मोदी रिट्रीट योगा होटल की महिला यात्री की ट्रेवल हिस्ट्री छुपाई, निकली पाॅजीटिव

(एनएन सर्विस)
ऋषिकेश कोतवाली पुलिस ने प्रशासन को गुमराह करने पर होटल मोदी रिट्रीट योगा के मैनेजर और महिला यात्री पर आपदा प्रबंधन अधिनियम-2005 के नियमों का उल्लंघन पाते हुए मुकदमा दर्ज कर लिया है।
कोतवाल रितेश शाह ने बताया कि होटल मोदी रिट्रीट योगा में एक महिला दिल्ली रेड जोन से आई। लेकिन महिला यात्री सहित होटल के मैनेजर ने रेड जोन से आने की सूचना स्थानीय प्रशासन और पुलिस को नहीं दी। पुलिस को जब इस मामले का पता चला तो होटल मैंनेजर सतीश से दिल्ली से ऋषिकेश आने का ई-पास मांगा गया तो वह उचित जवाब नहीं दे सका। मैंनेजर की ओर से न ही महिला यात्री शीतल को क्वारंटीन किया गया। बता दें कि उक्त महिला की कोविड रिपोर्ट दो जुलाई को पॉजीटिव आई है।
इस बावत जिला मजिस्ट्रेट के आदेशों की अवहेलना करने पर होटल के मैनेजर और महिला यात्री के खिलाफ संबंधित धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है। कोतवाल ने आरोपियों की पहचान मैनेजर सतीश पुत्र धर्मपाल निवासी अमर एंटा पंचरुखी तहसील पालमपुर कांगड़ा हिमाचल प्रदेश और महिला यात्री शीतल के रूप में कराई है।

पोस्टमैन रामदेव से था प्रेरित, स्टंट के चक्कर में गई जान

(एनएन सर्विस)
बीते दिनों पेट के नीचे गहरे जख्म होने से अत्यधिक मात्रा में रक्त निकलने से जिस पोस्टमैन की मौत हो गई। वह मौत, दरअसल स्टंट करने के चक्कर में हुई। इस बात को परिजनों ने पुलिस के सामने स्वीकार किया है। परिजनों ने पुलिस को पत्र लिखकर मृतक पोस्टमैन की वास्तविकता से भी रूबरू कराया है।
बता दें कि रविवार को मृतक अधेड़ पोस्टमैन गंगाराम कुकरेती की पत्नी संगीता और उनके भाई भगतराम कुकरेती ने श्यामपुर चैकी में पुलिस को पत्र लिखा। उन्होंने पुलिस को बताया कि मृतक पोस्टमैन अपने पेट को स्वामी रामदेव के पेट के समान स्ट्रांग बताया करता था। इसके चलते उन्होंने पूर्व में एक शादी समारोह और एक अन्य कार्यक्रम में भी पेट में चाकू से वार किया था। मगर, उस वक्त हल्की चोट आई थी। इस कारण कोई बड़ा हादसा नहीं हुआ। मगर, शनिवार को पोस्टमैन को स्टंट महंगा साबित हो गया। ओवर कॉन्फिडेंस की वजह पोस्टमैन की मौत का कारण बनी।

साथी के साथ भी नहीं हुई कोई कहासुनी
चैकी इंचार्ज श्यामपुर आशीष गुसांई ने बताया कि शनिवार को रेस्टोरेंट में पोस्टमैन के साथ ‌उनके साथी ‌पूर्ण प्रकाश पैंयूली भी पहुंचे थे। पूर्ण प्रकाश छिद्दरवाला पोस्ट आफिस में डाक राइडर के पद पर कार्य कर रहे है। पुलिस पूछताछ में पूर्ण प्रकाश ने बताया कि उनकी मृतक के साथ कोई कहासुनी नहीं हुई थी। मृतक ने उनसे पेट पर चाकू से वार कर स्टंट करने की बात कही। यह सुन वह घबरा गए। देखते ही देखते उन्होंने रेस्टोरेंट के कारीगर से चाकू लिया और स्वयं पर वार कर दिया। यह देखकर वह घबरा गये और पोस्ट आफिस चले गए।

