बीएससी, एमएससी सहित नेट की तैयारी कर रहे विद्यार्थी डा. खाती की पुस्तक ने भी कीजिए ज्ञान अर्जित

राजकीय महाविद्यालय ऋषिकेश (श्रीदेव सुमन विश्वविद्यालय कैंपस) के रसायन विभाग में कार्यरत प्रोफेसर डा. पूरन सिंह खाती की पुस्तक Pollutant Dynamics in some of the lakes of Nainital ऐसे युवाओं को समर्पित है, जो वर्तमान में नेट, सेट तथा पीएचडी की प्रवेश परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं। इसके अलावा ‘जल’ विषय पर जो पीएचडी करने की चाह रखते है, उनके लिए वह वरदान का कार्य करेगी। यही नहीं डा. खाती की इस पुस्तक से बीएससी तथा एमएससी के विद्यार्थियों को भी उचित लाभ मिलेगा।

डा. पूरन सिंह खाती ने इस पुस्तक को बहुत ही सरल और सहज भाषा में लिखा है इसमें उनके शोध कार्य सम्मिलित है। बतौर डा. खाती बताते हैं कि यह पुस्तक में जल से संबंधित सभी जानकारियां है, इसे विद्यार्थी गूगल पर भी सर्च कर पढ़ सकते है।

इस किताब में डॉक्टर खाती डॉक्टर खाती ने विशेष रुप से उन झीलों का वर्णन किया है। नैनीताल, भीमताल, नौकुचियाताल, खुरपा ताल तथा सात ताल इन पांच लेखों में डॉक्टर खाती ने अपना शोध कार्य किया है। आपको बता दें कि डॉक्टर खाती ने अपना शोध कार्य सुपरवाइजर प्रोफेसर एस पीएस मेहता डीएसबी केंपस नैनीताल कुमाऊं यूनिवर्सिटी नैनीताल के निर्देशन में किया है।
डॉक्टर खाती ने वाटर से संबंधित कार्य आईआईटी रुड़की, नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ हाइड्रोलॉजी, गोविंद बल्लभ पंत यूनिवर्सिटी पंतनगर तथा डब्ल्यूटीए नोएडा तथा डीएसबी परिसर नैनीताल मैं किया है।

एनएसएस शिविरः एक अच्छा समाजसेवी निष्ठा की भावना से काम करने की रखता है काबिलियत

श्री भरत मंदिर इंटर कॉलेज की राष्ट्रीय सेवा योजना के तृतीय दिवस पर जनपद समन्वयक डीआर रवी ने शिविर का निरीक्षण किया। स्वयं सेवकों राष्ट्र सेवा योजना के महत्व पर उन्होंने कहा कि यह समाज से जुड़ने का सबसे बड़ा महत्वपूर्ण साधन है। एक स्वयंसेवी के अंदर एक निष्ठा की भावना से काम करने एवं समाज सेवा की प्रेरणा होना चाहिए, तभी वह एक अच्छा समाजसेवी कहलाएगा।

शिविर में नशा मुक्त उत्तराखंड संस्कार युक्त उत्तराखंड के उद्देश्य की पूर्ति के लिए स्वयं सेवियों ने घर-घर जाकर संकल्प पत्र भरवाए कि समाज से नशा झ ऐसी कुरीति को दूर करने के लिए सभी मिलकर प्रयास करेंगे।

बौद्धिक सत्र में कवि गोष्ठी का आयोजन किया गया। जिसमें कवियों ने समसामयिक विषयों पर अपने रचनाएं प्रस्तुत की है तथा उद्देश्य परख रचनाओं को स्वयंसेवकों देने का कार्य किया है। इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में ममता जोशी, स्नेहा बेटियों पर प्रेरक रचना सुनाई और ऋतुराज वसंत के स्वागत पर अपनी प्रस्तुति दी। इस अवसर पर विद्यालय के वरिष्ठ प्रवक्ता यमुना प्रसाद त्रिपाठी, शिवप्रसाद बहुगुणा, नवीन मेंदोला, धनंजय रागड़, नीलम जोशी, सुशीला बडथ्वाल, सुनील थपलियाल, राष्ट्रीय सेवा योजना के कार्यक्रम अधिकारी जयकृत रावत, सोहन सिंह आदि उपस्थित रहे।

