युवा सरकार के निर्णय से मिलने लगा रोजगार, बेराजगारी दर में दर्ज की गई गिरावट

उत्तराखंड में पिछले एक महीने में बेरोजगारी की दर में कमी आई है। सितंबर माह में राज्य की बेरोजगारी दर 4.1 प्रतिशत रही, जबकि पिछले साल इसी महीने बेरोजगारी दर 22.3 प्रतिशत थी। बेरोजगारी दर के मामले में उत्तराखंड देश में नौंवे स्थान पर है। सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी प्रा लि (सीएमआईई) के सर्वे में यह खुलासा हुआ है।
सर्वे के ऑनलाइन आंकड़ों के मुताबिक, पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश, हिमाचल, पंजाब, हरियाणा समेत 17 राज्यों में बेरोजगारी उत्तराखंड से अधिक है। उत्तराखंड में पिछले महीने की तुलना में सितंबर माह में बेरोजगारी दर में 2.1 प्रतिशत की गिरावट रही है। 

आर्थिक गतिविधियों में तेजी का असर
कोविड की दूसरी लहर के तकरीबन थम जाने के बाद आर्थिक गतिविधियों में आई तेजी बेरोजगारी दर में गिरावट की एक प्रमुख वजह मानी जा रही है। जानकारों के मुताबिक, पिछले दो महीनों के दौरान राज्य में पूरी तरह से अनलॉक हो गया है। बाहरी राज्यों के लोगों के राज्य में प्रवेश की बंदिश में ढील, अंतरराज्यीय परिवहन के संचालन और व्यावसायिक गतिविधियों को खोलने से आजीविका और रोजगार के अवसर खुले हैं।
 
सितंबर 2020 में थी 22 फीसदी से ज्यादा बेरोजगारी दर
कोरोनाकाल के दौरान सितंबर 2020 में उत्तराखंड की बेरोजगारी दर पिछले आठ महीनों में सबसे अधिक 22.3 फीसदी थी। जनवरी 2021 की तुलना में 2020 में बेरोजगारी दर केवल एक फीसदी कम थी। सितंबर 2020 में बेरोजगारी दर बढ़कर 22.3 फीसदी तक पहुंच गई।
 
कुछ प्रमुख राज्यों में बेरोजगारी दर 
प्रदेश-बेरोजगारी दर
उत्तरप्रदेश-5.0
हिमाचल-8.7
जम्मू कश्मीर-21.6
हरियाणा-20.3
गुजरात-1.3
दिल्ली-16.8
पंजाब-9.3
राजस्थान-17.9
असम-3.5
स्रोत-सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनामी (सीएमआई) प्रा. लि.

फिल्म निर्माण के लिए 24 गांवों को होगा कायाकल्प

उत्तराखंड में पलायन के कारण खाली हो रहे नैनीताल जिले के वीरान गांवों में होम स्टे विकसित किए जा रहे हैं। अहमदाबाद की एक फर्म के साथ मिलकर उत्तराखंड के पर्यटन विभाग ने यह योजना शुरू की है। इसके तहत विभाग ने नैनीताल के पास कुंजखड़क गांव के आसपास के इलाकों को चिह्नित किया है, जहां कम्युनिटी बेस होम स्टे शुरू करने की तैयारी है। विभाग इन गांवों में खंडहर हो चुके मकानों को ठीक कर पर्यटकों को ठहरने की सुविधा देगा। योजना का मुख्य उद्देश्य पर्यटन विकास के साथ ही खाली गांवों का इस्तेमाल फिल्म निर्माण के लिए करने की भी योजना है।
पर्यटन विभाग के अनुसार, इस योजना के तहत नैनीताल जिले में करीब 24 गांव चिह्नित किए हैं। इनमें कुछ की पौराणिक व रोचक कहानियां हैं। कुछ बेहद अच्छी लोकेशंस पर स्थित हैं। फिल्म निर्माण के लिए भी योजना अच्छी साबित हो सकती है। इससे स्थानीय लोगों को रोजगार भी मिलेगा। पर्यटन विभाग ऐसे गांवों को स्थानीय लोगों के साथ ही निवेशकों की मदद से विकसित करेगा।