मुख्यमंत्री ने किसके लिए कहा, सोशल मीडिया के नाम पर कलंक है, पढ़े पूरी खबर

(एनएन सर्विस)
राज्य में अब सोशल मीडिया की गतिविधियां पर खुफिया विभाग की नजर होगी। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने खुफिया तंत्र से जुड़ी एजेंसियों को निर्देश दिया है कि वह सोशल मीडिया पर निगाह रखे। यह जानकारी स्वयं मुख्यमंत्री ने पत्रकारों से बातचीत से बातचीत के दौरान कही।
मुख्यमंत्री ने कहा कि कई बार सोशल मीडिया असामाजिक हो जाता है। उसमें तमाम तरह के ऐसे लोग आ गए हैं जिन्हें देखकर कई बार लगता है कि वो सोशल मीडिया के नाम पर कलंक हैं। वे अपराध कर रहे हैं। इसलिए खुफिया विभाग को सोशल मीडिया पर निगाह रखने को कहा गया है। वे ये देखेंगे कि कहीं किसी का कोई खास एजेंडा तो नहीं है। खुफिया विभाग की उन पर लगातार नजर लगी रहनी चाहिए। जो अच्छे लोग हैं, उन्हेें शाबाशी मिलनी चाहिए।
वहीं, मुख्यमंत्री ने भ्रष्टाचार के मामलों की समयबद्ध जांच की वकालत की। विजिलेंस विभाग को गोपनीय के स्थान पर खुले रूप से जांच करने से जुड़े सवाल पर उन्होंने कहा कि जांच का फायदा तभी होता है, जब वह समयबद्ध हो। अगर वह समयबद्ध नहीं होती है तो कई बार उसके परिणाम भी प्रतिकूल हो जाते हैं। जो अपराधी होता है, वो अपने बचने के तमाम तौर तरीके निकाल लेता है। इसलिए जांच समयबद्ध होनी चाहिए, तभी उस पर प्रभावी कार्रवाई हो सकती है।
मुख्यमंत्री ने दोहराया कि करप्शन को किसी भी हालत में बर्दाश्त नहीं किया जाए। उन्होंने कहा कि जब मैंने शपथ ली थी, तभी मैंने भ्रष्टाचार के खिलाफ कह दिया था कि हम जीरो टालरेंस की नीति पर काम करेंगे। यह तब तक रहेगी जब तक हम हैं। अगर हमारे पास कोई भी तथ्यात्मक जानकारी आती है, उस पर एक्शन करेंगे। हमने एक्शन किए हैं, आगे भी करेंगे।

संदिग्ध अवस्था में युवक की मौत, परिजनों ने हत्या की आशंका जताई

(एनएन सर्विस)
संदिग्ध अवस्था में कोतवाली ऋषिकेश के सामने एक युवक की लाश मिली है। पीड़ित पक्ष ने हत्या की आशंका जताते हुए सीओ ऋषिकेश से मामले की जांच करने की गुहार लगाई है। वहीं सीओ ऋषिकेश ने पीड़ित पक्ष को मामले में सहयोग करने वह सत्यता की जांच का आश्वासन दिया है।
जानकारी के मुताबिक शुक्रवार रात करीब एक बजे शांति नगर परशुराम चैक निवासी 17 वर्षीय सुधीर पुत्र रामकुमार घर से बिना बताये कहीं बाहर निकल गया। मृतक की बड़ी बहन सोनम ने बताया कि सुबह करीब 12 बजे उन्हें सूचना मिली कि उनका भाई कोतवाली के सामने मृत अवस्था में मिला है। यह सुनकर परिजन मौके पर पहंुचे। बताया कि पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।
वही पीड़ित पक्ष ने हत्या की आशंका जताई और जांच की मांग को लेकर पुलिस क्षेत्राधिकारी भूपेंद्र सिंह धोनी से मुलाकात की। उन्होंने बताया कि मृतक का घर से निकलने से पूर्व एक व्यक्ति से झगड़ा हुआ था। उन्होंने मामले की कानूनी कार्रवाई की मांग की। वही पुलिस क्षेत्राधिकारी ने मामले पर सहयोग करने का आश्वासन दिया। उन्होंने बताया कि घटना के आसपास के समय की सीसीटीवी फुटेज खंगाले जा रही है। घटनाक्रम के समय के अनुसार एक तेज रफ्तार से कार जाती हुई दिखाई दे रही है।