‘बच्चों में बढ़ती नशे की प्रवृत्ति, रोकथाम और पुनर्वास’ विषय पर आयोजित कार्यशाला का शुभारम्भ

बाल अधिकार संरक्षण आयोग की ओर से ‘बच्चों में बढ़ती नशे की प्रवृत्ति, रोकथाम और पुनर्वास’ विषय पर आयोजित दो दिवसीय कार्यशाला का शुभारम्भ करते हुए मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने कहा कि युवाओं में नशे की प्रवृत्ति बढ़ती जा रही है। नशा समेत तमाम विकृतियों से बच्चों को बचाने के लिए उन्हें संस्कारवान बनाना होगा। संस्कारित बच्चे जीवन के किसी भी क्षेत्र में असफल नहीं होते। इसके अलावा उन्होंने कहा कि नशा मुक्ति को लेकर जमीनी स्तर पर जागरूकता अभियान चलाए जाने चाहिए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि बच्चे स्कूल से ज्यादा समय अपने घर पर बिताते हैं लिहाजा बच्चों को संस्कारवान बनाने की जिम्मेदारी अभिभावकों की भी है। बच्चों की गतिविधियों पर बराबर नजर बनाने की जरूरत है ताकि उन्हें गलत दिशा में जाने से रोका जा सके। उन्होंने कहा कि पश्चात्य देश भारतीय संस्कृति की महानता को समझ चुके हैं, इसलिए अब वह हमारी संस्कृति का अनुशरण कर रहे हैं। लेकिन चिंताजनक बात यह है कि हमारे देश के युवा पाश्चात्य संस्कृति से प्रभावित हो रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि नशा मुक्ति के लिए चलाए जा रहे अभियान में सिर्फ सरकारी प्रयास ही पर्याप्त नहीं हो सकते इसके लिए सामाजिक संगठनों, संस्थाओं और समाज के गणमान्य लोगों को भी आगे आना होगा। नशा विमुक्ति को लेकर व्यापक जन जागरूकता अभियान चलाए जाने की भी आवश्यकता है।

कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी ने कहा कि नशा मुक्ति के लिए विल पॉवर होनी जरूरी है। यदि कोई व्यक्ति नशे की गिरफ्त में आ चुका है तो दृढ़ इच्छाशक्ति के बूते ही वह नशे को छोड़ सकता है। उन्होंने कहा कि नशे के तस्करों के जाल को तोड़ने के साथ ही तस्करों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करनी होती तभी इसमें सुधार हो सकता है। बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष उषा नेगी ने कहा कि उत्तराखण्ड में आयोग ने वर्ष 2018 को नशे के खिलाफ अभियान शुरू किया था जो निरन्तर जारी है। खासकर नशे में लिप्त बच्चों की पहचान कर उनके रेस्क्यू व पुनर्वास किया जा रहा है। आयोग के इस अभियान को अच्छा जनसमर्थन मिल रहा है। बाल अधिकार संरक्षण आयोग की सचिव झरना कामठान ने कहा कि आयोग की पहल पर उत्तराखण्ड में नशे के कारोबारियों के खिलाफ अब तक 930 मामले पंजीकृत हुए हैं। यह कार्रवाई जारी है। कार्यशाला उत्तर प्रदेश, चण्डीगढ़ समेत कई प्रदेशों के बाल अधिकार संरक्षण आयोग अध्यक्ष अथवा सदस्य मौजूद रहे।

महाविद्यालय के अंग्रेजी विभाग की फ्रेशर पार्टी में नूतन छात्रों का मचाया धमाल

राजकीय महाविद्यालय ऋषिकेश में अंग्रेजी साहित्य के छात्र छात्राओं के लिए फ्रेशर पार्टी का आयोजन किया गया। ऐसे छात्र व छा़त्राएं जो प्रथम वर्ष में कॉलेज में प्रवेश लिया है, उनका महाविद्यालय में स्वागत हुआ। पार्टी में सभी छात्रों ने अपना परिचय दिया। इस दौरान छात्रों ने सिंगिंग, डांसिंग, डीजे पर रैंप वॉक कर अपनी अपनी प्रतिभा को भी सम्मुख रखा। फ्रेशर पार्टी में मिस्टर फ्रेशर मयंक और मिस फ्रेशर का खिताब निशा गोस्वामी ने हासिल किया।