इटली के गांवों को देख कर बनाई योजना
उत्तराखंड पर्यटन विभाग को यह विचार विदेशों में इस तरह की पहल को देखकर आया है। इटली में कई पुराने खाली हो चुके गांवों को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया गया है। जहां प्रतिवर्ष विश्वभर से बड़ी संख्या में पर्यटक घूमने जाते हैं। इसी तर्ज पर पर्यटन विभाग ने प्रदेश के ऐसे कुछ गांवों को चिह्नित करना शुरू किया है। उत्तरकाशी की नेलांग घाटी के जादूंग गांव और गर्तातोली की सीढ़ियों को इसी तर्ज पर विकसित किया गया है। यह गांव 1962 के भारत-चीन युद्ध के बाद खाली करा दिए गए थे।
वहीं, नैनीताल के जिलाधिकारी धीराज गर्ब्याल ने बताया कि पलायन रोकने को होम स्टे योजना काफी कारगर है। खाली हो चुके कई गांव बहुत अच्छी लोकेशन्स और इलाकों में स्थित हैं। इन्हें सही तरीके से विकसित किया जाए तो यह राज्य की आर्थिकी के साथ स्वरोजगार का सबसे अच्छा माध्यम बन सकते हैं। इस तरह लोग उत्तराखंड की कला संस्कृति से भी जुड़ पाएंगे।

सीएम धामी की घोषणा का शासनादेश जारी

युवा कल्याण एवं प्रान्तीय रक्षक दल विभाग के अन्तर्गत युवक मंगल दल एवं महिला मंगल दल को स्वावलम्बन के लिए छः माह आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी।
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की घोषणा के क्रम में युवा कल्याण एवं प्रान्तीय रक्षक दल विभाग के अन्तर्गत युवक मंगल दलों और महिला मंगल दलों को स्वावलम्बन के लिए 22 करोड़ 24 लाख 50 हजार रूपये की स्वीकृति का शासनादेश जारी कर दिया गया है। इस राशि से प्रदेश के युवक मंगल दलों और महिला मंगल दलों को छः माह आर्थिक सहायता दी जाएगी।
मुख्यमंत्री ने कोरोना काल में युवक मंगल दलों और महिला मंगल दलों के सराहनीय कार्य को देखते हुए छः माह आर्थिक सहायता की घोषणा की थी।

