फाइनेंसर व भाजपा नेता के पिता के मर्डर केस में एसएसपी देहरादून ने किया खुलासा


आज वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक देहरादून के कार्यालय पर राजकुमार गुप्ता मर्डर केस को लेकर प्रेस वार्ता की गई। एसएसपी डॉ योगेंद्र सिंह रावत ने आरोपियों की पहचान सुरेश चैधरी पुत्र स्वर्गीय मुंशी राम निवासी ग्राम गुरदासपुर थाना स्योहारा बिजनौर हाल निवासी सुमन विहार बापू ग्राम आईडीपीएल के रूप में कराई जबकि इसके दो अन्य साथी इंद्रपाल सिंह उर्फ पप्पू पुत्र जयपाल सिंह हाल निवासी छाबरा फार्म मनसा देवी श्यामपुर ऋषिकेश व राजकुमार पुत्र स्वर्गीय बाबूराम निवासी शक्तिनगर चक्कर रोड कोतवाली शहर जिला बिजनौर के रूप में कराई।

क्या था मामला
बीते 15 जनवरी को भाजपा नेता रूपेश गुप्ता ने अपने पिता फाइनेंसर राजकुमार गुप्ता की गुमशुदगी दर्ज कराई थी। पुलिस ने मामले में करीब 100 से अधिक नंबरों की कॉल डिटेल व 55 सीसीटीवी फुटेज खगाली। जिसमें मृतक के साथ जाते आरोपियों को देखा गया।

कैसे दिया घटना को अंजाम
15 जनवरी की रात को आरोपियों ने मृतक को स्मृति वन के जंगल में ले जाकर रस्सी से गला घोट कर हत्या कर दी। 16 जनवरी की सुबह 3रू30 बजे एक वाहन में रखकर श्यामपुर के कच्चे रास्ते से होते हुए मंडावर बिजनौर ले गए यहां सुनसान इलाका इनाम पुर रजवाड़े के किनारे पेट्रोल डालकर जला दिया। बिजनौर उत्तर प्रदेश की पुलिस को एक आध जला शव बरामद हुआ उस दौरान शव की शिनाख्त नहीं हो पाई इसके चलते 19 जनवरी को यूपी पुलिस ने मृतक का अंतिम संस्कार हिंदू रीति रिवाज से कर दिया।

घटना में उपयुक्त सामानों का विवरण
एसएसपी योगेंद्र सिंह रावत ने बताया कि घटना में प्रयुक्त वाहन, गुमशुदा की स्कूटी, हत्या करने के बाद शव को जलाने के लिए पेट्रोल में प्रयोग की गई प्लास्टिक की बोतल तथा शव को छिपाने के लिए प्रयोग में लाई गई काली पन्नी बरामद की है।

साइबर सैल ने त्वरित कार्रवाई कर ठगों से दिलवाए 84970 रूपए

साइबर ठगों ने एक व्यक्ति के खाते से धोखे से एक लाख रूपए की चपत लगा दी। मगर, साइबर सैल पुलिस ने पीड़ित की शिकायत पर त्वरित कार्रवाई करते हुए 84,970 रूपए वापस दिलाने में कामयाबी पाई है। वहीं, साइबर सैल ने जनता से अपील की है कि किसी भी अज्ञात व्यक्ति के काॅल व मैसेज का रिप्लाई न दें। अपने एटीएम का नंबर, उसका पासवर्ड, ओटीपी नंबर शेयर न करें। अंजान लिंक, आॅनलाइन जाॅब आफर से संबंधित लिंक पर क्लिक न करें। किसी भी अंजान क्यूआर कोड को स्कैन न करें। जागरूक बने और ठगी से बचें।