रेस्टोरेंट में शराब के सेवन को पहुंचा पोस्टमैन की संदिग्ध परिस्थिति में मौत

(एनएन सर्विस)
ऋषिकेश कोतवाली क्षेत्रांतर्गत एक पोस्टमैन की संदिग्ध परि‌स्थिति में मौत हो गई। आसपास मौजूद लोगों की सूचना पर पहुंची पुलिस ने घायल अवस्था में पोस्टमैन को राजकीय चिकित्सालय पहुंचाया। लेकिन अस्पताल ले जाते वक्त ही पोस्टमैन ने अपना दम तोड़ दिया।
जानकारी के अनुसार, शनिवार दोपहर करीब ढाई बजे श्यामपुर चैकी क्षेत्र में स्थित पोखरियाल फास्टफूड एंड रेस्टोरेंट में पोस्टमैन गंगाराम कुकरेती अपने अन्य साथी के साथ पहुंचा। बताया जा रहा कि यहां उसने शराब का सेवन किया। इस दौरान दोनों के बीच किसी बात को लेकर कहासुनी हो गई। इसी ‌बीच गंगाराम के चिल्लाने की आवाज आई। आवाज सुन रेस्टारेंट में कार्यरत कारीगर वहां पहुंचा तो पोस्टमैन को लहुलुहान हालत में मिला। उसने देखा कि पोस्टमैन के साथ आया व्यक्ति मौके पर मौजूद नहीं है। रेस्टोरेंट के कारीगर ने पोस्टमैन को उठाकर बाहर रख दिया। इसी ‌बीच खून को देखकर आसपास मौजूद लोगों में हड़कंप मच गया। कुछ लोगों ने इसकी सूचना पुलिस को दी।
सूचना मिलते ही मौके पर चैकी इंचार्ज श्यामपुर आशीष गुंसाई पुलिस टीम के साथ पहुंचे और इमरजेंसी सेवा 108 को फोन कर पोस्टमैन को घायल अवस्था में राजकीय चिकित्सालय पहुंचाया। काफी खून बह जाने के कारण रास्ते में ही पोस्टमैन ने अपना दम तोड़ दिया। वहीं, पुलिस ने घटना के बाद रेस्टोरेंट संचालक और कारीगर को हिरासत में लिया है। कोतवाल रितेश शाह ने बताया कि पोस्टमैन की उम्र करीब 50 वर्ष है वह नंबरदार फार्म श्यामपुर के निवासी है। कोतवाल के अनुसार प्रथम दृष्टया ऐसा प्रतीत हो रहा है कि पोस्टमैन ने स्वयं ही किसी धारदार हथियार से अपने शरीर पर वार किया है। उन्होंने कहा कि विवेचना के बाद ही स्थिति स्पष्ट हो पायेगी।

यह भी पढ़े …
कोरोना संक्रमण से एक भी मौत दुखदायी, इसे रोकने के हर संभव हो प्रयासः मुख्यमंत्री

शक के दायरे में साथी और कारीगर
दोपहर ढाई बजे यह घटना हुई। मगर, मौके पर मौजूद उनका साथी वहां से फरार हो गया। मौके पर मौजूद कारीगर ने भी पोस्टमैन को घायल अवस्था में अस्पताल ले जाने की बजाए रेस्टोरेंट के बाहर रख दिया। यह दोनों की भूमिका पर सवाल खड़े कर रहा है। यदि पोस्टमैन ने स्वयं को चोटिल किया तो उसके साथी ने रोका क्यो नही। साथ ही घटना की जानकारी पुलिस को क्यों नही दी गई और अस्पताल ले जाने के बजाए मौके से फरार क्यों हो गए।

संवेदनहीनता दिखी
बताया जा रहा कि मौके पर घायल अवस्था में पोस्टमैन करीब 20 मिनट तक तड़पते रहे। कारीगर ने जब उन्हें लहुलुहान अवस्था में रेस्टोरेंट के बाहर रख दिया तो मौजूद लोग वीडियो और फोटो खिंचने लगे। किसी ने भी उन्हें अस्पताल ले जाने की हिम्मत नही दिखाई।

जमीन के फर्जी दस्तावेज के जरिए बदला नाम, पुलिस ने पीड़ित की शिकायत पर दबोचा

मनोज कुमार गुप्ता पुत्र स्व. प्रेम नारायण गुप्ता निवासी पन्नी नगर बुलंदशहर उत्तर प्रदेश ने कोतवाली में तहरीर दी। इसमें बताया कि उनकी जमीन खाता संख्या 01067 खसरा नंबर 672(ख) के फर्जी दस्तावेज तैयार कर हरकेश नामक व्यक्ति ने मनोज कुमार गुप्ता बनकर राजेंद्र सिंह अन्य के पक्ष में बैनामा निष्पादित करने के लिए कागज तैयार किए हैं। शिकायतकर्ता की तहरीर पर पुलिस ने तत्काल एक महिला सहित चार लोगों के खिलाफ धोखाधड़ी के मामले में मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस ने शुक्रवार को मुख्य आरोपी हरकेश पुत्र रतनलाल निवासी खदरी रोड बैटरी फार्म श्यामपुर ऋषिकेश मूल निवासी ग्राम बिसाइच थाना गुलावठी तहसील बुलंदशहर उत्तर प्रदेश को गिरफ्तार कर लिया है।