अंग्रेजी विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ सतेन्द्र कुमार ने सभी नये छात्रों का स्वागत किया व साथ ही उनके बेहतर भविष्य के लिए शुभकामनाए दी। इस अवसर पर डॉ अंजू भट्ट, रूबी तब्बसुम, बीना खाती, मयंक रैवानी, ज्योति, साक्षी, निधि, पूजा, कृति आदि मौजूद थे।

सात मार्च को राष्ट्रीय सेवा योजना के बी व सी प्रमाण पत्र की परीक्षा घोषित


श्री भरत मंदिर इंटर काॅलेज के प्रधानाचार्य मेजर गोविंद सिंह रावत ने बताया कि राष्ट्रीय सेवा योजना की बी एवं सी प्रमाण पत्र हेतु परीक्षा अब सात मार्च को संपन्न होगी।

बताया कि रविवार को आयोजित परीक्षा श्री भरत मंदिर इंटर कॉलेज के परिसर पर होगी। बताया परीक्षा सुबह 11 बजे से प्रारंभ होगी। जिसमें सभी छात्र-छात्राओं को 10 बजे तक अनिवार्य रूप से विद्यालय में पहुंचना होगा। उन्होंने कहा कि सभी छात्र छात्राओं के प्रवेश पत्र उनके विद्यालयों को भेज दिए गए हैं। संबंधित स्वयंसेवी अपने अपने विद्यालय से अपना प्रवेश पत्र प्राप्त कर सकते हैं।

सोशल मीडिया की कमान अब केंद्र सरकार से संभाली, बनाए सख्त नियम

केंद्र सरकार की ओर से बनाए गए सख्त नियमों से सोशल मीडिया में सुधार होगा। इस दिशानिर्देश का सबसे बड़ा फायदा ऐसे उपभोक्ताओं को मिलने जा रहा है जिनकी सोशल मीडिया या ओटीपी के खिलाफ शिकायतें अब तक नहीं सुनी जाती थी। सख्त लहजे में सरकार ने सोशल मीडिया कंपनियों को कहा है कि भारत में उनका कारोबार का स्वागत है, मगर भारत का संविधान और कानून इन सोशल मीडिया कंपनियों को मानना होगा।

केंद्रीय कानून व सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद और सूचना प्रसारण मंत्री प्रकाश जावेडकर ने नए दिशानिर्देशों की घोषणा की है। दोनों ही मंत्रियों ने कहा है कि नए दिशा-निर्देश के तहत संबंधित कंपनियों के लिए शिकायत अधिकारी की नियुक्ति करना शरारत पूर्व सूचना की शुरुआत करने वाले प्रथम व्यक्ति का खुलासा करने और अश्लील सामग्री तथा महिलाओं की तस्वीरों से छेड़छाड़ जैसी सामग्री को 24 घंटे के भीतर हटाना अनिवार्य कर दिया गया है। कहां कि सोशल मीडिया को दो श्रेणियों में बांटा गया है एक इंटरमीडियरी और दूसरा सिग्निफिकेंट सोशल मीडिया इंटरमीडियरी।

इस तरह होगी निगरानी
– सरकार के बनाए कानूनों और नियमों का अमल सुनिश्चित करने के लिए सोशल मीडिया कंपनियों को चीफ एंपलॉयर्स ऑफिसर नियुक्त करना होगा या ऑफिसर भारत में रहने वाला व्यक्ति होना चाहिए।
– एक नोडल अधिकारी नियुक्त करना होगा जिससे सरकारी एजेंसियां कभी भी संपर्क कर सकें या नोडल ऑफिसर भी भारत में रहने वाले व्यक्ति होना चाहिए।
– बड़ी सोशल मीडिया कंपनियों को हर महीने कंप्लायंस रिपोर्ट जारी करनी होगी की कितनी शिकायतें आई और उन पर क्या कदम उठाए गए।

आपत्तिजनक पोस्ट अपलोड करने वाले की होगी पहचान
– सोशल मीडिया कंपनियों को सख्त शब्दों में कहा गया है कि आपत्तिजनक पोस्ट के फर्स्ट ओरिजिन को ट्रेस करना होगा यदि भारत के बाहर से इसका ओरिजिन है तो यह पता लगाना कंपनियों को होगा कि यहां सर्वप्रथम सर्कुलेट किसने किया है।