दरअसल, एसएसपी टिहरी तृप्ति भट्ट ने जनता के साथ हो रहे साईबर अपराधों को गंभीरता से लेते हुए किसी भी साईबर अपराध की शिकायत पर तत्काल निस्तारण के निर्देश दिए गए थे। इसी क्रम में न्यू टिहरी निवासी रघुवीर के साथ एक लाख रूपए की साइबर ठगी हुई। मामला कोतवाली टिहरी में पहुंचा, तो साइबर सैल टिहरी गढ़वाल ने त्वरित कार्यवाही की।

प्रभारी साईबर सैल टिहरी गढ़वाल उप निरीक्षक आशीष कुमार ने बताया कि समय रहते पीड़ित के खाते से कटी धनराशि 84,970 रुपये वापस करवाए गए। साइबर सैल पुलिस की इस कार्रवाई का पीडित व्यक्ति ने सराहना कर धन्यवाद दिया। साईबर सैल की टीम में, कांस्टेबल अजय वीर सैनी, राहुल सरग्वाण आदि उपस्थित रहे।

छह मोटरसाइकिल को ऋषिकेश से चुराकर बडौत में बेचने की थी तैयारी, गिरफ्तार

ऋषिकेश की पुलिस ने एक बाइक चोर को उस समय अरेस्ट कर लिया, जब वह ऋषिकेश क्षेत्र में अलग-अलग जगहों से चोरी की हुई छह मोटरसाइकिल को बडौत बेचने की तैयारी में था। पुलिस ने एक आरोपी सहित छह मोटरसाइकिल खांड गांव के जंगल से बरामद कर ली है। हालांकि अभी एक अन्य आरोपी मामले में फरार है, मगर पुलिस का दावा है कि जल्द ही उसे भी अरेस्ट किया जाएगा।

कोतवाल रितेश शाह के अनुसार, विगत एक सप्ताह से ऋषिकेश में बाइक चोरी होने की लगातार सूचना मिल रही थी। इस संदर्भ में सादा व वर्दी में चार पुलिस टीमें गठित की गई। घटना स्थल के सीसीटीवी फुटेज खंगाली गई तो मालूम हुआ कि चोरी के ही मामले में थाना रायवाला से जेल की हवा खा चुके निक्कू नामक युवक अपने एक साथी के साथ बाइकें चोरी कर रहा है।

पुलिस ने मुखबिर तंत्र को सक्रिय किया और मुखबिर की ही सूचना पर चेकिंग के दौरान मंशा देवी फाटक पर पुलिस ने आरोपी निक्कू उर्फ नीतिश तोमर निवासी आजाद नगर थाना दौघट बडौत, हाल निवासी भट्टोवाला श्यामपुर ऋषिकेश को अरेस्ट कर लियां, जबकि अन्य आरोपी रोहित निवासी लौढा बडौत यूपी फरार है।

कोतवाल रितेश शाह ने बताया कि चोरी की हुई छह बाइकें खांड गांव के जंगल से बरामद कर ली गईं है। पूछताछ में आरोपी इन्हें बडौत बेचने की फिराक में थे।

ससुर पर लगा बहु को जान से मारने की धमकी, मारपीट व लूट का आरोप

ऋषिकेश में एक बहू ने अपने ही ससुर पर घर में घुसकर जान से मारने की धमकी देने, मारपीट तथा जेवरात लूटने का आरोप लगाया है। मामले को लेकर बहू ने कोतवाली पुलिस को तहरीर तक सौंपी है।

तहरीर के मुताबिक, आज गंगा विहार ऋषिकेश निवासी मंजू संगल पत्नी स्व. प्रवीण कुमार ने बताया कि दोपहर ढाई बजे के करीब पड़ोस में रहने वाले उनके ससुर रमेश चंद गांधी घर पहुंचे। शिकायतकर्ता की बहन ने घर का दरवाजा खोला। उन्होंने आरोप लगाया कि इसी बीच उनके भतीजे शुभम व यशी संगल ने जबरन घर में घुस आए। शिकायतकर्ता मंजू संगल ने ससुर रमेश पर जान से मारने की धमकी और भतीजों पर मारपीट करने का आरोप लगाया। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि घटना के दौरान उनके गले से सोने की चेन भी लूट ली गई। शिकायतकर्ता महिला ने आरोपियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने की मांग की।