वहीं, पुलिस के कब्जे से राजेंद्र सिंह पुत्र अतर सिंह निवासी ग्राम कांडा पोस्ट ज्ञानसू जिला टिहरी गढ़वाल, संदीप कुमार पुत्र शिव शंकर निवासी गली नंबर दो कृष्णा नगर कॉलोनी वीरपुर खुर्द पशुलोक ऋषिकेश और संगीता पत्नी राजेंद्र सिंह निवासी ब्लॉक बी विस्थापित कॉलोनी खदरी खड़कमाफ श्यामपुर ऋषिकेश भागने में सफल रहे। कोतवाल रितेश शाह ने बताया कि फरार आरोपियों की तलाश को टीम तैनात की गई है। जल्द ही अन्य आरोपियों को भी गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

यूपी नंबर की बस में भरे क्षमता से ज्यादा यात्री, पुलिस ने बस स्वामी व चालक पर दर्ज किया मुकदमा

थानाध्यक्ष रायवाला हेमंत खंडूरी ने बताया कि सप्त ऋषि बैरियर पर चेकिंग अभियान के दौरान बस संख्या यूपी15-ईटी-2139 को रोककर चेकिंग की गई तो बस के अंदर क्षमता से अधिक यात्री मिले। साथ ही ज्यादातर यात्रियों ने मास्क भी नहीं पहना था।

पुलिस ने चालक से पूछताछ की तो मालूम हुआ कि बस चालक इन यात्रियों को देहरादून से बिहार राज्य के जनपद अरहरिया छोड़ने के लिए जा रहा था। मौके पर सक्षम अधिकारी से जानकारी जुटाई गई तो 28 व्यक्तियों को ले जाने की अनुमति मिली, जबकि बस में 89 सवारी मिली। पुलिस ने वाहन का रजिस्ट्रेशन जांचा तो वह 42 सीटर मिला।

थानाध्यक्ष हेमंत खंडूरी ने वाहन चालक समीर पुत्र भूरे निवासी ग्राम बांद्रा थाना किठौर जिला मेरठ उत्तर प्रदेश और वाहन स्वामी शबनूर चौधरी पुत्र मोहम्मद असलम निवासी शास्त्री नगर मेरठ उत्तर प्रदेश के खिलाफ संबंधित धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया है। पुलिस ने बस को भी सीज किया है।

नाबालिग से छेड़छाड़ के आरोप में मकान मालिक गिरफ्तार

रायवाला थाना क्षेत्र में एक मकान मालिक पर किराए में रह रही नाबालिग किशोरी के साथ छेड़छाड़ व दुर्व्यवहार करने का आरोप लगा है। पुलिस ने पीड़ित पिता की तहरीर के आधार पर आरोपी मकान मालिक पर मारपीट सहित पोक्सो अधिनियम में मुकदमा दर्ज करते हुए गिरफ्तार किया है।

बीते रोज एक व्यक्ति ने रायवाला थाने में आकर तहरीर दी। उन्होंनें बताया कि जगदीश रयाल उनका मकान मघलिक है। तहरीरकर्ता ने बताया कि मकान मालिक की ओर से उनकी 11 वर्षीय पुत्री के साथ छेड़छाड़ और दुर्व्यवहार किया गया। मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस ने आरोपी पर संबंधित धारा में मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तार किया है। थानाध्यक्ष ने आरोपी की पहचान जगदीश रयाल पुत्र गोविंद रयाल निवासी हरिपुरकलां थाना रायवाला के रूप में कराई।

जानलेवा हमले मामले में निगम ने की विभागीय कार्रवाई, सुपरवाइजर को किया निलंबित

नगर निगम ने सुपरवाइजर विनेश कुमार पर ड्यूटी के दौरान जानलेवा हमले के मामले में विभागीय कार्रवाई की है। कोतवाली पुलिस की रिपोर्ट को आधार बनाकर निगम ने आरोपी सुपरवाइजर महेन्द्र को निलंबित किया हैए जबकि कूड़ा वाहन चालक को नौकरी से हटा दिया है।

