो जाएगा।

उन्होंने कहा कि केएफडब्ल्यू योजना के अंतर्गत लाभान्वित होने वाले क्षेत्रों में नगर निगम, ऋषिकेश के समस्त 40 वार्ड जिनमें शैल विहार, प्रगति विहार, इंदिरा नगर, मीरा नगर, तुलसी विहार, शिवाजी नगर, बापू ग्राम, रामबाग, निर्मल बाग, बीरपुर खुर्द, श्यामपुर, खदरी खडगमाफ सहित अन्य क्षेत्र है।इस कार्यक्रम के द्वारा गंगा नदी में प्रवाहित हो रही दूषित जल की रोकथाम कर गंगाजल को स्वच्छ किया जाना मुख्य उद्देश्य है। उन्होंने कहा कि इस योजना के अंतर्गत ऋषिकेश की लगभग सवा लाख से अधिक जनसंख्या को सीवर योजना से लाभान्वित किया जायेगा।
इस अवसर पर पेयजल निगम के परियोजना प्रबंधक ए.के चतुर्वेदी ने बताया कि केएफडब्ल्यू योजना के अंतर्गत पहले चरण में ऋषिकेश नगर के समस्त वार्डों एवं खदरी खड़क माफ ग्रामीण क्षेत्र में 180 किलोमीटर सीवर लाइन बिछाया जाना प्रस्तावित है। इसके साथ ही आस्था पथ के निकट व आवास विकास में एक-एक सीवरेज पंपिग स्टेशन तथा खदरी खड़कमाफ ग्रामीण क्षेत्र में 2.0 एमएलडी का सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट बनाया जाना है।

बैठक में परियोजना अभियंता रविंद्र सिंह, सहायक परियोजना अभियंता सुशील बहुगुणा एवं सहायक परियोजना अभियंता धर्मेंद्र कुकरेती मौजूद थे।