पर्यटन गतिविधियों से रोजगार बढ़ाने को मुख्य सचिव ने की समीक्षा

मुख्य सचिव डॉ. एस.एस. संधु ने सचिवालय में पर्यटन विभाग की समीक्षा के दौरान अधिकारियों को निर्देश दिए कि माउंटेनियर्स और ट्रैकर्स के लिए रिस्टबैंड की व्यवस्था की जाए, ताकि उन्हें सैटेलाईट व अन्य माध्यमों से उनकी लोकेशन की जानकारी मिल सके। सर्च ऑपरेशन्स में इससे काफी सहायता मिलेगी। उन्होंने कहा कि पर्वतारोहियों एवं ट्रैकर्स की सुरक्षा के लिए अन्य आवश्यक इंतजाम भी सुनिश्चित किए जाएं।
मुख्य सचिव ने कहा कि प्रदेश में चारधाम यात्रा सीजनल होती है, परन्तु ऑफ सीजन टूरिज्म की व्यापक सम्भावनाएं है। इन्हें तलाशते हुए योजनाएं तैयार की जाएं। उन्होंने कहा कि पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए सबसे पहले कनेक्टिविटी पर कार्य किया जाए। हेलीपैड्स एवं हेलीपोर्ट्स के निर्माण पर शीर्घ से शीघ्र कार्य किया जाए। पर्यटन स्थलों में हेलीपैड्स विकसित करने के लिए प्राथमिकता तय की जाए। उन्होंने कहा कि जिन क्षेत्रों में पर्यटन विकास की बहुत अधिक सम्भावनाएं हैं, परन्तु कनेक्टिविटी के कारण पिछड़ रहे हैं, उन क्षेत्रों में प्राथमिकता पर फोकस किया जाए।
मुख्य सचिव ने कहा कि यात्रा मार्गों पर हर 20-30 किलोमीटर पर पानी व टॉयलेट आदि की सुविधाएं उपलब्ध करायी जाएं, ताकि यात्रियों और आमजन को परेशानी का सामना न करना पड़े। इसके लिए सुचारू संचालन के लिए छोटी-छोटी शॉप्स आदि की व्यवस्था की जा सकती हैं। उन्होंने कहा कि पर्यटन स्थलों पर सभी उम्र के पर्यटकों के अनुसार सुविधाएं विकसित की जानी चाहिए। युवा वर्ग टेक्नोलॉजी का बहुत प्रयोग करता है। युवाओं को प्रत्येक जानकारी फोन पर चाहिए इसके लिए ऐसी ऐप और वेबसाईट तैयार की जाए जिस पर हर प्रकार की जानकारी उपलब्ध हो, परन्तु वृद्धों के लिए ऑफलाईन जानकारियों की व्यवस्था भी रखी जाए। ऐप और वेबसाईट को सिटीजन फ्रेंडली एवं ईज़ी टू यूज बनाया जाए। पर्यटन स्थलों को बच्चों के सैर-सपाटे के अनुरूप भी विकसित किया जाना चाहिए।
मुख्य सचिव ने कहा कि पर्यटन विभाग द्वारा ऐसे क्षेत्रों में पर्यटन की सम्भावना होने के बावजूद, सुविधाओं के अभाव के कारण यह सब सम्भव नहीं हो पा रहा है, वहां रिसोर्ट विकसित किए जा सकते हैं, जिन्हें शुरुआत में जीएमवीएन एवं केएमवीएन के माध्यम से चलाकर प्रॉफिट गेनिंग होने पर बेचा जा सकता है और उस पैसे से नई जगह डेवेलप की जा सकती हैं। इससे प्रदेश में अनेक पर्यटन स्थल विकसित हो जाएंगे। उन्होंने निर्देश दिए कि ऐसे पर्यटन स्थलों को प्राथमिकता के आधार पर कार्य किया जाए।
मुख्य सचिव ने सभी कार्य योजनाओं पर समयबद्धता के साथ कार्य किया जाए। प्रत्येक कार्य के लिए समयसीमा पूर्व में ही निर्धारित की जाएं। प्रत्येक योजना को साप्ताहिक अथवा पाक्षिक मॉनिटरिंग की जाए, ताकि निर्धारित समयसीमा में कार्य पूर्ण हो सके। मुख्य सचिव ने अधिकारियों को मार्केटिंग और पब्लिसिटी पर भी विशेष फोकस किए जाने के निर्देश दिए।
इस अवसर पर सचिव दिलीप जावलकर, अपर सचिव युगल किशोर पंत एवं सीईओ युकाडा स्वाति भदौरिया सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

सोनित कुमार सैनी को पुष्पचक्र अर्पित कर सीएम ने दी श्रद्धाजंली

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने गुवाहाटी में अपने कर्तव्यों का निर्वहन करते हुए शहीद हुए ग्राम धनौरी, रूड़की निवासी भारतीय सेना के जवान सोनित कुमार सैनी के घर पर जाकर उनके पार्थिव शरीर पर पुष्पचक्र अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। मुख्यमंत्री ने दिवंगत आत्मा की शांति व शोक संतप्त परिजनों को धैर्य प्रदान करने की ईश्वर से कामना की है। मुख्यमंत्री ने कहा कि शहीद के परिजनों को राज्य सरकार द्वारा हर संभव मदद दी जाएगी।
कैबिनेट मंत्री स्वामी यतीश्वरानंद, विधायक प्रदीप बत्रा एवं सुरेश राठौर ने भी शहीद जवान सोनित कुमार सैनी के पार्थिव शरीर पर पुष्पचक्र अर्पित कर श्रद्धांजलि दी।

मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने छात्र छात्राओं से किया संवाद