नगर आयुक्त नरेन्द्र सिंह क्वीरियाल ने बताया कि बीते शनिवार को बापूग्राम में सुपरवाइजर विनेश कुमार के साथ हुई मारपीट के मामले में आरोपियों पर विभागीय कदम उठाया गया है। बताया कि यदि कोई कर्मचारी 48 घंटे तक हिरासत अथवा लॉकअप में बंद रहता हैए तो ऐसे कर्मचारी पर आवश्यक कदम उठाया जाता है। इसी संबंध में कोतवाली ऋषिकेश से रिपोर्ट मांगी गई थी। यह रिपोर्ट बुधवार को निगम की मिल गई है। इसमें बताया ‌गया है कि दोनों आरोपी वर्तमान में न्यायिक हिरासत में है।

रिपोर्ट को आधार बनाते हुए निगम ने सुपरवाइजर महेन्द्र सिंह पुत्र खेमचंद‌ निवासी वाल्मीकी नगर ऋषिकेश को निलंबित किया गया है। यह निगम के नियमित कर्मचारी है। इसके अलावा आरोपी महेन्द्र के पुत्र सचिन को नौकरी से बर्खास्त किया गया है। सचिन निगम में आउटसोर्स कर्मचारी था और वह कूड़ा वाहन चलाता था।

क्या है मामला
ऋषिकेश। 27 जून की शाम को बापूग्राम गली नंबर 12 में शाम करीब पौने चार बजे नगर निगम के सुपरवाइजर विनेश कुमार पर जानलेवा हमला हुआ था। पीड़ित पक्ष की तहरीर के आधार पर कोतवाली पुलिस ने सुपरवाइजर महेन्द्र सिंहए सचिनए विशाल उर्फ काका और सावन के खिलाफ हत्या के प्रयास में मुकदमा दर्ज किया था। साथ ही महेन्द्र और सचिन को गिरफ्तार भी कर लिया थाए जबकि वारदात के दो अन्य आरोपी विशाल और सावन अभी भी फरार चल रहे हैं।

नगर निगम के एक सुपरवाइजर ने दूसरे के कार्यक्षेत्र में जाकर की जान से मारने की कोशिश, दो आरोपियों को पुलिस ने किया अरेस्ट

बापूग्राम गली नंबर 12 में नाली सफाई का काम करवा रहे नगर निगम के एक सुपरवाइजर पर निगम के ही दूसरे सुपरवाइजर ने अपने तीन अन्य साथियों के साथ जाकर जानलेवा हमला कर दिया। पीड़ित की पत्नी की तहरीर के आधार पुलिस ने चार आरोपियों में से दो को पकड़ लिया है, जबकि दो अभी फरार हो गए है।

घटनाक्रम के अनुसार, बापूग्राम गली नंबर 12 में शनिवार को शाम करीब पौने चार बजे नगर निगम के सुपरवाइजर विनेश कुमार नाली साफ का कार्य करवा रहे थे। तभी निगम का एक अन्य सुपरवाइजर महेन्द्र अपने दो पुत्रों और एक अन्य युवक के साथ मोटरसाइकिल से पहुंचा। यहां चारों ने लोहे की फावड़ी व पत्थरों से हमला किया और फरार हो गए। मौके पर चीख पुकार मच गई। आनन फानन में पीड़ित सुपरवाइजर को एम्स अस्पताल ले जाया गया। यहां उनके सिर पर नौ टांके आए है।

देर रात पीड़ित सुपरवाइजर की पत्नी उमा देवी की तहरीर पर पुलिस ने आरोपियों पर हत्या के प्रयास का मुकदमा दर्ज कर लिया है। कोतवाल रितेश शाह ने दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। गिरफ्तार आरोपियों की पहचान महेन्द्र सिंह पुत्र खेमचंद और सचिन पुत्र महेन्द्र दोनों निवासी वाल्मीकी नगर घ्ऋषिकेश के रूप में हुई है, जबकि फरार लोगों की पहचान विशाल उर्फ काका पुत्र महेंद्र सिंह निवासी वाल्मीकि नगर ऋषिकेश और सावन निवासी मेरठ उत्तर प्रदेश के रूप में हुई है। कोतवाल रितेश शाह ने बताया कि फरार आरोपियों की धरपकड़ को पुलिस टीम रवाना कर दी गई।