कर्नाटक के लोग बनाते थे महिलाओं को निशाना, ऋषिकेश में पुलिस ने किया गिरफ्तार

नकली पुलिस बनकर भीड़भाड़ वाले इलाके में महिलाओं को लूटने वाले गैंग के तीन लोगों को कोतवाली ऋषिकेश ने अरेस्ट किया है। पुलिस ने अरेस्ट किए गए लोगों को ईरानी गैग का सदस्य बताया है। आरोपियों ने बीती छह जनवरी को रेलवे रोड से एक महिला को अपना शिकार बनाया था।

दरअसल, अरविंद जैन पुत्र स्व. प्रेमचंद्र जैन निवासी 75 जीवनीमाई मार्ग निकट मॉडर्न स्कूल ऋषिकेश ने तहरीर में बताया था कि 6 जनवरी 2021 की शाम उनकी पत्नी बाजार सामान लेने गई थी। रेलवे रोड भगवान भवन के सामने दो अज्ञात व्यक्तियों ने उनकी पत्नी को बातों में उलझा कर कुछ आभूषण ठग लिए और वहां से फरार हो गए। पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ 420 आईपीसी में मुकदमा दर्ज किया था। पुलिस ने नेपाली तिराहे के पास चेकिंग के दौरान दो अलग-अलग मोटरसाइकिल पर तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है। कोतवाल रितेश शाह ने आरोपियों की पहचान मिसकिन पुत्र मंसूर अली और मौसीन खान पुत्र फिरोज खान दोनों निवासी हुसेनी कालोनी, छिदरी रोड़, थाना गांधीगंज, जिला बीदर कर्नाटक तथा तीसरे की पहचान शेख अबू तोराब पुत्र अख्तर अली निवासी हुसेनी कालोनी, छिदरी रोड़, थाना गांधीगंज, जिला बीदर कर्नाटक के रूप में कराई।

पुलिस के अनुसार आरोपियों शत प्रतिशत सामान बरामद किया गया है। साथ ही सोने व चांदी के नकली गहने भी बरामद किए है।

पूछताछ में हुआ नकली पुलिस का खुलासा
पुलिस की पूछताछ में आरोपी मिसकिन ने बताया कि वह मूल रूप से कर्नाटक के निवासी हैं। वह लोग भीड़ भाड़ वाले बाजार क्षेत्र में अकेली महिला की तलाश करते हैं। इसके पश्चात हममे से एक आदमी अपने को पुलिस वाला बताकर महिला के पास जाकर बोलता हैं कि आपको साहब बुला रहे हैं। जिस पर वह आदमी महिला को हम में से एक अन्य आदमी के पास लाता है, तथा हमी में से तीसरा आदमी वहां से गुजरता है। जिसे बैठा व्यक्ति बुलाता है और कहता है कि आप इस तरह आभूषण पहनकर न घूमें आपके साथ घटना हो सकती है। आप इन्हे उतारकर लिफाफ मे रखकर ले जाओ और घर जाकर पहन लेना। इस पर वह व्यक्ति अपने आभूषण उताकर बैठे व्यक्ति को दे देता है। जिन्हे बैठा व्यक्ति अपने पास रखे एक लिफाफे में रखकर उसे लिफाफा दे देता है और वह व्यक्ति लिफाफा को जेब में रखकर आगे बढ़ जाता है। इस दृश्य को देखकर बुुजुर्ग महिला विश्वास में आ जाती है जिस पर बैठा व्यक्ति बुजुर्ग महिला से भी यही कहता है और बुजुर्ग महिला अपने पहने गहने उताकर बैठे व्यक्ति को दे देती है। जिस पर बैठा व्यक्ति उसके गहनों को अपने पास रखे लिफाफे में रखकर अपने बैग में पूर्व से रखे उसी प्रकार के नकली ज्वेलरी को हूबहू लिफाफे में रखकर महिला को धोखे से पकड़ा देता है व महिला विश्वास कर कि यही वह लिफाफा है अपने घर चली जाती है तथा हम लोग वहां से खिसक जाते है।