गढ़वाल सांसद, विधायक सहित अन्य को होम्योपैथिक डिप्लोमाधारकों ने दिया ज्ञापन

होम्योपैथिक बेरोजगार डिप्लोमा फार्मासिस्ट संघ उत्तराखंड ने वरिष्ठ भाजपा नेता सूर्य चंद्र सिंह चैहान एवं आशीष कुकरेती के नेतृत्व में सरकार तक अपनी समस्या रखी।

भाजपा नेताओं के नेतृत्व में डिप्लोमाधारकों ने मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के निजी सचिव हितेंद्र नेगी, गढ़वाल सांसद तीरथ सिंह रावत, कपकोट विधायक बलवंत सिंह भौयाल से मुलाकात की और ज्ञापन दिया। उन्होंने बताया कि एलोपैथिक विभाग के अंतर्गत स्थाई 180 राजकीय एलोपैथिक चिकित्सकों में होम्योपैथिक बिग की स्थापना एवं उनमें होम्योपैथिक चिकित्सकों की स्थाई नियुक्ति की जाएं। इससे बेरोजगार डिप्लोमाधारकों को रोजगार मिलेगा और उनका भविष्य संवर सकेगा। उन्होंने कहा कि राज्य के युवाओं के हित में सरकार इस पर जल्द ही निर्णय लें।

ज्ञापन देने वालों में फार्मासिस्ट संघ की अध्यक्ष नीलम चैहान, महासचिव तुलसी नेगी, सचिव राहुल गैरोला, पवन नेगी, सुरेश जोशी, सिद्धार्थ नेगी, कृष्णा, आकाश आदि उपस्थित रहे।

बसंतोत्सव में रक्तदान कर 219 रक्तदाताओं ने कमाया पुण्य

ऋषिकेश बसंतोत्सव समिति में भरत मंदिर परिवार की ओर से लगाए गए रक्तदान शिविर का शुभारंभ भारत माता मंदिर के महंत ललितानन्द महाराज ने किया। जिसमें भरत मंदिर के महंत वत्सल प्रपन्नाचार्य महाराज, स्कूल सोसाइटी के सचिव हर्षवर्धन शर्मा, पार्षद राजेंद्र प्रेम सिंह बिष्ट, पूर्व पालिकाध्यक्ष दीप शर्मा, वरुण शर्मा, शंकराचार्य परिषद के प्रदेश अध्यक्ष पंडित रवि शास्त्री मौजूद रहे।

रक्तदान शिविर में अहम भूमिका निभाने वाले रक्तदाता राजेंद्र प्रेम सिंह बिष्ट ने कहा कि हमें रक्तदान से कभी पीछे नहीं हटना चाहिए। एक व्यक्ति का रक्त दान चार व्यक्तियों की जान बचाता है, क्योंकि इसमें से लाल रुधिर कण, सफेद रुधिर कण ,प्लेटलेट्स और प्लाज्मा आवश्यकतानुसार मरीजों को दिया जाता है साथ ही उनका लक्ष्य है कि रक्त की कमी से कभी किसी की मृत्यु ना हो।
ब्लड डोनेशन शिविर में करीब 265 लोगों ने पंजीकृत करवाया। जिसमें 219 लोगों को रक्तदान के लिए उपयुक्त पाया गया। एम्स ऋषिकेश, हिमालय हॉस्पिटल की टीमों ने ब्लड डोनेशन में प्रतिभाग किया। डॉक्टरों की टीम में एचओडी डॉ मनीष रतूड़ी, डॉ तृप्ति, केसी जोशी, आदित्य, वीर, भूपेश पंत, डा. आशीष जैन डा. सत्येंद्र मोहन, डा. वैदेही रंजन मुखर्जी, दीक्षा, दिनेश चंद्र, विनोद थपलियाल, अंजना रोशन, रीता ने सहयोग किया।

रक्तदान शिविर में 115 जॉलीग्रांट और 104 यूनिट एम्स ऋषिकेश के द्वारा एकत्र की गई। ऋषिकेश वसंतोत्सव शिविर में प्रधानाचार्य मेजर गोविंद सिंह रावत, प्रधानाचार्य धीरेंद्र जोशी, पूर्व प्रधानाचार्य दिवाकर भानु प्रताप सिंह रावत, युवा नेता निखिल बार्थवाल, पार्षद विपिन पंत, पार्षद विजेंद्र मोगा, पार्षद विजय लक्ष्मी, पूर्व राज्य मंत्री विजय सारस्वत, पार्षद लव कांबोज, पार्षद राकेश मियाँ, पार्षद जॉनी, पार्षद चेतन चैहान, संजय प्रेम सिंह बिष्ट, हर्षमणि व्यास, रंजन अंथवाल, राजीव मोहन आदि उपस्थित रहे।