मुख्य निर्वाचन अधिकारी सौजन्या ने तुलाज इन्स्टीट्यूट और शिवालिक कालेज में यूथ वोटर फेस्टिवल के तहत छात्र छात्राओं से संवाद किया। विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम के व्यापक प्रचार-प्रसार के लिए धूलकोट, देहरादून स्थित तुलाज इन्स्टीट्यूट और शिवालिक कालेज में यूथ वोटर फेस्टिवल का आयोजन किया गया।
कार्यक्रम में मतदाता शपथ भाषण प्रतियोगिता, क्विज प्रतियोगिता, नुक्कड़ नाटक आदि का आयोजन किया गया। इन प्रतियोगिताओं में विजेता तथा प्रतिभागियों को निर्वाचन विभाग द्वारा प्रशस्ति पत्र तथा पुरुस्कार प्रदान किये गये। इसके अतिरिक्त वोटर रजिस्ट्रेशन डेस्क, हस्ताक्षर अभियान का भी आयोजन किया गया।
इस अवसर पर मुख्य निर्वाचन अधिकारी, उत्तराखण्ड सौजन्या द्वारा युवाओ को मतदाता पंजीकरण तथा निर्वाचन प्रक्रिया के सम्बन्ध में विस्तार से जानाकरी दी गई तथा युवाओं की निर्वाचन सम्बन्धी जिज्ञासाओं का समाधान किया गया। निर्वाचन विभाग से मो. असलम, राज्य नोडल अधिकारी (स्वीप ) सुजाता, राज्य समन्वयक (स्वीप), अनुराग गुप्ता (परामर्शदाता) एवं हिमांशु (कार्यक्रम समन्वयक) द्वारा कार्यक्रम में प्रतिभाग किया गया।
मुख्य निर्वाचन अधिकारी द्वारा कार्यक्रम के सफल आयोजन हेतु तुलाज इन्स्टीटयूट आफ टैक्नोलोजी एवं शिवालिक कालेज आफ इन्जीनियरिंग इन्स्टीटयूट के प्रबन्धन का आभार/धन्यवाद व्यक्त किया गया। साथ ही प्रदेश के समस्त युवा, जो 1 जनवरी 2022 या उससे पूर्व 18 वर्ष की आयु पूर्ण कर रहे हैं, से अपील की गई कि वह विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम-2022 के दौरान मतदाता सूची में पंजीकरण अवश्य करायें। कार्यक्रम के दौरान कोविड-19 सम्बन्धी प्रोटोकाल का विशेष ध्यान रखा गया।

विभिन्न महाविद्यालयों में सीएम ने स्वीकृत किए रिक्त पद

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना के ऋण खाताधारकों को छः माह हेतु ब्याज प्रतिपूर्ति सहायता उपलब्ध कराने हेतु 6 करोड़ रूपये की स्वीकृति प्रदान की है। मुख्यमंत्री ने विधानसभा क्षेत्र झबरेड़ा के अन्तर्गत लाठरदेवा हूण से बुडपुर नूरपुर होते हुये लाठरदेवा शेख मार्ग तक सड़क निर्माण हेतु 116.56 लाख, विधानसभा क्षेत्र सहसपुर के अन्तर्गत भाऊवाला में सम्पर्क मार्ग/आंतरिक मार्गों के निर्माण कार्यों हेतु 211.26 लाख रूपये, विधानसभा क्षेत्र नरेन्द्र नगर में 70 वर्षों से जीर्ण शीर्ण पूल्ड हाउस के भवनों के स्थान पर श्रेणी 2 के 24 आवासों का निर्माण कार्य हेतु 489.89 लाख रूपये, विधानसभा क्षेत्र रूद्रप्रयाग के अन्तर्गत विकासखण्ड जखोली में सिंराई नन्दवाणगांव भटवारी मोटर मार्ग में डामरीकरण हेतु 187.54 लाख रूपये, विधानसभा सल्ट के अन्तर्गत सुमनलता भदौला मोटर मार्ग से सेरा कैलानी तल्ला भनेरिया तक मोटर मार्ग हेतु 107.95 लाख रूपये, विधानसभा क्षेत्र देवप्रयाग के अन्तर्गत विभिन्न 02 निर्माण कार्यों हेतु 152.55 लाख रूपये, विधानसभा क्षेत्र डीडीहाट के अन्तर्गत अल्काथल नैनादेवी मोटर मार्ग में डामरीकरण एवं सुधारीकरण हेतु 258.21 लाख रूपये, विधानसभा क्षेत्र कपकोट के अन्तर्गत विभिन्न 2 निर्माण कार्यों हेतु 132.48 लाख रूपये की स्वीकृति के साथ ही जल जीवन मिशन के अन्तर्गत जनपद पौड़ी गढ़वाल की कण्डारस्यूं पेयजल योजना हेतु 2064.57 लाख रूपये की वित्तीय स्वीकृति प्रदान की है।