खुलासा करने वाली पुलिस टीम
खुलासा करने वाली टीम में कोतवाल रितेश साह, एसएसआई ओमकान्त भूषण, एसआई आशीष गुसांई, कांस्टेबल प्रवीण सिन्धू, नवनीत सिंह नेगी, मनोज कुमार, सन्दीप छाबड़ी, अनित कुमार शामिल रहे।

बाहरी व्यक्ति कुंभ मेला में वारदात को न दें अंजाम, पुलिस ने चलाया तलाशी अभियान

कुंभ मेला के तहत ऋषिकेश पुलिस ने नगरक्षेत्र में संदिग्धों की तलाशी व बाहरी लोगों का सत्यापन अभियान चलाया। इस मौके पर त्रिवेणी घाट परिसर पर पुलिस ने टीमें तैनात रही।
कोतवाल रितेश शाह के नेतृत्व में त्रिवेणी घाट परिसर पर सत्यापन, चेकिंग व तलाशी अभियान चलाया गया। अभियान से पूर्व क्षेत्राधिकारी महोदय द्वारा ब्रीफिंग लेकर निम्नलिखित दिशा निर्देश दिए गए।
मौके पर
1- तलाशी लेने से पूर्व सभी अधिकारी एवं कर्मचारी गणों को हैंड ग्लेव्स वितरित किए गए।

2- विनम्रता के साथ बात करते हुए बाहरी एवं संदिग्ध व्यक्तियों का नाम पता नोट करने हेतु बताया गया।

3- त्रिवेणी घाट परिसर में खड़े बाहरी वाहनों को चेक करने हेतु बताया गया।

उपरोक्त चेकिंग अभियान के दौरान क्षेत्राधिकारी ऋषिकेश व प्रभारी निरीक्षक कोतवाली ऋषिकेश, समस्त चैकी प्रभारी व पुलिस सिपाही मौजूद रहे।

ऋषिकेश में कुंभ मेला कंट्रोल रूम की बिल्डिंग को नया थाना बनाने के डीजीपी ने दिए संकेत

जी हां, कुंभ मेला के बाद ऋषिकेश में नया पुलिस थाना बनने जा रहा है, यह फैसला ऋषिकेश की आबादी को ध्यान में रखते हुए लिया जा रहा है। इसके संकेत आज पुलिस महानिदेशक उत्तराखंड अशोक कुमार ने दिए। इसके लिए उन्हें सीओ आफिस के पास कुंभ मेला के मद्देनजर बनाई गए कंट्रोल रूम की बिल्डिंग को चुना है। उन्होंने बिल्डिंग का निरीक्षण करने के बाद कहा कि ऋषिकेश उनकी प्राथमिकता में पहले से ही है। इसलिए यहां की हर गतिविधि पर उनकी नजर रहती है। यहां एक नया पुलिस थाना बनाया जाना है, इसके लिए कंट्रोल रूम की बिल्डिंग बेहतर विकल्प है।

दरअसल आज डीजीपी का पदभार संभालने के बाद पहली दफा ऋषिकेश पहुंचे अशोक कुमार ने कुंभ मेला को लेकर जनता से जनसंवाद और सुझाव कार्यक्रय रखा। मौके पर नगर के व्यापारियों रवि जैन ने पार्किंग, स्टैंड पोस्ट को लेकर समस्या बताई। जिपंस विनोद चैहान ने नेपाली फार्म से सत्यनारायण वाले रूट पर पर्यटकों व श्रद्धालुओं पर गुलदार के आतंक को लेकर अपनी बात रखी। भाजपा नेता ज्योति सिंह सजवाण ने पुलिस सत्यापन, दीपक गौनियाल ने पुलिस की मदद को लेकर युवाओं की भागीदारी पर बात रखी। इन सभी बातों को डीजीपी की ओर से नोट भी किया गया तथा इसमें अमल करने के संकेत भी दिए गए।