ऋषिकेशः शार्ट फिल्म ‘टेंपरेरी प्यार’ यू ट्यूब पर हुई रिलीज

गोविंदा शाह द्वारा निर्देशित शार्ट फिल्म टेंपरेरी प्यार यू ट्यब में रिलीज कर दी गई है। इस फिल्म में ज्यादातर कलाकार स्थानीय हैं।आज के यूथ की प्यार के प्रति सोच को लेकर कहानी गढी गई है जिससे देवभूमि की बेहद खूबसूरत लोकेशन पर फिल्माया गया है।

वैलेंटाइन वीक के मौके पर आई शार्ट फिल्म को जबरदस्त प्रराम्भिक रिसपांस मिलना तय है। कयास लगाए जा रहे हैं शार्ट फिल्म को लोग यू ट्यब पर काफी पसंद करेंगे। समाजसेवी डॉ राजे सिंह नेगी ने शॉर्ट फिल्म टेंपरेरी प्यार का उद्घाटन किया। उन्होंने कहा की क्षेत्र के युवाओं द्वारा इस प्रकार की क्रीऐटिविटी करना तारीफ के काबिल है। शार्ट फिल्म के निर्देशक गोविन्दा शाह ने बताया की उनके द्वारा बनायी शार्ट फिल्म दोस्ती, स्टडी और कालेज के माहौल की स्टोरी है, जिससे समाज के लिए एक बेहतरीन संदेश दिया गया है।

इस शार्ट फिल्म को उनकी टीम के नीरज राणा और विनोद भारद्वाज ने शूट किया है। बता दें कि इससे पहले गोविन्दा शाह द्वारा जिन्दगी दी पौड़ी बनायी गयी थी जिसको अब तक ढेड लाख से ज्यादा लोग देख चुके है। टेंपरेरी प्यार शार्ट फिल्म आगामी 14 फरवरी को गोविंदा शाह के यू टयूब चेनल पर देखने को मिलेगी। इस अवसर पर रजत कालरा, प्रियांशु सक्सैना, अनुराज पाॅल, विक्की, अंकित कुमार, आशीष असवाल आदि मोजूद रहे।

तीर्थनगरी के मयंक ने नेशनल क्विज प्रतियोगिता में जीता प्रथम स्थान

तीर्थनगरी के मयंक रैवानी ने अंग्रेजी साहित्य की ऑनलाइन नेशनल क्विज प्रतियोगिता में प्रथम स्थान कब्जाया है। प्रथम में स्थान में एक ओर छात्रा ने भी स्थान बनाया है।

बता दें कि गोपीचंद आर्य महिला कॉलेज अबोहर द्वारा ऑनलाइन नेशनल क्विज प्रतियोगिता आयोजित की गई। प्रतियोगिता में विभिन्न महाविद्यालय और विश्वविद्यालय के छात्र छात्राओं ने प्रतिभाग किया। प्रतियोगिता के अंत मे गोपीचंद महिला आर्य महाविद्यालय की अंग्रेजी विभागाध्यक्ष डॉ आरती कपूर ने परिणामों की घोषणा की। जिनमें ऋषिकेश के मयंक रैवानी और गोपीचंद आर्य महिला कॉलेज की छात्रा आँचल बिशनोई ने प्रथम स्थान प्राप्त किया। जबकि द्वितीय स्थान पर हेमवती नंदन बहुगुणा विश्वविधालय में पीएचडी की छात्रा आकांक्षा नॉटियाल और तृतीय स्थान महाराजा रंजीत सिंह कॉलेज मलौट की छात्रा गीता कटारिया ने प्राप्त किया।

डॉ आरती कपूर द्वारा सभी विजेताओं को ट्रॉफी व प्रमाण पत्र देने की भी घोषणा की गई। प्रतियोगिता मे 50 से अधिक अंक प्राप्त करने वाले सभी छात्र छात्राओं को प्रमाण पत्र दिए गए। ऑनलाइन प्रतियोगिता को सफल बनाने के लिए अमनदीप कौर, शिवांगी, विशाल प्रजापति आदि मौजूद रहे।