मुख्यमंत्री ने विभिन्न महाविद्यालयों में पदों के सृजन हेतु प्रदान की स्वीकृति
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने जनपद नैनीताल के हल्द्वानी शहर में नवीन राजकीय स्नातक महाविद्यालय खोले जाने हेतु 25 पदों, जनपद अल्मोड़ा के अन्तर्गत दन्या में नवीन राजकीय स्नातक महाविद्यालय खोले जाने हेतु 16 पदों, जनपद हरिद्वार के अन्तर्गत हरिद्वार शहर में नवीन राजकीय स्नातक महाविद्यालय खोले जाने हेतु 27 पदों, जनपद पौड़ी गढ़वाल के अन्तर्गत खिर्सू में नवीन राजकीय स्नातक महाविद्यालय खोले जाने हेतु 10 पदों, जनपद पौड़ी गढ़वाल के अन्तर्गत कल्जीखाल में नवीन राजकीय महाविद्यालय खोले जाने हेतु 10 पदों, पूर्व से संचालित राजकीय महाविद्यालय मजरा महादेव, पौड़ी गढ़वाल में स्नातक स्तर पर 3 पदों, जनपद चमोली के अन्तर्गत देवाल में नवीन राजकीय स्नातक महाविद्यालय खोले जाने हेतु 14 पदों एवं जनपद ऊधमसिंह नगर के नानकमत्ता क्षेत्रान्तर्गत नवीन राजकीय महाविद्यालय के संचालन हेतु 23 पदों के सृजन की स्वीकृति प्रदान की है।

ऋषिकेश विधानसभा में खेल स्टेडियम होना जरुरी-खरोला

उत्तराखंड कांग्रेस के प्रदेश महासचिव राजपाल खरोला ने आज ऋषिकेश विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत रायवाला में स्व. सजेंद्र चौधरी एवं स्व. शिवा ढौंडियाल की स्मृति में आयोजित क्रिकेट टूर्नामेंट के फाइनल मैच मे बतौर मुख्य अतिथि प्रतिभाग किया और विजेता और उपविजेता टीम को पुरस्कृत किया। इस क्रिकेट टूर्नामेंट में 15 टीमों ने प्रतिभाग किया, जिसमें उत्तम प्रदर्शन दिखाते हुए हरिद्वार की शंकर गोस्वामी की कप्तानी में अन्ना 11 टीम ने जीत हासिल की।
इस अवसर पर खरोला ने खिलाडियों और दर्शको को संबोधित करते हुए कहा कि आज देश के नौजवान व समाज का मोबाइल सहारा बन गया है। लोग खेल से दूर होते जा रहे हैं जबकि शरीर को तंदुरुस्त बनाने के लिए प्रतिदिन कम से कम एक घंटे प्रतिदिन जिम, व्यायाम व कोई भी खेल मैदान में जरूर देना चाहिए। खेल खेलने से शरीर में स्फूर्ति के साथ एकाग्रता आती है।
इस दौरान खरोला ने ऋषिकेश के युवा खिलाडियों को भरोसा दिलाया कि वे खेल और खिलाड़ियों के हित में हर संभव मदद करते रहेंगे। उन्होंने खिलाडियों से अपील की कि वे इस क्षेत्र में बड़ी उपलब्धि हासिल कर देश-प्रदेश का नाम रोशन करने के लिए अन्य युवाओं को भी प्रेरित करते रहे।
खरोला ने कहा यदि हमारी सरकार होती तो निश्चित ही अभी तक ऋषिकेश विधानसभा के अंतर्गत एक खेल स्टेडियम बन चुका होता। उन्होंने कहा कि यदि हमारी सरकार बनी तो सबसे पहले ऋषिकेश विधानसभा क्षेत्र में युवा खिलाड़ियों के लिए एक स्टेडियम का निर्माण कराया जाएगा। खरोला ने सभी खिलाड़ियों के उज्जवल भविष्य की कामना करते हुए अनंत शुभकामनाएं और बधाई दी।
इस मौके पर दिव्या बेलवाल (जिला पंचायत सदस्य), अनिल कुमार (प्रतीतनगर प्रधान), सागर गिरी (रायवाला प्रधान), रायवाला थाना अध्यक्ष भुवन चंद पुजारी, संजय धनाई (उप प्रधान खांड गांव), मुकेश भट्ट (अध्यक्ष इकोसमिति आयोजन मंडल), अजय धैनी, जसवीर शर्मा, नवीन, अमित शर्मा, धनपाल खरोला, मानसिंह तोपवाल, हिमांशु, मुकेश रायल, आशीष डंगवाल, गणेश भारद्वाज, राव शदाब, सूरज राय, सूरज राय, हिमांशु, सलमानी, अमित पटवाल, राकेश नेगी, दीपक शाही, साहिल कुमार आदि उपस्थित रहे ।