गंगानगर में खुलेगी अस्थाई पुलिस चौकी
समाजसेवी व व्यापारी नेता पंकज गुप्ता ने गंगानगर में पुलिस चौकी खोलने की मांग रखी। इस सुझाव को अहम मानते हुए डीजीपी अशोक कुमार ने अस्थाई पुलिस चौकी गंगानगर और बैराज पुल के दोनों साइड खोलने की बात कही।

कांस्टेबल सुधीर सैनी को मिलेगा मेडल
पार्षद गुरविंद सिंह ने लाॅकडाउन के दौरान आईडीपीएल चौकी में तैनात कांस्टेबल सुधीर सैनी का मामला डीजीपी को बताया। कहा कि कांस्टेबल ने लोगों के पेट भरने को अपना निजी खर्च तक लगा दिया। इसके लिए बकायदा चैकी इंचार्ज को कांस्टेबल की गैरमौजूदगी में पार्षद की ओर से सम्मानित किया गया। वहीं, डीजीपी ने कांस्टेबल को मेडल देने की बात भी कही।

सुझाव देने को नंबर किया जारी
कुंभ मेला आईजी संजय गुंज्याल ने मेला को लेकर जनता के सुझाव के लिए उत्तराखंड पुलिस का एक व्हाट्सअप नंबर दिया। कहा कि 9411112945 पर अपने सुझाव दिए जा सकते है।

यह निर्णय भी लिए गए-
– डीजीपी अशोक कुमार ने कहा कि फरवरी अंत तक कांवड़ यात्रा में श्रद्धालुओं की संख्या देखते हुए ऋषिकेश, मुनिकीरेती, लक्ष्मणझूला में 100 सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे।
– कोई भी स्नान कुंभ मेला के दौरान प्रतिबंधित नहीं होगा।
– मुनिकीरेती में पुलिसिंग बढ़ाई जाएगी।
– त्रिवेणी घाट में जल पुलिस की स्थाई चैकी बनाई जाएगी।

अपहरणकर्ता के चंगुल से मुक्त कराई नाबालिग युवती

कोतवाली ऋषिकेश पुलिस ने बीते दो जनवरी को अपहरित हुई नाबालिग युवती को आरोपी के चंगुल से मुक्त कराया है। आरोपी यूपी के बुलंदशहर का रहने वाला है।

दरअसल, एक व्यक्ति ने पुलिस को तहरीर देकर बताया कि उनकी 15 वर्षीय बेटी दो जनवरी की शाम को बिना बताए घर से कहीं चली गई, मगर लौटी नहीं है। पुलिस ने मामले को गंभीर पाकर गुमसुदगी दर्ज की। कोतवाल रितेश शाह ने बताया कि मुखबिर की सूचना पर पुलिस ने कैनाल गेट गोल चक्कर आईडीपीएल के पास से किशोरी के साथ युवक को पकड़ लिया है। कोतवाल ने आरोपी की पहचान अमन उर्फ कोशिंदर पुत्र हरेंद्र सिंह निवासी 93 नेकपुर, जहांगीपुर, बुलंदशहर, उत्तरप्रदेश के रूप में कराई।

शराब का तस्कर स्कूटी छोड़ फरार, साढ़े तीन लाख की शराब जब्त

कोतवाली पुलिस ऋषिकेश ने अवैध नशे के विरुद्ध अभियान के अंतर्गत, सीमेंट के कट्टो में छुपा कर रखी गई 80 (अस्सी) पेटी देसी शराब जाफरान बरामद की है। कोतवाल रितेश शाह के मुताबिक शराब की अनुमानित कीमत साढ़े तीन लाख रूपए है। वहीं पुलिस ने स्कूटी सीज की है।

कोतवाल ने बताया कि मुखबिर की सूचना पर आशुतोष नगर तिराहे के पास एक खाली प्लॉट पर संदिग्ध अवस्था में रखे हुए सीमेंट के कट्टों को चेक किया तो उसके अंदर देसी शराब जाफरान की 80 पेटियां बरामद हुई, व मौके से एक आरोपी अपनी स्कूटी छोड़कर फरार हो गया।

एसएसपी पौड़ी ने किया कोटद्वार के टाइल्स व्यापारी के घर हुई लूट का खुलासा

कोटद्वार। पौड़ी गढ़वाल के कोटद्वार में बीते 25 दिसंबर को चर्चित टाइल्स व्यापारी के घर लाखों रूपए व ज्वैलरी की डकैती व लूट का खुलासा कर दिया। पुलिस की कार्यशैली से खुश होकर डीजीपी अशोक कुमार ने टीम को 20 हजार रूपए का इनाम देने की घोषणा की है।

बतादें कि बीती 25 दिसंबर को शातिरों द्वारा सुबह सात बजे देवी रोड स्थित खुशी होटल के पीछे टाइल्स व्यवसाय प्रमोद प्रजापति के घर को निशाना बनाया गया था। पुलिस ने आरोपियों से दो लाख साठ हजार रूपए की नकदी के साथ सोने के सभी जेबरात लगभग चार लाख रुपये कीमत के और यूनियन बैंक की चैक बुक बरामद की हैं। पुलिस का कहना है इसमें लगभग साठ प्रतिशत लूट का सारा सामान बरामद कर लिया गया है।

एसएसपी पौड़ी पी रेणुका देवी ने बताया कि घटना के बाद से ही पुलिस की सात तेज तर्रार टीमें लगाई गई थी। जिसमें पुलिस ने 9 दिनों के लगातार अथक प्रयास से सोमवार को अभियोग में संलिप्त अभियुक्त राजकुमार छोटा पुत्र जयवीर व उसके चार साथियों को चरथावल क्षेत्र मुजफ्फरनगर उत्तर प्रदेश से डकैती के माल सहित गिरफ्तार किया है। पूछताछ के दौरान अभियुक्त राजकुमार द्वारा बताया गया कि प्रवीण प्रजापति प्रमोद कुमार का करीबी रिश्तेदार है उसने ही हमें बताया कि वह काफी धनवान व्यक्ति है और अन्य जानकारियां भी दीं। प्रवीण प्रजापति द्वारा दी गई जानकारी के बाद 25 दिसंबर की सुबह कपिल कुमार उर्फ रावण, संदीप कुमार उर्फ पिंटू, संजीव कुमार उर्फ सोनू, धीरज, अंकित पुंडीर, प्रवीण प्रजापति ने मिलकर प्रमोद कुमार के घर में डकैती डालने रणनीति बनाई फिर हमने प्रमोद कुमार के घर में डकैती की घटना को अंजाम दिया। अभियुक्तगणों द्वारा पश्चिमी उत्तर प्रदेश व अन्यत्र भी लूट व डकैती की घटना को अंजाम दिये जाने की जानकारी प्रकाश में आई है। मुख्य अभियुक्तगण प्रवीण प्रजापति पुत्र चंद्रपाल व अंकित पुंडीर पुत्र प्रदीप की गिरफ्तारी के प्रयास किए जा रहे हैं। अभियुक्तो के अन्य अपराधिक इतिहास की जानकारी की जा रही है। घटना का खुलासा करने वाली पुलिस टीम का उत्साहवर्धन करने के लिए पुलिस महानिदेशक ने 20 हजार रुपए का इनाम देने की घोषणा की है।