सस्ती पढ़ाई के लिए शर्त रखकर सरकार डॉक्टरों की कमी करेगी पूरा

उत्तराखंड के राजकीय मेडिकल कॉलेजों में मेडिकल की पढ़ाई करने वाले छात्र छात्राओं को धामी सरकार बड़ी राहत देने जा रही है। धामी सरकार ने स्वास्थ्य विभाग को निर्देश दिए हैं कि वह देहरादून और हल्द्वानी मेडिकल कॉलेज में बांड प्रक्रिया को एक बार फिर शुरू करें। इसके तहत तमाम बच्चे बांड के तहत प्रदेश में मेडिकल की पढ़ाई करना चाहते हैं वह बांड भरकर कम फीस में पढ़ाई कर सकते हैं। लेकिन जो बांड नहीं भरना चाहते उनके लिए पुरानी व्यवस्था ही जारी रहेगी यानी उन्हें महंगी फीस ही देनी होगी।
आपको बता दें खंडूरी सरकार के द्वारा यह फैसला लिया गया था कि प्रदेश में मेडिकल की पढ़ाई बांड भरकर कराई जाएगी जिसके तहत डॉक्टरों को पढ़ाई के बाद पहाड़ी इलाकों में अपनी सेवाएं देनी होगी। लेकिन मेडिकल कॉलेजों में ज्यादातर पढ़ाई करने वाले छात्र छात्राओं ने बांड को तोड़ डाला और सरकार को इससे काफी नुकसान हुआ, इसके बाद देहरादून और हल्द्वानी मेडिकल कॉलेज में इस व्यवस्था को समाप्त कर दिया गया था।
लेकिन हाल में देहरादून और हल्द्वानी मेडिकल कॉलेज में बच्चों द्वारा लगातार नाराजगी जताते हुए फीस कम करने की मांग की गई थी जिसको लेकर आज कैबिनेट ने स्वास्थ्य विभाग को अलग से इसको लेकर प्रस्ताव बनाने के निर्देश दिए हैं। जिसके बाद अब हल्द्वानी और देहरादून मेडिकल कॉलेजों में बांड के तहत सस्ती मेडिकल की पढ़ाई भी हो सकेगी। इसके साथ ही राज्य में डॉक्टरों की कमी भी पूरी हो सकेगी।

सीएम पहुंचे श्हीद विपिन सिंह गुसाईं के घर, दी श्रद्धाजंली

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सियाचिन में अपने कर्तव्यों का निर्वहन करते हुए शहीद हुए ग्राम धारकोट, पौड़ी निवासी, 57 बंगाल इंजीनियरिंग के जवान विपिन सिंह गुसाईं के घर पर जाकर उनकी देह पर पुष्पचक्र अर्पित कर श्रद्धांजलि दी।
मुख्यमंत्री ने दिवंगत आत्मा की शांति व शोक संतप्त परिजनों को धैर्य प्रदान करने की ईश्वर से कामना की है। मुख्यमंत्री ने कहा की शहीद के परिजनों को राज्य सरकार द्वारा हर संभव मदद दी जाएगी। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर घोषणा की कि शहीद के गांव जाने वाला मोटर मार्ग धारकोट-इठूड का नाम तथा राजकीय इंटर कॉलेज चम्पेश्वर का नाम शहीद विपिन सिंह गुसाईं के नाम पर की जाएगी।
इस अवसर पर सैनिक कल्याण मंत्री गणेश जोशी, स्वास्थ्य एवं उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. धन सिंह रावत, जिलाधिकारी पौड़ी डॉ. विजय कुमार जोगदंडे ने शहीद जवान विपिन सिंह को पुष्पचक्र अर्पित कर श्रद्धांजलि दी।